CM Sharma

Joined January 2017

उठे जो भाव अंतस में समझने की कोशिश करता हूँ…
लिखता हूँ कही मन की पर औरों की भी सुनता हूँ…..

Copy link to share

छोटा मेरा आशियाँ…

छोटा मेरा आशियाँ… बेटी..तुझमें मेरा जहां… आँखों में तेरी मैं देखूं… तारों भरा आसमाँ…. शोर पवन में सन्न सन्न सन्न सन्न…. पायल ... Read more

ऐतबार....

है ऐतबार तेरे आने के वादे पे हमको.... ........................के जीये जा रहें हैं हम.... वरना ज़िन्दगी को रुखसत किये तो.... ......... Read more

नज़्म – तुम ही बोलो…

आज फिर तुमने, दिल मेरे पे, दस्तक दी है.... मेरे बालों में, तेरी उँगलियों ने, हरकत की है... एक सिहरन सी, बदन मेरे में, लहराई है....... Read more

प्रेम मोल....

II छंद - उल्लाला II कान्हा नयन बह रहे, सुदामा चरण धुल रहे I निर्मल छवि ये देख के,सब लोक धन्य हो रहे II प्रेम मोल अनमोल है, जो... Read more

"चौका"...भ्रमजाल...

II जापानी विधा "चौका" II मन का भ्रम संबंधों में दरार दंब प्रहार छिन्न भिन्न संसार फैसला हुआ अपने पराये का तेरा ओ मेरा खू... Read more

रिमझिम बारिश....

दुनिया के पहरे से डरती रहती है... दिल आँगन में सबसे छिप के मिलती है.... दिल में तेरे जो है वो बतला दे ना.... शाम सवेरे यूं ही र... Read more

त्रिवेणी...

(१) रुको, देखो, चलो... जीवन तुम्हारा है.. अपनों को बेसहारा न करो. (२) धर्म, जात, ताज... कोई कीमत नहीं तुम बिन.. इंसान ह... Read more

कवि महोदय.....

पढ़ पढ़ के कविताएं हमपे भी कवि बनने का जूनून सवार हो गया.... हम इस से भी बढ़िया लिख सकते हैं दिमाग पे यह भूत सवार हो गया... इस शान से... Read more

मिलने का टाइम....

एक हसीना ने थप्पड़ रसीद कर दिया जब... पुछा जो दोस्त से के क्या हुआ ये सब..... गाल पे थप्पड़ पाँचों उँगलियों के हैं निशाँ.... क्या क... Read more

निशाँ ढूंढते हैं.....

लोग मेरी ज़िन्दगी का निगेहबाँ ढूंढते हैं... अफसानों में मेरे इश्क़ का जहॉं ढूंढते हैं... दो पहर रात बाकी है सूली को अभी से.... गि... Read more

तमाशा…..

तालियों की गड़गड़ाहट हो रही थी… सब खड़े हो के ताली बजा रहे थे… जैसे दुनिया में तमाशा… चपल उँगलियों में नाचती… कठपुतलियों का पहली बा... Read more

छन्न पकैया ......

छन्न पकैया छन्न पकैया, बसंत राजा आये... बगिया में फूल खिले हैं, भँवरे भी मंडराएं... छन्न पकैया छन्न पकैया,अपनी दिल की बोली.. नासम... Read more

गधों का मता.....

यह राजनीति भी कैसी राजनीति है.... बिना सर पैर सरपट भागती है.... मुद्दे सब पीछे छूट जाते हैं... जनता भौचक्की ताकती रह जाती है.... ... Read more

क्यूँ रंग बिखरा देख दिल सफाई देता है...

धुंआ धुंआ सा ये शहर दिखाई देता है..... हरेक शख्स ही जिस्म की दुहाई देता है...... हरेक बात में चर्चा था मेरे इश्क़ का यहाँ.... क्... Read more

सबसे बड़े दानी....

सितारे उसकी मांग में आ सजे थे सारे... नूरे माहताब की बलाएं ले रही थी बहारें... खनकती कलाइयों के जो हार गले आ लगे... दिल रोया बहुत... Read more

ज़ख्म मेरे तू मुझे आज दिखाता क्या है....

ज़ख्म मेरे तू मुझे आज दिखाता क्या है.... दास्ताँ मेरी मुझे ही तू सुनाता क्या है... ख्वाब में आके सताना तो ठीक था लेकिन... ज़िन्दग... Read more

मुर्दे की पहचान….

ज़िंदा रहा होगा इंसान कभी… जिसकी लाश काँधे पे उठा शमशान जा रहे थे सभी… घर वाले…रिश्तेदार…दोस्त…साथ थे सभी…. उनमें से किसी के साथ… ... Read more

हे सरस्वती माँ मेरी.....

हे सरस्वती करुणामयी अनुकंपा करो माँ मेरी.... ओज भरी मधुर हो वाणी सरस हो मेरी लेखनी.... ओज भरी मधुर हो वाणी सरस हो मेरी लेखनी.... ... Read more

अभिनय.......

बचपन में परियों की कहानी सुनते थे... जब भी बच्चे को सुलाते थे... बोलते थे की सो जा .... सपने में परी देश से परी आएगी... सुन्दर स... Read more

मेरी ज़िन्दगी पे जैसे बहार छा रही है....

मेरी ज़िन्दगी पे जैसे बहार छा रही है.... रूह मेरी में वो आके अपना हक़ जमा रही है... पलकों के मेरे आंसू अब उसके हो रहे हैं... बन म... Read more

वंदे मातरम ....

हो हरियाली,शान्ति,खुशहाली का संगम हर ओर… हर मन नाचे, झूमें, गाये हो भाव विभोर.. जन,गन,मन की लय पे बच्चा,बूढा और किशोर.. वंदे मातर... Read more

भोर की किरण......

बीत गया जो उसे बीत जाने दे.... दिल दुखाये जो बात उसे भूल जाने दे.... नफरत हटा प्यार को बिखरने दे ज़रा... फिर दिल से दिल का दीप जल ... Read more

तस्वीर….

तस्वीर बनायी है इक मैंने... कुछ आढी तिरछी रेखाओं से... उलझी सी ज़ुल्फें उसकी... सुलझाने की कोशिश में... हाथ बढ़ाया मैंने... की ... Read more

दर्द....

मैं सरिता कल कल करती...मेरी पीड न जाने कोई... जो भी आता मैल ही धोता...बिन पूछे मुझे हर कोई ! समय के साथ बहती मैं हर पल....जाने ह... Read more

भारत माँ की शान हो तुम... ...बेटियां.....

बेटी आँगन का फूल हो तुम... जीवन स्वर में संगीत हो तुम... मेरी आँखों में ज्योति हो तुम... साँसों में प्राण मेरे हो तुम... तुम से ... Read more

हर बात तुम्हारी अच्छी है

मैं तुम से बेहतर लिखता हूँ.. पर भाव तुम्हारे अच्छे हैं मैं तुमसे बेहतर दिखता हूँ पर अदा तुम्हारी अच्छी है मैं तुमसे बेहतर गा... Read more