मेरा परिचय

नाम दिनेश दवे
पिता का नाम श्री बालकृष्ण दवे
शैक्षणिक योग्यता :बी ई मैकेनिकल इंजीनियरिंग,
एम बी ए
लेखन एवं प्रकाशन : विगत पांच वर्षो से लेखन, अभी तक साँझा प्रकाशन ,
पता 2/एल आई पी एल ब्लाक, केमिकल स्टाफ कॉलोनी, बिरलाग्राम, नागदा, जिला उज्जैन,
मध्यप्रदेश
पिन 456331
मोबाइल 9826045953

Copy link to share

शाम को तो सूरज डूबना चाह रहा है

शाम को तो सूरज डूबना चाह रहा है चाँद आसमां को चूमना चाह रहा है।। देश सेवा का आया अवसर होड़ लगी कहाँ कोई मौका चूकना चाह रहा है।। ... Read more

चाँद दिन में निकलने लगा है

मेरी कलम से ... चाँद दिन में निकलने लगा है वो तो दिल में उतरने लगा है ।। छा गया इश्क़ ए आसमां पे खूब ही वो चमकने लगा है।। ... Read more

रक्षा बन्धन पर्व को समर्पित पंक्तियाँ ..

रक्षा बन्धन पर्व को समर्पित... हाँ बहन शरारती है तू कर मदद उभारती है तू।। बाँध नेह डोर भाई को। आरती उतारती है तू।। लाड़ ख... Read more

देश प्रेम की सभी बच्चों में आग तो देखो!

देश प्रेम की सभी बच्चों में आग तो देखो। देश प्रेम की कभी बजाकर राग तो देखो।। हर तरफ लगी है होड़ सत्ता हथियाने की । कौन कर रहा शतरं... Read more

चाँद की रखता तो वो है चाहत!

रदीफ़ .नही है क्या! हो गया चुप बोलता नही है क्या राज दिल के खोलता नही है क्या।। थाम लेता एक दफा अगर दिल से हाथ फिर वो छोड़ता... Read more

अंधेरो पर उजियारे का फरमान है जिंदगी..

अंधेरो पर उजियारे का फरमान है जिंदगी.. अंधेरों पर उजियारे का फरमान है जिंदगी रखती कितने खूबसूरत अरमान है जिंदगी।। समेटना होगा... Read more

चाँदनी आग बन जब जलाने लगी!!

गीतिका चाँदनी आग बन जब जलाने लगी याद हमदम तेरी खूब आने लगी ।।1 अब कटे रात दिन ख्याल में बस तेरे मैं तेरे खूब सपने सजाने लग... Read more

चाँद दिन में निकलने लगा है !!

चाँद दिन में निकलने लगा है!! चाँद दिन में निकलने लगा है वो तो दिल में उतरने लगा है ।। छा गया इश्क़ ए आसमां पे खूब ही वो चम... Read more

बाग़ को फिर आज महका दीजिये

बाग़ को फिर आज महका दीजिये बिन पिलाये मीत बहका दीजिये ।।1 आग सावन ने लगाईं खूब जो और इसको आज दहका दीजिये।।2 साज दिल के बज उठ... Read more

पानी की बून्द!

सागर कहलाती हो तुम होकर भी पानी की बून्द मत होना अलग तुम सागर से कभी भी तुम्हारा अस्तित्व जुड़ा है इसी से सागर में तुम समाहित हो ... Read more

नाम कैसे दे दूँ!

तेरे मेरे सपने ... अपने प्यार को सपना नाम कैसे दे दूँ सपने तो अक्सर अधूरे ही रह जाते है अपने प्यार को धड़कन कैसे नाम दे दूँ ज... Read more

बच्चा बच्चा सिपाही है भारत माँ का

देश भक्ति पर लिखने का प्रयास .... बच्चा बच्चा सिपाही है भारत माँ का बच्चा बच्चा सिपाही है भारत माँ का बड़ी भूल होगी अगर इ... Read more

मॉर्निंग वॉक पर कुछ पंक्तियाँ..

सेहत के वास्ते मॉर्निंग वॉक ... कुछ पंक्तियाँ .. 1....कलियाँ फूल पत्ते झुकी डालियाँ और बहती शीतल हवायें सुबह सुबह की चहल कदमी म... Read more

मॉर्निंग वॉक..

1....कलियाँ फूल पत्ते झुकी डालियाँ और बहती शीतल हवायें सुबह सुबह की चहल कदमी में मिलती ये सेहत की दवायें 2 मॉर्निंग वॉक करके म... Read more

पत्थर हूँ नींव का ..नींव में ही रहूँगा

दो मुक्तक .... 1.. पत्थर हूँ नींव का ,नींव में ही रहूँगा मेरी गौरव गाथा मैं खुद ही कहूँगा इमारतें मेरे दम पर ही खड़ी रहती पुण्य... Read more

कुछ कह ले दिल

कुछ कह ले दिल .... सागर से गहरे दिल ,फिर भी न बहले दिल कभी तो दिल से दिल की बात कहले दिल।। समुन्दर सा लगता शांत तू ,अपना भी ल... Read more