संक्षिप्त परिचय
————————— .
पूरा नाम : डॉ मधु त्रिवेदी
पदस्थ : शान्ति निकेतन कालेज आॅफ
बिजनेस मैनेजमेंट एण्ड कम्प्यूटर
साइंस आगरा
प्राचार्या,
पोस्ट ग्रेडुएट कालेज आगरा
***************
कोर्डिनेटर
* राजर्षि टंडन ओपन यूनिवर्सिटी
* एन आई ओ एस आन लाइन यूनिवर्सिटी
❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤❤
उप संपादक “मौसम ” पत्रिका में
☞☜☞☜☞☜☞☜☞☜☞☜
2012 से फेसबुक पर सक्रिय
♬♬♬♬♬♬♬♬♬♬
अवार्ड
👌 सारस्वत सम्मान- विश्व मैत्री मंच द्वारा
👌 श्रेष्ठ साहित्यकार अवार्ड – ताज लिटरेचर क्लब द्वारा(मानीय सांसद एस पी सिंह बघेल जी के कर-कमलों द्वारा)
👌 Zenial राष्ट्रीय समाचार पत्रिका द्वारा क्वीन आफ आगरा का सम्मान
साहित्यिक सफरनामा :
2015 में
“सत्य अनुभव है “
आन लाईन पत्रिका में प्रकाशित हुई ।
मैगजीन जिनमें प्रकाशित
India Ahead
स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका
अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका
झकास डॉट काम
हिंदी लेखक डॉट काम
हारीजन हिन्द
साहित्य मंजूषा
प्रतिलिपि
अनुभव पत्रिका
अमृतम
जय विजय
वेब दुनिया
मातृभाषा मंच
भोजपुरी मंच
शब्द नगरी
रचनाकार
पाख़ुरी
शब्दों का प्याला
सहज साहित्य
साहित्य पीडिया
पल -पल मीडिया
होप्स आन लाइन पत्रिका
साहित्यायन
सुवर्णा
निसृत
भारतदर्शन अन्तराष्टीय पत्रिका
अखबार जिनमें प्रकाशित
अमर उजाला
हिलव्यू (जयपुर )
सान्ध्य दैनिक (भोपाल )
सच का हौसला अखबार
लोकजंग
ज्ञान बसेरा
शिखर विजय
नवएक्सप्रेस
अदबी किरण
सान्ध्य दैनिक
ट्र टाइम्स दिल्ली
आदि अखबारों में रचनायें
विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका
इसके अतिरिक्त विभिन्न शैक्षिक शोध पत्रिकाओं
में लेख एवं शोध पत्र
आगरा मंच से जुड़ी
Blog Meri Dunia
साझा संकलन
काव्योदय
गजल ए गुलदस्त
विहंग गीत
शब्दों का प्याला
निसृत
काव्य साहित्यिका
email -madhuparashar2551974@gmail.com
trivedimadhu785@gmail.com
रूचि —
लेखन कवितायें ,गजल , हाइकू लेख
250 से अधिक प्रकाशित
साहित्यिक मंचों पर सक्रिय
Reference Books Written by Me —
“टैगोर का विश्व बोध दर्शन
नागार्जुन के काव्य साहित्य में प्रगतितत्व

Copy link to share

कल उल्लंघन

कर मर्यादा का उल्लंघन वो मेरी ओर तोप दागता है क्या हश्न होगा युद्ध का न मैं जानता हूँ न वो जानता है चीन विस्तार वादी नीति क्य... Read more

जीवन संघर्ष

जीवन है सघंर्ष जो अविराम चलता रहेगा आना और जाना होगा तय धुरी करता रहेगा कितने ही बाँध बाँधे कितने प्रवाह रोके हमने पर सृष्टि सृज... Read more

रणभेरी

सुनाई देती है रणभेरी प्रभो आकर वतन को बचालो टूट रही है सांसे अपनों की प्रभो आकर ं इन्हें बचालो पलट कर देखिये वो अस्तपाल जो ... Read more

