गंधर्व लोक कवि पंडित नंदलाल शर्मा

पात्थरवाली,भिवानी,हरि.

Joined January 2017

पंडित नंदलाल शर्मा,पात्थरवाली,हरियाणा के महान गंधर्व कवि हुए हैं। तत्काल रचना बनाना अौर श्रोताओं को सुनाना उनमें ये विशेष गुण विद्यमान था।

Copy link to share

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -४)

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -४) ४-मन रोकने का नाम सम भाषते सुधीर, इंद्रियों को मारना दम कहैं बुद्ध वीर, सर्प शत्रु ... Read more

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -३)

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -३) ३-अविनाशी आत्मा चल जगताते प्रतिकूल, उसी को विवेक कहैं सभी साधनों का मूल, होता जब वै... Read more

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -२)

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -२) २-क्षुधा लगै ना फिर ऐसी मांग भीख ले, प्यास ना सतावै चूस ज्ञान रूपी ईंख ले, चार साधन... Read more

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -१)

मन खुद डटज्यागा रचना व्याख्या सहित (कली -१) टेक--मन खुद डटज्यागा,सीख गुरु से शिक्षा। व्याख्या--कवि कहता है,हे मानव तेरा मन पर ... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रंमाक--10

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रंमाक--10 वार्ता--अर्जुन द्वारा... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रंमाक--09(दौड़)

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रंमाक--09(दौड़) दौड़-- कैलाशी काशी के वासी अविनाशी तुम करो दया, हाथ जोड़ स्तुति करता धरता ध्यान ... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रंमाक--09

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रंमाक--09 वार्ता--अर्जुन अब मछल... Read more

किस्सा द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रंमाक--08

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रंमाक--08 वार्ता--जब साधू भेष मे... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--07(दौड़)

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--07(दौड़) दौड़-- बोल्या रा... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--07

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--07 वार्ता--स्वयंवर को अब... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--06

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--06 वार्ता--द्रौपदी सभा म... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--05

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--05 वार्ता--दुर्योधन के क... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--04(ख)

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--04(ख) टेक--विष देदे विश्... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--04(क)

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--04(क) टेक--दिलदार यार के... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--04(दौड़)

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--04(दौड़) दौड़-- वीर क... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--04

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--04 वार्ता--जब राजा शल्य ... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--03

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--03 वार्ता: राजा शल्य द्र... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--02

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वंयवर अनुक्रमांक--02 वार्ता: जब राजा द्रोप... Read more

किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--01

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--द्रौपदी स्वयंवर अनुक्रमांक--01 वार्ता--पांचाल नरेश द... Read more

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--23

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--23 वार्ता--सखी सहेलियां और नगरी क... Read more

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--22

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--22 वार्ता--विषिया श्रृंगार करके म... Read more

कवि भगत व्यापारी भुखे भाव के होते

*गंधर्व लोक कवि श्री नंदलाल शर्मा जी की अनमोल रचना* संग्रहकर्ता---श्री राजकुमार शर्मा अटेला टेक- कवि भगत व्यापारी भुखे भाव... Read more

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--21

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चन्द्रहास Vol--21 टेक-दर्द ऐ दिल नैं सेकण दयो हे,जीज... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--20

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--20 वार्ता--चंद्रहास चिट्ठी ले जाकर... Read more

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--19

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--19 वार्ता--विषिया महल की छत पर चढ... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--18

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--18 वार्ता--जब चंद्रहास सो कर उठता ... Read more

किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--17

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चन्द्रहास अनुक्रम--17 वार्ता--सभी सखियां विषिया से च... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--16

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--16 वार्ता--एक सखी जब चंद्रहास को स... Read more

किस्सा - - चंद्रहास अनुक्रम--15

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा - - चंद्रहास अनुक्रम--15 वार्ता--विषिया और उसकी सखिय... Read more

किस्सा -- चन्द्रहास अनुक्रम--13

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा -- चन्द्रहास अनुक्रम--13 टेक -- कांच का बखोरा कोरा म... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--14

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--14 वार्ता--चन्द्रहास बाग में विश्र... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--12

