Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD

Muhamdi, Lakhimpur kheri

Joined April 2018

M.D.(Medicine),DTCD
Ex.Senior Consultant Physician,district hospital, Moradabad.
Presently working as Consultant Physician and Cardiologist,sri Dwarika hospital,near sbi Muhamdi,dist Lakhimpur kheri U.P. 262804 M.9415559964

Books:
1.”माँ का आँचल” साहित्यपीडिया द्वारा प्रकाशित काव्य सँग्रह भाग-2 मेँ उपलब्ध (2018)
2. 15 रचनाएँ साहित्यपीडिया पर प्रकाशित, जो कि वेबसाइट पर उपलब्ध।

Awards:
1.YP films द्वारा प्रस्तुत “आरक्षण बना नासूर-2018” के मुहूर्त पर विशिष्ट अतिथि के रुप मेँ सोशल पीपुल्स सोसाइटी के राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा शील्ड प्रदान कर सम्मानित।
2. साहित्यपीडिया द्वारा प्रशस्तिपत्र (2018)

Copy link to share

"अप्रिल फूल"

हिय हरषैँ, बरसैं सुमन, मनहीँ मन कछु गात, गईँ घरैतिन मायकै, खबर सुनी जब आज। धन्य-धन्य भगवान हूँ,धन्य उनन के काज, जैसी मेरी सुनि ... Read more

"कान्हा की होली"

माखन चोर,भयौ चितचोर, जु बहियाँ पकरि कै, करत बरजोरी, ग्वालन सँग,जु भरि सब रँग, करति हुड़दंग, जु खेलति होरी। रँग लगाइ,कपोलन पै,जु च... Read more

ख़िराज-ए-अक़ीदत

बिन कह के कुछ भी,सब,कोई बयान कर गया, चुपके से कोई, मुल्के-जाँ-निसार कर गया। मौक़ा भी मिल सका कहाँ ,तौफ़ीक़-ए-नुमायाँ, अपनों क... Read more

बासन्ती मनुहार

तुम राधा का अमर प्रेम, हो कान्हा की मनुहार तुम्हीँ, तुम्हीँ व्योम की अभिलाषा, हो धरती का श्रंगार तुम्हीँ। तुम्हीँ चपल चँचल चितवन... Read more

"माँ का आँचल"

आ के सँसार मेँ, ममतामयी मूरत पाई, लुटाने प्यार को,हर वक्त मेरी माँ आई। गिरना, उठना, या फिर चलना भी सिखाने आई, पहला अक्षर भी सिख... Read more

"आशा"के दीप

दीप का उत्सव, बधाई हृदय से स्वीकार हो, शत्रुता हो दूर, सबसे मित्र सा व्यवहार हो। प्रकृति हो धन-धान्य पूरित, धरा का श्रृंगार हो, ... Read more

"चाँदनी रात"

चाँद है, शब है, उनकी याद है, तनहाई है, फिर कोई टीस, मेरे दिल की उभर आई है। चाँदनी रात मेँ मिलने का, था क़रार हुआ, शुक़्रिया ... Read more

"कृष्ण महिमा"

आज दिनांक 03/09/2018 को "जन्माष्टमी "की बधाई देते हुए, "कृष्ण की महिमा" पर एक रचना प्रस्तुत है-- देवकीनंदन कहूँ, गोकुल का या प्या... Read more

'श्रद्धांजलि'

शब्द हैँ निःशब्द, अरु है लेखनी भी मौन, तार वीणा के हैँ घायल, राग छेड़े कौन। गीत हैँ गुमसुम, कहानी हो चुकी ख़ामोश है, उनके स्वर मे... Read more

"हसरत-ए-दीदार"

इश्क़ को जब से हमने दिल में बसाया"आशा", दाग़ तो मुफ़्त मेँ, जागीर मेँ सहरा पाया। क्या हुआ मुझको, यही बात पूछते हैं सब, ... Read more

"कल्पना"

कहाँ गई वह सरल,सौम्य, मधुरिम,अप्रतिम, अल्हड़ बाला, सुघड़, बुद्धि से प्रखर, तनिक जिज्ञासु, लिए यौवन आभा। मेरे उर मेँ दग्ध अभी तक,सत... Read more

"लिहाज़"

कितने अल्फ़ाज़ मिटाए हैं यूँ लिखकर मैंने, उनकी मर्ज़ी की है जो बात, वो जानूँ कैसे। दिल में जो बात है, होठोँ पे मैं लाऊँ कैसे, हद ... Read more

"इन्तज़ार"

ख़ुदाया मुझ पे भी इतना सा तो करम कर दे, दिल के कोने में उनके थोड़ी सी जगह दे दे। ज़हन में उनका तसव्वुर ही महकता है मेरे, उन्ह... Read more

गोरी की होली

हिय मे उमंग भरि,प्रीति की तरँग सँग, बिन कोऊ रँग,काहे गालन पे लाली है ! काहे सकुचाति, अरु काहे को लजाति,सखि, पूरे एक बरस के बाद ... Read more

बौराया बसन्त

फूलि,मुसकाति, खड़ी सरसौँ भले हो खेत, जौबन कौ भार लगै गेहुँन पै भारी है। अँबुआ लजात उत बौरन के भार सौँ, कोयल की कूक सब रागन ते न्या... Read more