वसुधा है शूरवीरों की

वसुधा है शूरवीरों की साहसी योद्धा और कर्मवीरों की । हारे जो न कभी हिम्मत ऐसे राणा और शूरवीरों की ।। मान देश का निज प्रान से ब... Read more

गजल

उदधि बिन लहर का गुजारा नहीं था मगर बिन मिलन भी पियारा नहीं था सहे अनगिनत जख्म जब इश्क म़ें वे बना जो बंधन कब करारा नहीं था ज... Read more

मुक्तक

सँवर कर हूर होतै जा रहे है नशे में चूर होते जा रहे है खता कर वो हमारे साथ ऐसी नजर काफूर होते जा रहे है Read more

रोटी

ओ रोटी रोटी ओ रोटी रोटी आटा नहीं दाल नहीं साग सब्जी फल नहीं बन्द हो या लाक डाउन बट चाहिए सबको रोटी भूख का नो लाक डाउन आगे प... Read more

वतन

वतन ऐसा कि सब देता रहा हूँ उठा कर सिर सदा जीता रहा हूँ हलाली कर रहे गद्दार जो अब तभी उपचार भी करता रहा हूँ बसा है प्यार दिल ... Read more

वक्त ये कैसी इन्साफी

वक्त ये कैसी इन्साफी रिश्ते जाने कहाँ खो गये जो अब तक बगल वो अब अनजाने से हो गये उस प्रसूता की भी क्या कहानी जिसके पास कोई नहीं ... Read more

कौम की बेटी रोई बीते साल में

स्वागत है तेरा 2020 भूल जा जो बीत गई नये पलक खोल देख कोन द्वार पर है नव वर्ष वेलकम वेलकम वेलकम हैप्पी न्यू ईअर क्या न ह... Read more

देख तुझकों

देख तुझको जब तराने आए बाहु के झूले झुलाने आए फूट पड़ती है अविरल अश्रु धारा याद हमको जब पुराने आए कह न पाए बात अपनी तुमसे जब ... Read more

नैन झुके रहेगें

मुहब्बत में जब नैन झुके रहेगें तभी आपके हम दिवाने रहेगें नजर फेर जब तुम कदम बढाओ पड़े हम सदा रोज पीछे रहेगें किसी भी दिवस आप... Read more

हमारे बुजुर्ग

जब बुढापे में पड़े है झाइयाँ डर लगे है देख कर परछाइयों बाल बच्चे जब न कहना मानते बाप माँ की फट पड़े तब छातियाँ आज सोशल मीडिय... Read more

लजा कर ठहर जायेगें

लजा के मुहब्बत ठहर जाएंगे हुआ हाल ऐसा किधर जाएंगे शमा जब जले बाति को देख कर तुझे ढ़ूढ़ तब ये नजर जाएंगै रचूँ याद में गीत तेरे ... Read more

पुलवामा अटैक

मुल्क मेरा डस रहे है नाग ये काले कई सुन जवानों की शहादत आज दिल दहके कई देख कर इनकी शहादत आसमां भी रो रहा याद में इनकी न घर में ... Read more

जिन्दगी को नाम तेरे

जिन्दगी को नाम तेरे कर मुहब्बत क्या करूँ ख्वाहिशें तेरी दहकती तो सियासत क्या करूँ आयना तू रुप का मेरा बना है आज जब तब किसी के ... Read more

नये वर्ष में

नये वर्ष में गम पुराने भुलायें नये रास्तों पर पगों को बढ़ायें थिरक कर सुरों ताल पर आज फिर से समय आप सबका अनोखा बुलायें नयी आस... Read more

आज वापस

आज वापस द्वार दिल के राजरानी भेजना याद जिसकी रोज आए दिल बसानी भेजना प्रीत की मल्हार मुझको जो सुनाए रोज हर जख्म पर मरहम लगाए वो ... Read more

