डॉ मधु त्रिवेदी
प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा
स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका
अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका
झकास डॉट काम
जय विजय
साहित्य पीडिया
होप्स आन लाइन पत्रिका
हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल )
सच हौसला अखबार
लोकजंग एवं ट्र टाइम्स दिल्ली आदि अखबारों
में रचनायें
विभिन्न साइट्स पर परमानेन्ट लेखिका

Copy link to share

जिन्दगी को नाम तेरे

जिन्दगी को नाम तेरे कर मुहब्बत क्या करूँ ख्वाहिशें तेरी दहकती तो सियासत क्या करूँ आयना तू रुप का मेरा बना है आज जब तब किसी के ... Read more

नये वर्ष में

नये वर्ष में गम पुराने भुलायें नये रास्तों पर पगों को बढ़ायें थिरक कर सुरों ताल पर आज फिर से समय आप सबका अनोखा बुलायें नयी आस... Read more

देख किशन को राधा

किशन को देख राधा बाबली है पड़ी उसकी नजर जो सांवली है चली आती सुनी जो बाँसुरी धुन बनी श्यामा उसी की लाड़ली है कदम्बे चढ़ चुर... Read more

सिला देना

कभी यूँ रूठकर हमको मुहब्बत का सिला देना मनाऊँ आपको हर छन न फिर से यूँ थका देना घुमड़ बदरा कहे जब हाल तेरे इश्क का हमसे नयन के इ... Read more

बन्धन में मुहब्बत

बन्धन में मुहब्बत के हर रोज बधे होंगे सारी कठिनाई को हम दूर करे होंगे होगा मन तेरा व्याकुल वक्त किसी तो मैं हर पल डग मेरे तेरे... Read more

बला खूबसूरत

बला खूबसूरत दिखे चाँदनी तू मगर चाँद तेरा निकलता नहीं है पिया रूप तेरे लिए ही सजा जब जरा जेहन में उतरता नहीं है Read more

असत पर सत्य

असत पर सत्य को अब जिताए सभी रामराज्ये धरा पर बनाए सभी आज रावण सदाचार से युक्त ना रोज हर मिल उसे हम जलाए सभी Read more

आज वापस

आज वापस द्वार दिल के राजरानी भेजना याद जिसकी रोज आए दिल बसानी भेजना प्रीत की मल्हार मुझको जो सुनाए रोज हर जख्म पर मरहम लगाए वो ... Read more

दीप को बाति से

दीप को बाति से जो प्यार मिला तेल को जिन्दगी उधार मिला रात भर जल वजूद को खोती गिर जमीं पर उसे निसार मिला दीप दिल में जले मुह... Read more

नयन के बिना

नयन के बिना प्रेम पलता नहीं है पले जब कहाँ आह भरता नहीं है अधूरी रहे साँस पिय याद में जब इधर औ उधर चित्त रमता नहीं है Read more

हमें आपका

हमें दिल आपका छलना क्यूँ नहीं आया नमक घावों छिड़कना क्यूँ नही आया खिले जब जिन्दगी तेरी उन गुलाबों सी कंटक के बीच खिलना क्यूँ नह... Read more

घिरा अगर तू

घिरा है अगर तू कहीं आफतों से दुआएँ बचाए तुझे हादसों से डगर राजनीतिक कठिन हो गयी है पड़े है बँधे लोग कुर्सियों से करे वो बुरा... Read more

चूम लेगा

चूम लेगा समन्दर लहर पर तटों को न होगी खबर हो गयी है मुहब्बत उसे इसलिए बन गए हमसफर बँध गए प्यार के वो बंधन इसलिए चाहिए एक घ... Read more

माँ

माँ **** माँ तो बस माँ कहलाए हिरदय माल हमें बनाती है। हर सांस अपनी कर कुर्बान जीवन जीवंत बनाती है।। नेह उसका बरसे अपार बारिश... Read more

मुक्तक

जब नजर तेरी पड़ी हम खूबसूरत हो गए अब जुदा कैसे रहे जब आप आदत हो गए हम तुझे सस्ते लगे इतने कि इक दो बार में राह तुझको क्या मिले ... Read more

अखण्ड सुहागिन

अखण्ड सुहागिनें तके राह चाँद तुम जल्दी आना बस तेरे नाम की भरे आह चाँद उतर दिल समाना चाँद तुम जल्दी आना बैठी हूँ कर सौंलह ... Read more

