मैं दीपिका दीप्ति हूँ बैजनाथ यादव की नंदनी,
पटना जिला में जन्मी हूँ माँ है विन्ध्यावाशनी,
नवोदय की शिक्षिका हूँ पी.जी. की विद्यार्थी।
सबसे अच्छा सबसे प्रिये लेखनी मेरा साथी ।।
.
आठ फरवरी तिरानवे को दुनिया में आयी हूँ,
 दीप के जैसा बनने का मैं सपना सजायी हूँ,
चरित्र मेरी पूंजी है रचनाएँ जीवन की थाती।
सबसे अच्छा सबसे प्रिये लेखनी मेरा साथी।।
.
दिल की बात स्याही में समेटता मेरा कलम,
शब्दों की सुंदर फूलों से सजाती हूँ मैं चमन,
ये तमन्ना है लेखनी मेरा पाये जग में ख्याती।
सबसे अच्छा सबसे प्रिये लेखनी मेरा साथी।।
.
-दीपिका कुमारी दीप्ति

Copy link to share

फौजी की बंदूक

फौजी की बंदूक अगर माँ होता मेरे पास में। भारत माँ के खातिर लड़ता फौजियों के साथ में।। पापाजी से पैसे लेकर फौजी ड्रेस सिलवाता, का... Read more