Dimpal Khari

Saini,Dadri,Greater Noida G.B.Nagar (U.P) India

Joined May 2018

M.sc( maths),b.ed

Copy link to share

रिश्तों की कम होती अहमियत ....

आज के इस बदलते युग में जहाँ रिश्तों की परिभाषा बदली है साथ साथ रिश्तों की अहमियत भी बदल गयी है ।जब एक बच्चे का जन्म होता है तभी से व... Read more

पुलवामा के शहीद

पुलवामा का हाहाकार, मचा देश भर मे हैं आज । भूल में बैठें हैं जन सारे, आतंक का हो गया आग़ाज़। उन माँओं की आँख से , आँसू निरंतर ... Read more

मेरी माँ

माँ की ममता का कोई मोल नहीं, माँ जैसा कोई अनमोल नही। कभी सागर की गहराई सी , कभी पर्वत की ऊंचाई सी । कभी गंगा जैसी सुरसरिता , सब... Read more

बाल मज़दूरी.....

एक नन्ही सी जान का, हो गया जीवन कुर्बान। देख जूझती बीमार माँ को, और बहन का भूखा पेट। नन्हे हाथ में ले ली कुदाल, चल पड़ा बाल मजद... Read more

राखी का त्यौहार

आया पावन राखी का त्यौहार, हैं ये भाई बहन का प्यार। सूनी कलाई पर भाई की , जब बहन की राखी सजती हैं। अपनी रक्षा करने का बस, वचन ... Read more

15 अगस्त पर्व आजादी का......

15 अगस्त आया पर्व आजादी का , दिन था वह अंग्रजो की बर्बादी का। शहीद हुए थे वीर शूरमा , आजाद कराने भारत को। नम हो जाती है आँखे सबक... Read more

दर्द का आलम हमें .....

बैठे थे तन्हा, जहन में ख्याल आया कई दफा, करीब थे जो शख्स मेरे आज हैं वो क्यूँ खफ़ा। खामोशिया उनकी हमें ये मर यूं ही डालेंगी, तोड़ क... Read more

बलात्कार में ज़िम्मेदार सोशल मीडिया ....

आज दुनिया में बलात्कार का औसत बड़ी तेजी से बढ़ता जा रहा हैं। लोग एक दूसरे पर कीचड़ उछाल रहे हैं परंतु यह मानने से कतराते की हैं कि इस ... Read more

हँसी लबों से छूट गयी .....

हँसी मेरे लबों से कही छूट सी गयी, खुशियां न जाने क्यूँ हमसे रूठ सी गयी। जी रहे हैं तन्हा हम अपनी जिंदगी, साथ अपनों का था जैसे खु... Read more

गज़ल

अनजानी राहों में अनजाने शहरों में , मेरे हमदम घूरती निगाहें बहुत हैं। किस डगर हम चले ऐ मेरे हमनशीं , हर कदम यहाँ निशाने बहुत हैं।... Read more

एक माँ की व्यथा.......

एक दुखियारी माँ के दिल की व्यथा मैं सुनाऊ, हँसकर भी क्या गुजरे उसपर ये तुम्हे मैं बताऊ। बच्चो के लिए सब कुछ सहती हैं वो, दर्द अपन... Read more

चली जो कलम.......

चली जो कलम तो अफसाना लिख गया, ये तो मेरे प्यार का फ़साना लिख गया। कितनी शिद्दत है मेरे प्यार में, प्यार बिकता नही किसी बाजार में। ... Read more

पैसा

पैसे से अपने भी दूर हो जाते हैं, पैसे का ये कैसा खेल देखो। कभी हुए थे जो दुश्मन , उनका फिर तुम मेल भी देखो। सबसे अहम् हैं माना ज... Read more

फैशन का दौर

हाय!फैशन का ये दौर देखों, कलियुग कैसा घनघोर देखों। कपडों के नाम पर हद बदल गई फटी जींस फैशन में चल गई। तन ढकता नही अब , फैशन के ... Read more

बेटी के जन्मदिन पर दिल की दुआ

आई घर में मेरे, छोटी सी गुड़िया मेरी। खुशियों की बहार, संग लायी हैं मेरी। दामन में न हो कोई गम तेरे, माँ बाप का आशीष हैं संग तेर... Read more

वृक्ष धरा पर अनमोल हैं

वृक्ष धरा पर अनमोल हैं, बिन वृक्ष दुनिया डांवाडोल हैं। स्वयं धूप में रहकर के , हमको छाया देते हैं। अपनी जड़ी बूटियों से , निरोगी... Read more

गाँव

इन शहरों से तो , ये गाँव ही अच्छे हैं। बोली चाहे हो खड़ी, पर दिल उनके सच्चे हैं। गांव में मिलता हैं, मिलनसार का भाव। शहरों में ... Read more

वीर सिपाही

इस भारत के वीर सिपाही, तुम देश की शान बढ़ाओगे। कितनी भी कठिनाई आये, तुम सबको दूर भागाओगे। जनता का विश्वास हो तुम, भारत माँ की आस... Read more

अपना जब कोई दूर जाता हैं........

अपना जब कोई दूर जाता हैं, ये दिल कितना टूट जाता हैं। याद में उनकी हम रोये हर पल, प्यारी थी उनकी हर गल। लौट के आओगे तुम कब, ये य... Read more

जिंदगी सब कुछ कह जाती हैं

जिंदगी के उजियारों में , सत्ता के गलियारों में । ये लब कुछ कहे न कहे, ख़ामोशी सब कुछ कह जाती हैं। अपनी जिंदगी की , खुशिया लुटाये... Read more

कमी कुछ भी नही

कमी कुछ भी नही, फिर भी कमी सी लगती हैं। ये आसमां ये जमीं , कुछ थमी सी लगती हैं। बहती हुई कश्ती को एक किनारा चाहिए। इस बेनाम जि... Read more

मेरे पिता

पिता हैं बरगद की छाया, जिसके नीचे हम पले-बढ़े। कितने भी दुख आये हम पर, पिता ही सम्मुख खड़े रहे। बोली में थी कितनी कटुता, दिल मे... Read more

काश ,हम छोटे हो जाते.....

