Dheerja Sharma

Chandigarh

Joined November 2018

Govt teacher, poet,author, qualified astrologer, anchor.
4 children poetry books published
Received national award for literature from manav sansadhan vikas mantralay, Bharat Sarkar.in 2002 for my book ‘Mela’ for Neo Literats.

Copy link to share

मुक्तक

उम्र बहुत जी ली ज़िन्दगी जीने लगी हूँ मैं कभी कभी अपनी बात भी कहने लगी हूँ मैं। धीरजा शर्मा Read more

मुक्तक

) तू भी तो बदल कभी खुद को ए ज़िन्दगी। सदा मैं ही बदलूँ खुद को ये अच्छी बात नहीं।। Read more

लघुकथा--- दादी

दादी माँ की आकस्मिक मृत्यु के बाद दादी हमारी देखभाल के लिए यहाँ चली आयीं।पापा का पहले ही स्वर्गवास हो चुका था। अब घर में तीन जन थे... Read more

बेटे की विदाई

बेटे की विदाई का मौका जब भी आता है उसकी तैयारी को जैसे सारा घर जुट जाता है। जूते चप्पल घड़ी चार्जर ढूँढ़ो तो ही मिलते हैं ऊपर से... Read more

छोटे छोटे प्रयास

सूरज भी कहाँ छू लेता है शिखर एक ही बार में अनन्त आकाश में। अपनों का साथ छोड़ना पड़ता है। चाँद सितारों से मुख मोड़ना पड़ता है। ... Read more

छोटे छोटे प्रयास

सूरज भी कहाँ छू लेता है शिखर एक ही बार में अनन्त आकाश में। अपनों का साथ छोड़ना पड़ता है। चाँद सितारों से मुख मोड़ना पड़ता है। ... Read more

माँ

जब कभी रिश्तों की गुत्थियां उलझ उलझ जाती हैं, तो माँ जाने कब चुपके से पास चली आती है। मेरे ख्यालों में उभरती है एक पुरानी सी तस्... Read more