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--12 वार्ता--चंद्रहास कुंतलपुर पहुँच... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--11

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--11 टेक--बख्त पङे बिन कहो माणस का क... Read more

भक्ति और तपस्या करणा आपा मारे हो सै

पं नंदलाल जी की एक बेहतरीन रचना.... टेक-भक्ति और तपस्या करणा आपा मारे हो सै, घर बसणे की रीत जगत मै सोच विचारे हो सै। १-काग बु... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--10

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--10 वार्ता-- लड़के की भगवान के प्रति श... Read more

किस्सा--चंद्रहास क्रमांक--8

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास क्रमांक--8 वार्ता-- जब धृष्टबुद्धी दिवान लड... Read more

किस्सा--चंद्रहास--अनुक्रम-7--दौड

किस्सा--चंद्रहास--अनुक्रम-7--दौड दौड़-- सुणो ऋषि या बात किसी मेरी प्रीत बसी मूर्ति के म्हां, बोल्या लड़का होग्या धड़का गड़बड़... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--7

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--7 टेक- धुरी टिकाणी टूट गई यो पड़्य... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--6

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--6 वार्ता--धाय माता के स्वर्गवास के... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--5

**नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ** ***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अन... Read more

किस्सा---चंद्रहास अनुक्रम--4

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा---चंद्रहास अनुक्रम--4 वार्ता--कुंतलपुर में रहते हुए ध... Read more

किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--3

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रहास अनुक्रम--3 वार्ता-- धाय माता लड़के को लेके कु... Read more

किस्सा--चंद्रह्रास अनुक्रम--2 किस्सा--चंद्रह्रास अनुक्रम--2

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा--चंद्रह्रास अनुक्रम--2 वार्ता-- चंद्रह्रास के जन्म के... Read more

किस्सा--चंद्रह्रास अनुक्रम--1--पुत्र जन्मा बटी बधाई

***जय हो श्री कृष्ण भगवान की*** ***जय हो श्री नंदलाल जी की*** किस्सा-- चंद्रह्रास अनुक्रम--1 वार्ता-- कुरूक्षेत्र युद्ध के प... Read more

वंदना...

पं नंदलाल जी की बेहतरीन रचना..... करुणा कर कृष्ण कृपालु, कृपा कर भगवान तुही, दीनानाथ दयाल दयानिधि, दामोदर भगवान तुही ।।टेक।। ... Read more

विराट पर्व:द्रोपदी-भीम संवाद--कौण सुणै किसनै कहदूं

विराट पर्व:द्रोपदी-भीम संवाद टेक- कौण सुणै किसनै कहदूं एक ऐसी बात हुई सै हो हो मेरे राम, किसे बैरी मै भी मत बणियो जो म्हारै साथ ... Read more

विराट पर्व:(द्रौपदी-कीचक संवाद): ऐसी वाणी मतना बोलै

विराट पर्व:(द्रौपदी-कीचक संवाद) टेक--ऐसी वाणी मतना बोलै कोन्या मैनै सुहावै पापी, राम करै तूं भी रोवैगा जितनी मैनै रूवावै पापी! ... Read more

उपदेश-- कालु काल बीच महापाप हो रहे

श्री नंदलाल जी ने एक रागनी मे कलयुग का वृतांत बहुत ही सुंदर तरीके से किया है! टेक--- कलुकाल के बीच महा पाप हो रहे,भाई किसी का ना ... Read more

विराट पर्व:तेरे जैसी बीर दुसरी जहान मैं कोन्या

विराट पर्व: नंदलाल जी की एक बेहतरीन रचना.... टेक: तेरे जैसी बीर दुसरी जहान मैं कोन्या, तुर्की बेल्जियम अमेरिका जापान मैं कोन्या।... Read more

छाती मै घा कर दे

नदंलाल जी की लुगाई के बारे मे एक बेहतरीन रचना... टेक: छाती मै घा कर दे,कड़वा बोल लुगाई का! बड़े बड़े नै पाट्या कोनी तोल लुगाई का... Read more