काश ,हम फिर छोटे हो जाते , गोद में माँ की फिर सो पाते। माँ की ममता का आँचल, अब याद बहुत आता हैं। कभी छोटे थे अब बड़े हो गए, यूं ... Read more

आई आँधी

आई आँधी, आई आँधी आसमान में बिजली कौंधी। बिजली हो गई घर की गुल, खिड़की भी गई सारी खुल। अम्बिया भी अब पेड़ से झड़ गयी, पतंग हमारी सर... Read more

बिटिया

मम्मी की मैं जान हूँ, पापा का अरमान हूँ। भईया की मैं हूँ गुड़िया, सबकी आफत की पुड़िया। दादा-दादी की राजदुलारी, नाना-नानी की बिटिय... Read more

ऐसे तुम इंसान बनो

ढूंढ लेते हैं जो गम में भी खुशी, उनके होठों से न दूर होती हंसी। हौसले भी हो जिनके बुलंद, मार्ग न हो उनके कभी बंद। ऐसे तुम इंसा... Read more

सितारों की दुनिया

आसमां है ये सितारों से भरा, राज हैं इनमें कोई गहरा। सितारे भी कहते हैं कहानी अपनी, टिमटिमाते हुए जुबानी अपनी। कहती हैं माँ एक है... Read more

सफलता की सीढ़ी

चारो तरफ माहौल ग़मगीन था। एक तरफ सफ़ेद कपडे में लिपटा शव रखा था,सभी की आँखों से आंसू बह रहे थे ।यह मात्र 18 बरस का लड़का रमेश था। अपने... Read more

प्रेम समर्पण

मेरा सब कुछ अर्पण तुझको, मेरा प्रेम समर्पण तुझको। सब कुछ खोकर पाया तुझको। नही चाह अब कुछ भी मुझको। अपना सब कुछ वार दिया, तूने क... Read more

बरखा का मौसम

बरखा का मौसम जब-जब आया, मीत कोई बिछड़ा फिर याद आया। सपने दिल कई संजोने लगा, मन भी कही गुनगुनाने लगा। कभी साथ थे हम उनके सदा, निभ... Read more

नारी शोषण

जमाना चाहे कितना बदला , पर बदले नहीं अभी इंसान। हर क्षेत्र में नारी आगे, फिर भी नही मिलता सम्मान। अहोदा चाहे ऊँचा हो गया, सोच क... Read more

जिंदगी के बसंत

अर्पण है तुझे ,समर्पण है तुझे मेरी जिंदगी के बसंत। यादों में तू,वादों में तू मेरे लफ्जो में तू है अनंत। मीत मेरे तू जीत मेरी, ल... Read more

आदमी का जिस्म.....

आदमी का जिस्म है जो, इससे ही बनता जहाँ। नहीं हैं ये चिरस्थायी, सबको मिटना हैं यहाँ आना -जाना हैं ये क्रम, जिंदगी भी है एक भ्रम।... Read more

बारिश

बारिश का शोर हैं, बादल घनघोर हैं। दम दम जो बिजली दमकी, डर से जो ऐसे छिपे, मानो कोई चोर हैं। झम-झम जो आँधी चली, दौड़े बच्चे गली-... Read more

एक फौजी की माँ की पुकार

लौट आओ अब तुम बीत गए कई साल, छोटी बहना करती हैं मुझसे कई सवाल। कब आएंगे मेरे भईया रक्षाबंधन निकल गया, न कोई संदेशा आया करुणा क्रं... Read more

जिंदगी का सहारा

जिंदगी को जिंदगी का सहारा चाहिए, वो सहारा भी हमे बस तुम्हारा चाहिए। टूटे सपने टूटी आशा, झूठी हैं अब हँसी। तन्हा-तन्हा हैं जिंदगी... Read more

4G का जमाना

यह 4Gका जमाना हैं अब रिश्तों को भी 4G में ही निभाना हैं। दिल से दिल का रिश्ता ख़त्म हुआ, अब फेसबुक ,वाट्सअप ही प्रथम हुआ। वाट्सअप... Read more

कन्याभूर्ण हत्या

बेटों की चाहत में बेटियों को कोख में मार दिया जाता हैं। जिंदगी जीने से पहले ही मौत का उपहार दिया जाता हैं। बेटियों को बोझ समझते ... Read more

बिछड़े यार

मेरा यार ये कहाँ चला , क्यों बिछड़ गया ये क्या हुआ। न हम कहे न वो कहे , कैसा ये समां बंधा हुआ। अपना साया बनाकर हमे जब तू चला, क... Read more

मेरा बचपन

बचपन का जब जिक्र हुआ ताजा हो गई सब यादे। जब निश्छल मन था मेरा अब हो गए झूठे वादे। कभी अश्कों भरी आँखे , कभी हँसते हुए चहरे । ... Read more

नारी दुर्दशा

जस्टिस फ़ॉर आसिफा का नारा सब ले लेते है, पुनः कांड निर्भया हो जाता फिर कुछ दिन रो लेते है। कौन नहीं जाने उन नरभक्षी हत्यारों को , ... Read more

मेरी माँ

माँ की ममता का कोई मोल नहीं, माँ जैसा कोई अनमोल नहीं । कभी सागर की गहराई सी, कभी पर्वत की ऊँचाई सी। कभी गंगा जैसी सुरसरिता , स... Read more