दिनेश एल० "जैहिंद"

मशरक, सारण ( बिहार )

Joined January 2017

मैं (दिनेश एल० “जैहिंद”) ग्राम- जैथर, डाक – मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन को अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों में भी संघर्ष कर चुका हूँ ।

Books:
___

Awards:
___

Copy link to share

गीत : तू जाग कविता

गीत: तू जाग कविता छोड़ लज्जा, उतार घूँघट, ले हाथों में तलवार । तू जाग कविता इस भारत का कर कुछ उद्धार ।। कबतक रहेगी सुस्त बनी ... Read more

गीत : मौसम

** मौसम ** // दिनेश एल० “जैहिंद” मौसम ने तो ली अँगड़ाई,, बहने लगी अब पुरवाई ।। सजनी ने आवाज़ लगाई,, मैं आई, मैं आई, मैं ... Read more

[[[ प्रेरणा गीत ]]]

प्रेरणा गीत: आदमी हो आदमी बनकर ¤दिनेश एल० “जैहिंद” आदमी हो आदमी बनकर तो देखो हर संकटों में खड़ा तनकर तो देखो स्वर्ग यही ... Read more

गीत : आओ चलो....... !

गीत:--- आओ चलो चलें हमदम ¤दिनेश एल० “जैहिंद” आओ चलो चलें हमदम मेरे धरती के पार । अब महफूज नहीं हैं हम और हमारा प्यार ।। आओ ... Read more

गीत : तेजस्वी आत्माएँ

गीत: तेजस्वी आत्माएँ ¤दिनेश एल० “जैहिंद” ( 1 ) वे सारी तेजस्वी आत्माएँ याद हैं...... निज देश का गौरव तथा सौरभ अतीत क... Read more

गीत : वसंत ऋतु

गीत : वसंत ऋतु ¤दिनेश एल० “जैहिंद” बुलबुल गाए, कोयल कूके, पपीहा मचाए शोर । मैना चहके, मुर्गे के कूकने से अब हो जाए भोर ।। बड़... Read more

## प्रेम गीत ##

प्रेम गीत @ दिनेश एल० “जैहिंद” धड़कनों में आप आकर देखिए । दिल में ये बात लाकर देखिए ।। अकेले कटता नहीं ये सफर । है मुश्क... Read more

क्या-क्या नाम दूँ !!!

क्या-क्या नाम दूँ !!! // दिनेश एल० “जैहिंद” कटीली, रसीली, नशीली हैं ये गोरियाँ छबीली, सजीली,रंगीली हैं ये गोरियाँ और भला क... Read more

हाँ, ये दिल !

हाँ ये दिल ! // दिनेश एल० “जैहिंद” सम्भाले मुश्किलों में जो, गुनगुनाए खुशियों में जो, दर्द मे तड़पता बड़ा ये दिल, कौन है य... Read more

### मेरा कवि मन कहता है......

#### मेरा कवि मन कहता है.... @ दिनेश एल० "जैहिंद" किसी मजलूम की आवाज़ बनकर उसकी आवाज़ दूर-दूर पहुँचाऊँ । किसी लाचार, बेबस,... Read more

प्यार हुआ तब,,,,

गीत / दिनेश एल० "जैहिंद" ल से लड़का ल से लड़की ल से हुआ लव लड़का लड़की दोनों मिले प्यार हुआ तब We’re love-birds ! ??‍❤️‍??‍❤... Read more

तू मेरी मधुशाला

+++ तू मेरी मधुशाला +++ तेरी आँखों की गलियों में है मेरी मद्दशाला ।। मैं तो भूल जाऊँगा दुनिया की हर मधुशाला ।। तेरा श्रृं... Read more

नारी-मन

###नारी-मन मेरे नारी-मन की अनवरत प्रगति हो । कुछ ऐसे ही अविरल मेरी उन्नति हो ।। हो ये... Read more

अकेले - अकेले

(((( अकेले-अकेले )))) हम हैं, अकेले ही सही, हम अकेले चले ये जग जीतने ! जब आस जगे, बिश्वास जगे, तब जाके यहाँ कोई बात बने !! ... Read more

खामोशी

((( ख़ामोशी )))) दिखता काला अहित कहीं !! ये ख़ामोशी कुछ ठीक नहीं !! ( 1 ) अपने जो कहलाते हैं ! वही जो रिश्ते-नाते हैं !! व... Read more

**** नारी और जीवन ****

[[[[ नारी और जीवन ]]]] फूलों का बिछावन नहीं ज़िंदगी,, चैन का निंद्रासन्न नहीं जिंदगी || संपूर्ण संघर्ष है औरतों के लिए,, ज़िंद... Read more

+++ गीत/बेवफा +++

गीत --- [[[बेवफ़ा]]] जी करता है जी भर कोसूँ ,, मैं अब तो उस कुदरत को || गिरगिट की तरह क्यूँ रब ने,, बनाया हुस्न की फितरत को |... Read more

### मंजिल-मंजिल गाता चल ,,,,,, !

गीत -- ""नई राह के सब हैं राही, चलना सबका है काम | है रुकना मौत के सदृश, रुकने का न लेना नाम ||"" मंज़िल-मंज़िल गाता चल, ह... Read more

### मेरा दिल मेरा आईना दिखा दे ....... !

गीत / दिनेश एल० "जैहिंद" मेरा दिल मेरा आईना दिखा दे | सारी दुनिया को ये सच बता दे || (१) कल क्या था मैं आज क्या हूँ ? कल कहाँ... Read more

#### चेहरा तो लग रहा है ,,,,,,,,

**** गीत **** सिवा आपके कुछ नज़र नहीं आता जिधर देखता हूँ आप ही आप हो !! आपकी तारीफ़ में कुछ ज़्यादा गर कह जाऊँ, तो मेरी गुस्... Read more

**** जिंदगी ***

[[[[ ज़िंदगी ]]]] दिनेश एल० "जैहिंद" ये जिंदगी क्या है....? पल दो पल का खेला है !! ये दुनिया क्या है....? पल दो पल का मेला है... Read more

((( एक है सूरज यहाँ...... )))

गुलिस्तां के फूल #दिनेश एल० "जैहिंद" " हिंदू, मुस्लिम, सिख, ईसाई सब हैं इस गुलिस्तां के फूल | ... Read more

(((( वात्सल्य ))))

==== वात्सल्य ==== •दिनेश एल० "जैहिंद" मैं क्या जानूँ वात्सल्य-रस क्या होता है !!? मेरा मन मात-तात हेतु तिल-तिल रोता ... Read more