अंग्रेजी साहित्य में एम. ए., एम. फ़िल., डी. फ़िल. डॉ. राकेश जोशी मूलतः राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय, डोईवाला, देहरादून, उत्तराखंड में
अंग्रेजी साहित्य के असिस्टेंट प्रोफेसर हैं.
उनकी एक काव्य-पुस्तिका “कुछ बातें कविताओं में”, एक ग़ज़ल संग्रह “पत्थरों के शहर में”, तथा हिंदी से अंग्रेजी में अनूदित एक पुस्तक “द क्राउड बेअर्स विटनेस” अब तक प्रकाशित हुई है.

Copy link to share

हर सफ़र में सफ़र की बातें हैं

हर सफ़र में सफ़र की बातें हैं चंद सपने हैं, घर की बातें हैं एक दरिया है आरज़ूओं का बेवफ़ा हमसफ़र की बातें हैं हर ख़बर की ख़बर जो र... Read more

जो ख़बर अच्छी बहुत है आसमानों के लिए

जो ख़बर अच्छी बहुत है आसमानों के लिए वो ख़बर अच्छी नहीं है आशियानों के लिए इस नए बाज़ार में हर चीज़ महंगी हो गई बीज से सस्ता ज़... Read more

हर तरफ गहरी नदी है, क्या करें

हर तरफ गहरी नदी है, क्या करें तैरना आता नहीं है, क्या करें ज़िंदगी, हम फिर से जीना चाहते हैं पर सड़क फिर खुद गई है, क्या करें ... Read more

जैसे-जैसे बच्चे पढ़ना सीख रहे हैं

जैसे-जैसे बच्चे पढ़ना सीख रहे हैं हम सब मिलकर आगे बढ़ना सीख रहे हैं पेड़ों पर चढ़ना तो पहले सीख लिया था आज हिमालय पर वो चढ़ना स... Read more

आज फिर से भूख की और रोटियों की बात हो

ग़ज़ल आज फिर से भूख की और रोटियों की बात हो खेत से रूठे हुए सब मोतियों की बात हो जिनसे तय था ये अँधेरे दूर होंगे गाँव के अब ... Read more