हमें आपका

हमें दिल आपका छलना क्यूँ नहीं आया नमक घावों छिड़कना क्यूँ नही आया खिले जब जिन्दगी तेरी उन गुलाबों सी कंटक के बीच खिलना क्यूँ नह... Read more

घिरा अगर तू

घिरा है अगर तू कहीं आफतों से दुआएँ बचाए तुझे हादसों से डगर राजनीतिक कठिन हो गयी है पड़े है बँधे लोग कुर्सियों से करे वो बुरा... Read more

चूम लेगा

चूम लेगा समन्दर लहर पर तटों को न होगी खबर हो गयी है मुहब्बत उसे इसलिए बन गए हमसफर बँध गए प्यार के वो बंधन इसलिए चाहिए एक घ... Read more

माँ

माँ **** माँ तो बस माँ कहलाए हिरदय माल हमें बनाती है। हर सांस अपनी कर कुर्बान जीवन जीवंत बनाती है।। नेह उसका बरसे अपार बारिश... Read more

अखण्ड सुहागिन

अखण्ड सुहागिनें तके राह चाँद तुम जल्दी आना बस तेरे नाम की भरे आह चाँद उतर दिल समाना चाँद तुम जल्दी आना बैठी हूँ कर सौंलह ... Read more

आँसू गिराने लगे

आँसू गिराने लगे नैन तूने निकाला तब रूमाल पोंछे अधर तक ढुलकते मेरे मुहब्बत अश्क तूने Read more

अटल सा धुव्र

वो अटल सा ध्रुव तारा कहाँ गया दिव्य ज्योति का दाता कहाँ गया कवि कुलदीप पत्रकार प्रखर वक्ता आकाश का दिव्य सितारा कहाँ गया हर फ... Read more

अटल

जब पलटोगें इतिहास एक पुंज नजर आयेगा बन कर युगपुरुष वो राह विश्व को दिखाऐगा मौत खुशी मना रही है जिया को हुलसा रही है चाँद म... Read more

ऐ साथी

ऐ साथी मेरे जीवन के ले चल तू साथ आज अपने छोड़ रीति दुनियाँ की अब तू नित्य सजा प्रीति साज अपने हाथ हाथ में ले मेरा तू सँभाल ल... Read more

नाकाम व्यवस्था

जमाना सख्त होकर जब किसी को सताएगा तभी कोई लड़े जंग और तलवारे उठाएगा व्यवस्था हो चली नाकाम इतनी आज ऐसी क्यों उठा आवाज अपनी बात को... Read more

पापा

पापा तुम स्वरूप दाता पापा तुम माते सिंदूर हो पापा तुम जीवन दाताऔं मेरे भाग्य विधाता हो। पापा ने पाकर मुझे खोया अपने को ... Read more

पिता

जन्म देकर इस जहाँ में आप ही लाये पिता कर मुरादें आज पूरी जाँ लुटाये है पिता गोद में खेली सदा तेरी जहाँ से बे खबर झूलती ही मैं ... Read more

पिता की गोद फैल जाऊँ

मन करता है फिर से , पिता की गोद फैल जाऊँ दिल करता है फिर से,प्यारा सा बच्चा बन जाऊँ होठों पर खिलूँ फिर से,पलाश सा खिल जाऊँ टू... Read more

माँ--पिता

माँ जन्म दायिनी है तो पिता प्यार का उदधि है माँ पालन कारिणी तो पिता सर्व साधन जलधि है माँ लुटा देती सुख चैन पिता हौसला देता है ... Read more

रिश्तों की मंडियां

रोज रिश्तों की सजती यहाँ मंडियाँ खूब लगती रही है यहाँ बोलियाँ मोल देकर मिलेगी पिता को खुशी गर न तो जिन्दगी भरभरे सिसकियाँ बे... Read more

माँ

एक सेतु सा बनाती पिता और मेरे बीच माँ ममता का पेड लगाती मधु फल भी खिलाती माँ दुख से राहत वो देती सुबह की पावन धूप सी मा... Read more