लिख देना

पैर में पायल पहन झनकार लिख देना यूँ दिखा अपनी अदा फनकार लिख देना साज सारे लग रहे सूने न जाने क्यों पास मेरे आ इजहार लिख देना ... Read more

गीत तेरी प्रीत के

गीत तेरी प्रीत के मचले से सागर तो नही है वेदना से सिक्त कोई प्रेम गागर तो नही है प्यार की परिणति गहन होकर मिटाने है लगी जब घाव ... Read more

आँसू गिराने लगे

आँसू गिराने लगे नैन तूने निकाला तब रूमाल पोंछे अधर तक ढुलकते मेरे मुहब्बत अश्क तूने Read more

मी टू

छपे मी टू हकीकत और क्या है बयानी ये हरारत और क्या है कदम जब इश्क बीथी डगमगाये जगी दिल की शरारत और क्या है छिड़े जंग चाहतों मे... Read more

अटल सा धुव्र

वो अटल सा ध्रुव तारा कहाँ गया दिव्य ज्योति का दाता कहाँ गया कवि कुलदीप पत्रकार प्रखर वक्ता आकाश का दिव्य सितारा कहाँ गया हर फ... Read more

अटल

जब पलटोगें इतिहास एक पुंज नजर आयेगा बन कर युगपुरुष वो राह विश्व को दिखाऐगा मौत खुशी मना रही है जिया को हुलसा रही है चाँद म... Read more

देश को बचालो

अब देश को बचालो अपने ही दुश्मनों से वह प्रभु सदा बचाये देश मुश्किलों से पलते रहे दिलों में यूँ भेद आज हममें होता रहा सदा बँटवारा... Read more

मुक्तक

छोड़ धरती को चढ़े अम्बर गये एक दूजे के बने दिलबर गये इश्क़ का सुन्दर सलोना सा जहाँ डूबकर जिसमें गहन सागर गये Read more

ऐ साथी

ऐ साथी मेरे जीवन के ले चल तू साथ आज अपने छोड़ रीति दुनियाँ की अब तू नित्य सजा प्रीति साज अपने हाथ हाथ में ले मेरा तू सँभाल ल... Read more

नाकाम व्यवस्था

जमाना सख्त होकर जब किसी को सताएगा तभी कोई लड़े जंग और तलवारे उठाएगा व्यवस्था हो चली नाकाम इतनी आज ऐसी क्यों उठा आवाज अपनी बात को... Read more

वतन ये मेरा

वतन ये मेरा, पुष्पित होती जहाँ असीम स्नेह की फुहार जहाँ गलती होने पर दिल के बंधनों में हार स्वीकार बहती जहाँ रगो में सतत निर्म... Read more

पापा

पापा तुम स्वरूप दाता पापा तुम माते सिंदूर हो पापा तुम जीवन दाताऔं मेरे भाग्य विधाता हो। पापा ने पाकर मुझे खोया अपने को ... Read more

पिता

जन्म देकर इस जहाँ में आप ही लाये पिता कर मुरादें आज पूरी जाँ लुटाये है पिता गोद में खेली सदा तेरी जहाँ से बे खबर झूलती ही मैं ... Read more

पिता की गोद फैल जाऊँ

मन करता है फिर से , पिता की गोद फैल जाऊँ दिल करता है फिर से,प्यारा सा बच्चा बन जाऊँ होठों पर खिलूँ फिर से,पलाश सा खिल जाऊँ टू... Read more

माँ--पिता

माँ जन्म दायिनी है तो पिता प्यार का उदधि है माँ पालन कारिणी तो पिता सर्व साधन जलधि है माँ लुटा देती सुख चैन पिता हौसला देता है ... Read more

मुक्तक

कोई दिखता जब भूखा भोजन को खिला देना घर में रहता तू बेघर को भी तो बसा देना तू काम किसी के आया अब तक न इसलिए नादान दिलो़ में भगवान... Read more

गजल

इन अधर पर रची ये लाली है सिर से नख तक छवि निराली है हाथ कंगन पहन लगे प्यारी कवि ने उपमा जमीं बुलाली है नायिका ख्याव नैन से झ... Read more

