Consultant Endodontist.
Doctor by profession, Writer by choice. बाकी तो खुद भी अपने बारे में ज्यादा नहीं जानता, रोज़ जिन्दगी जैसी चोट करती है वैसा ही ढल जाता हूँ।

Copy link to share

भूल गए सब राम। दीपावली विशेष।

लक्ष्मी सबको याद रहीं हैं भूल गए सब राम। कलयुग की चकाचोंध में मर्यादाओं का क्या काम। पैसा पैसा सब करें पैसे की है रीत। पैसे ... Read more

आंखें

।। आंखें।। बिना लफ्जों के ये करती हैं बातें अदा में सब बयाँ कर जाती आंखे। हो खुशी या गम ये सब हैं समझतीं हर हाल में संग आंसू बहा... Read more

मोहब्बत

तेरे ख्वाबों को हकीकत बना तो दूूँ तेरी उम्मीदों को बालफ्ज़ निभा तो दूँ मैं अपना यह पत्थर दिल पिघला तो दूँ कांटो भरी इस जिंदगी मे... Read more

बेटियां ना मुक्तक छंद

बेटियां होती है वो कोहिनूर जो अपनी होकर भी गैरों के घर रहती है जिम्मेदारी निभाती हैं निस्वार्थ अविरल धारा जैसे गंगा की बहती है ... Read more

न्यू ईयर

नई उमंग लेके आया नया साल, नई उम्मीदों से नाता जोड़ दो रखो साथ यादें अच्छी, बुरी साल पुराने के साथ छोड़ दो। लिखो परिभाषा कामया... Read more

प्यार का नशा

डरते हैं कहीं कहर ना बन जाये शाम सुहानी तपती दोपहर ना बन जाये रग रग में मौजूद है नाम तेरा इस कदर तेरे प्यार का नशा कहीं जहर ना बन... Read more

मोहब्बत की पहचान

मोहब्बत ना किसी से कहकर होती है जज्बातों के समन्दर में ये बैहकर होती है तबाह हो जाती हैं कितनी शख्सियतें इसमें ये तो मुश्किलें ... Read more

बचपन अच्छा था

बचपन अच्छा था, मालामाल थे अब तो भरी जेब में भी फकीरी है खरीद ना पाएं समय खुद के लिए किस काम की ऐसी अमीरी है खुश थे, लगती थी ज... Read more

मर्ज-ए-इशक

ना मुझे राम ना मुझे रहीम चाहिए ना नमक फिटकरी या नीम चाहिए मरीज हो गया हूँ मर्ज-ए-इश्क का टूटे दिल का करदे जो इलाज मुझे एैसा ब... Read more

याद है

तेरी साँसों का वो शोर याद है बरसा था जो सावन घनघोर याद है हाथ बढ़ा कर पकड़ती थीं बारिश की बूँदें जो मोहब्बत का वो हसीन दौर याद... Read more

हारना नहीं सीखा

चखे हैं जीवन के स्वाद सभी कोई फीका है कोई तीखा सबके मेल से बनता अनुभव मोल है बहुत सभी का अनुभव से ही सीखा ना मिले जीत हरदम ... Read more

शेर

।।फर्जी दुनिया।। बनते हैं शहंशाह, कहते हैं हम किसी से कम नहीं शेर हैं सब कागज़ के जनाब, है किसी में दम नहीं। ।।दिलबर।। दिलबर ... Read more

सरल हूं सरल लिखता हूँ

सरल हूं सरल दिखता हूं सरल हूं सरल लिखता हूं रोज देखता हूं अतरंगी दुनिया कभी हंसता कभी रोता हूं अपने जीवन के अनुभवों को बना मो... Read more

मोदी जी

देखो कैसे बदल रहा है भारत, लेके अपना कमाल आया है अपनी माँ की सेवा करने, देखो धरती का लाल आया है। देश की संसद पर जिसका सर झुकता... Read more

जमाना हुआ खुद से मिले

वक्त मिले तो बैठूं अपने साथ की जमाना हुआ खुद से मिले। करूँ कुछ शिकवे करुँ कुछ गिले की जमाना हुआ खुद से मिले। थे जगे ऊपर से अंदर ... Read more

स्लेट-बत्ती सी जिन्दगी

होती जिन्दगी स्लेट-बत्ती सी तो जीना कितना आसान होता। गलती होते ही मिटा देते सही करके दिखा देते धुंधली होती स्लेट तो नल के नीचे ध... Read more

मजहब हिन्दुस्तान

ना मैं सिख ना मैं ईसाई, ना ही हिंदू मुसलमान हूं मैं। ना मैं बाइबल ना मैं ग्रंथ, ना ही गीता कुरान हूँ मैं। शर्म करो मजहब पर लडने वा... Read more

कवि नहीं हूँ

लिखता हूँ पर कवि नहीं हूँ। दिखता हूँ पर सही नहीं हूँ। कुछ घाव गहरे लिए बैठा हूँ पर होंठों को में सिए बैठा हूँ। घायल हूँ तभी ल... Read more

तन्हाई

मेले लगे लग के चले गए लोग खेले खेल के चले गए वहीं रहे तो बस हम और हमारी तन्हाई। Read more