DESH RAJ

Joined January 2017

Copy link to share

“ माँ गंगा ”

गंगा कल-कल करती जाती अविचल , मन है जिसका चंचल, हृदय स्वच्छ निर्मल , बह जाते जिसमें सारे के सारे दावानल , फिर भी जल है जिसका रहता ... Read more

नन्हें फूलों की नादानियाँ

गुलशन को आग के हवाले करके खुश हो जाते हैं, नन्हें फूलों की नादानियों पर मद-मस्त हो जाते हैं I फूलों की नगरी में क्यों एक खामोसी ... Read more

** तेरा बेमिसाल हुस्न **

जब तेरे कदम इतने सुंदर तो तेरा चेहरा कितना खूबसूरत होगा ? जब तेरे नैन इतने मतवाले तो तेरा दिल कितना खूबसूरत होगा ? तेरे “ बेमिस... Read more

तमन्नाओं का संसार

तमन्नाओं की सीमा जिंदगी को पार कर आगे चली गई, बेचारी जिंदगी पीछे छूट गई तमन्ना बहुत आगे बढ़ गई I कोई “माया” की तमन्ना में अपना ह... Read more

मेरी चुनरिया

जिस “ हाल ” में रखे तू उस हाल में खुश हूँ , तेरी नज़रों के अहसाने करम से मैं खुश हूँ I तेरी एक नज़र से मेरी जिंदगी की बगिया महक ... Read more

आखिरी पड़ाव

वो क्या जिंदगी-२ है ? जो किसी के ओठों पर मुस्कान न ला सके, मालिक के अनमोल नूर को जहाँ में जरूरतमंदो को न बाँट सके I अब क्यों ?जि... Read more

नसीब

जतन कितने भी कर ले तू , मिलेगा उतना जितना है तेरे नसीब में, ईमान से ले या फरेब से ले, मिलेगा उतना जितना है तेरे नसीब में, कर्म क... Read more

जीवन मेला

जीवन मेला “जहाँ” में इसी तरह चलता ही रहेगा , मेले का यह कारोबार सजता और उजड़ता रहेगा I बिछुड़कर भी उनको अपना असली मुकाम मिल गया,... Read more

सुंदर बाग़

इतिहास के पन्नों से “ सुंदर बाग़ ” की भावी किस्मत लिखने चले हैं, “सबक” न लेकर नन्हें पौधों को नफरत की आग में जलाने चले हैं I बाग़... Read more

नववर्ष का संकल्प

नववर्ष का प्रारम्भ हर एक आँगन में प्यार का फूल खिलाकर करें, देश में हम अमन, इंसानियत, प्रेम का पौधा घर-२ में लगाकर करें I हर... Read more

“माटी ” तेरे रूप अनेक

“माटी” तेरा कोई मोल नहीं इस सारे जहाँ में , तेरे प्रेम का कोई जोड़ नहीं इस सारे जहाँ में , कभी खिलौना, कभी मूरत तो कभी तू “दिया”... Read more

फूल की महक

फूल वो फूल नहीं जो अपनी महक दे न सके गुलशन को , चन्दन वो चन्दन नहीं जो शीतलता दे न सके उपवन को I फूल को गुमान है कि वह केवल अपने... Read more

“आनंद ” की खोज में आदमी

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए , जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I खुशबूदार हवा... Read more

मेरे सनम

मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया, तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I तेरे नैनो ने मुझे दरिया ... Read more

शहीद की बहन और राखी

मेरे प्यारे भैय्या, आपने मेरी राखी की लाज निभाई , “माँ भारती” की सीमाओं की रक्षा करते जान गवांई I इस वर्ष आप नहीं लेकिन आपकी याद... Read more

भारत की जमीं

वो हँस रहे इंसानियत पर , कहते है सारा जमाना है उनके साथ , गिला मत कर इंसान “ जग के मालिक का प्यार ” है तेरे साथ I “जहाँ” में ह... Read more

मोतियों की सुनहरी माला

मत तोड़ो मोतियों की सुनहरी माला बिखर जाएगी , फिर अगर बिखर गई तो कभी भी नहीं जुड़ पायेगी I सुंदर फूलों की इस बगिया में काँटों का व... Read more

अनोखी सीख

नफरत को नफरत से मिटाने की अनोखी सीख हमें दे रहे , “बारूद के शोलों” से घरों का अंधेरा मिटाने की सीख दे रहे I गुलशन के फूल बनने की... Read more