रिश्तों की मंडियां

रोज रिश्तों की सजती यहाँ मंडियाँ खूब लगती रही है यहाँ बोलियाँ मोल देकर मिलेगी पिता को खुशी गर न तो जिन्दगी भरभरे सिसकियाँ बे... Read more

माँ

एक सेतु सा बनाती पिता और मेरे बीच माँ ममता का पेड लगाती मधु फल भी खिलाती माँ दुख से राहत वो देती सुबह की पावन धूप सी मा... Read more

आप मेरे पास आओ जरा

आप मेरे पास तो आओ जरा फिर बिना पूछे नहीं जाओ जरा तुम मिली हो अब बहुत दिन बाद जो प्यार का इजहार भी कर लो जरा छोड़ जाओगे अकेले... Read more

खुदा की शरण

उस खुदा की शरण नफा पाया आज तक कों नही दगा पाया चूर होता घमण्ड में नर जब दर्प पर्दा तभी हटा पाया दिल किसी का नही दुखाया जब त... Read more

मर्द कोई न अब

मर्द कोई न अब यहा पाया कर्ज माँ दूध का चुका पाया जन्म दे पालने झुलाती माँ पर न उसको कभी थका पाया एक माँ ही उसे मिली ऐसी गो... Read more

ख्याव आकर वो मिलेगी

ख्याव आकर वो मिलेगी देखना आयना बन कर दिखेगी देखना ख्याल मेरे जब बसे हर रोज तू जिन्दगी मेरी सजेगी देखना बात मेरी गर न मानेगी ... Read more

कभी हँसाती है जिन्दगी

कभी हमको हँसाती है कभी हमको रूलाती है मिलन के गीत गाकर जिन्दगी तुझको पास लाती है गुजरती हूँ गमों की छाँव हो जब ऐ जिन्दगी सकूने ... Read more

जुल्म नारी पर मत ढहाना

अब जुल्म नारि पर ऐसा तुम नहीं ढहाना उसको समझ खिलौना कोई नहीं सताना भू आसमां करे बातें बैठ रोज जैसे कन्धा मिला गगन तक ऊँचा उसे ... Read more

इस जमीन को अपना बना

इस जमीं भू को अपना बना प्यार से मुँह कभी तू न लग अब किसी यार से तू इधर औ उधर मत करे आज फिर मिल हमेशा चले तू तो परिवार से व्य... Read more

आग वो क्यों लगाये है

आग वो लोग क्यों लगाये है वो किसी के बहुत सिखाये है देश का लूटता अमन अब फिर कोन नजरें यहाँ लगाये है हो गये है सभी घरों में ब... Read more

आग वो क्यों लगाये है

आग वो लोग क्यों लगाये है वो किसी के बहुत सिखाये है देश का लूटता अमन अब फिर कोन नजरें यहाँ लगाये है हो गये है सभी घरों में ब... Read more

इख्लास

इख्लास दिल न हो तो कहाँ गुजारे है इतिबारे न रहे मन तो बँटबारे है नदियाँ की धार बन बहो हिरदय तल में टकराओ उनसे जो बने किनारे है... Read more

पंक्षी

पक्षियों को आबोदाना हो गया गर्म मौसम जल पिलाना हो गया हो परेशां जब भटकते है कही घोंसला बुन कर ठिकाना हो गया भर रहे उन्मुक्त ... Read more

आग घर में

आग घर में लगाना नहीं है उस धुएँ को बढ़ाना नहीं है एक बारे लगे जो दिलों में बस मुहब्बत घटाना नहीं है बँट गये आज अपने सदा को... Read more

बच्चे

बलवान असद से दिखते है पर बच्चे नादान नहीं है नये -नये कौतुक वे करते माँ से यह अनजान नही है अब्द हो गये मोबाइल के अक्षर ... Read more

मौसम

मौसम ------------- चले जो पुरवईयाँ , अंग -अंग सिहर जाए काम -धाम छोड़ के , गोरी खड़ी इतराए मौसम सारे बारि -बारि आए पिया ... Read more

हमें गर छुआ तो मुहब्बत न होती

हमें गर छुआ तो मुहब्बत न होती सुबह शाम तेरी इबादत न होती निहारे मुझे इक नजर यूँ न हमको बताऊँ तुझे सच नज़ारत न होती दवा इश्क ... Read more