आप मेरे पास आओ जरा

आप मेरे पास तो आओ जरा फिर बिना पूछे नहीं जाओ जरा तुम मिली हो अब बहुत दिन बाद जो प्यार का इजहार भी कर लो जरा छोड़ जाओगे अकेले... Read more

मर्द कोई न अब

मर्द कोई न अब यहा पाया कर्ज माँ दूध का चुका पाया जन्म दे पालने झुलाती माँ पर न उसको कभी थका पाया एक माँ ही उसे मिली ऐसी गो... Read more

ख्याव आकर वो मिलेगी

ख्याव आकर वो मिलेगी देखना आयना बन कर दिखेगी देखना ख्याल मेरे जब बसे हर रोज तू जिन्दगी मेरी सजेगी देखना बात मेरी गर न मानेगी ... Read more

इस जमीन को अपना बना

इस जमीं भू को अपना बना प्यार से मुँह कभी तू न लग अब किसी यार से तू इधर औ उधर मत करे आज फिर मिल हमेशा चले तू तो परिवार से व्य... Read more

आग वो क्यों लगाये है

आग वो लोग क्यों लगाये है वो किसी के बहुत सिखाये है देश का लूटता अमन अब फिर कोन नजरें यहाँ लगाये है हो गये है सभी घरों में ब... Read more

आग वो क्यों लगाये है

आग वो लोग क्यों लगाये है वो किसी के बहुत सिखाये है देश का लूटता अमन अब फिर कोन नजरें यहाँ लगाये है हो गये है सभी घरों में ब... Read more

इख्लास

इख्लास दिल न हो तो कहाँ गुजारे है इतिबारे न रहे मन तो बँटबारे है नदियाँ की धार बन बहो हिरदय तल में टकराओ उनसे जो बने किनारे है... Read more

पंक्षी

पक्षियों को आबोदाना हो गया गर्म मौसम जल पिलाना हो गया हो परेशां जब भटकते है कही घोंसला बुन कर ठिकाना हो गया भर रहे उन्मुक्त ... Read more

बच्चे

बलवान असद से दिखते है पर बच्चे नादान नहीं है नये -नये कौतुक वे करते माँ से यह अनजान नही है अब्द हो गये मोबाइल के अक्षर ... Read more

मौसम

मौसम ------------- चले जो पुरवईयाँ , अंग -अंग सिहर जाए काम -धाम छोड़ के , गोरी खड़ी इतराए मौसम सारे बारि -बारि आए पिया ... Read more

मैं माँ हूँ

मैं माँ हूँ मैं माँ हूँ माँ का दर्द समझती हूँ कब मुस्कुराती कब रोती हर पीड़ा समझती हूँ आज जो बेटी है कल उसको माँ बनना है ... Read more

मुस्कराहट

मुस्कराहट नारी की बिखरी है दुनियाँ पूरी मुस्करायी कालजयी है अमृत स्रोत मयी नारी समायी है नहीं किसी से कम वह मनवायी है यह... Read more

दर्द दिल की बता दवा क्या है

दर्द दिल की बता दवा क्या है प्यार का अब मिला सिला क्या है बात हर रोज हुआ करती थी जो अब बता दे मिली सजा क्या है चाह का जब नशा... Read more

तुम -----फबती हो

गजल चाहत के मकान में तुम रहती हो दिल के दरपन में तुम फबती हो जब पहने हीरे का हार गले में नभ में बिजुली सी मुझको लगती ... Read more

दर्द

दर्द ✍✍ दर्द का तूफान हो तब गजल बनती है मर्ज प्रेम का गंभीर हो गजल सजती है आह से दिल की पीर जब बयां होती है सिसकियों में त... Read more

जब याद आता

जब याद आता ❤❤❤❤❤❤ जब मन मेरा जब अकुलाता है याद प्यारा बचपन आता है वो थपथपाता हाथ स्पन्दन पा का बार बार समझाता है टीचर ... Read more