मोरे सैंया

तरस रही तुम बिन मोरी अंखियाँ दरस दिखा जाओ सैंया , दर-2 भटकूँ , तेरी राह निहारूं ,दरस दिखा जाओ मोरे सैंया I नैन तुम्हारे सागर... Read more

दुर्घटना का दंश

बेबस जिंदगियों को जीवन की पुकार करते नहीं देखा आज से पहले , पल भर में जिंदगी को इस तरह मुहँ मोड़ते नहीं देखा आज से पहले I “प्रेम ... Read more

चिड़िया का घोंसला

“ चिड़िया ” घोंसला छोड़कर आसमान से पार उड़ गई ,हम बस देखते रह गए , सूनी हो गई पेड़ की पत्ती-डालें , हम आसमान की ऊंचाईयों को देखते रह गए... Read more

“ विश्वास की डोर ”

कठिन पथरीली राहों पर चलकर जीवन की मंजिल पा ही लेंगे , जमाना कुछ भी कहे, दिलों में मोहब्बत का “दिया” जला ही देंगे I “विश्वास की ड... Read more

“ गंगा ” का सन्देश

गंगा कल-कल करती जाती अविचल , मन है जिसका चंचल, हृदय स्वच्छ निर्मल , बह जाते जिसमें सारे के सारे दावानल , फिर भी जल है जिसका रहता ... Read more

प्रेम की किताब

मन–मंदिर में एक दिन मेरी नज़र एक किताब पर पड़ गई , इस अनोखी किताब को पढ़कर मेरी तक़दीर ही बदल गई , “जग के मालिक” के प्यार की दौलत मेरी... Read more

जुल्म की इन्तहा

“ जुल्म की इन्तहा ” करके “ जहाँ ” में वो वफ़ा की उम्मीद करते , खुशियाँ छीनकर “जग के मालिक” से खुशियों की उम्मीद करते I प्या... Read more

“ पगडंडी का बालक ”

गाँव की पगडंडी से गुजरते हुए एक बालक को हमने देखा, नन्हें हाथों में बस्ता, उसकी आँखों में आशा की किरणें देखा I उसके पेट में भूख... Read more

सच्चा रिश्ता

रिश्तों को देखा मौसम के रंग की तरह बदलते हुए, मोतियों को देखा “प्यार की माला ”से बिखरते हुए , आदमी को देखा नफरत के चक्रव्यूह में ... Read more

परदेश

एक दिन परदेश छोड़कर तुझे दूर अपने “देश ” है जाना , सखी, तू क्यों होती है उदास , तुझे “पिया” घर है जाना I रिश्ते- नाते छोड़कर तुझे “प... Read more

कश्मीर की तस्वीर

एक दिन सपने में देखा अपना प्यारा कश्मीर, “स्वर्ग से सुंदर ” धरा की उजड़ी हुई तस्वीर I आदमी को आदमी का लहू पीते देखा , इंसान को भ... Read more

“माँ भारती” के सच्चे सपूत

नफरत की फसल उगाकर बहुत मुस्करा रहे वो, इंसानियत का जनाज़ा निकालकर मुस्करा रहे वो I इन्सान-इन्सान को बाँट कर क्या मिल जायेगा तुम... Read more

तेरी सूरत

जहाँ भी देखता हूँ , इस “जहाँ” में तेरी सूरत नज़र आती है, तेरी सूरत में इस “ जहाँ ” की सारी खुशियाँ नज़र आती है , तेरी एक नज़र ने मु... Read more

जिंदगी की रेस

दूर तक बस केवल एक सन्नाटा नज़र आता है, सन्नाटे में आदमी को सिर्फ भागते हुए पाता हूँ I जिंदगी को रेस बनाकर हम कहाँ दौड़ते जा रहे ... Read more

अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)

उपवन में हमने देखा एक अनोखा गुलाब, उसके रंगों में था, प्रेम - प्यार का शबाब , काँटों के मध्य उसमें थी , उमंग बेहिसाब, सभी को दिय... Read more

खूबसूरत तस्वीर

दिल की हसरत है कि तुझसे मिलकर अपने प्यार का इजहार करूँ, हर एक दिन तेरी खूबसूरत तस्वीर को दिल से लगाकर दीदार करूँ I तेरे सुन्द... Read more

बस एक ही भूख

जिंदगी की राह में चलते-चलते आज मायूस हो गए, माया की दुनिया में लक्ष्य से हटने पर मजबूर हो गए I कभी अरमान था कि एक महकता गुलिस्ता... Read more