मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

Copy link to share

सवालों के घेरे में

सवालों के घेरे में मैं भी आऊँगा एक दिन पूछा जाएगा जब मुझसे दुनिया लुट रही थी... तो तुम कहाँ थे उस वक्त और मेरा हमेशा की तरह एक... Read more

मुक्तक

आगे बढ़ रहे सभी, वक्त छूटता जा रहा है इंसान ही इंसान को आज लूटता जा रहा है न जाने क्या होगा हस्र और भी आगे.... लोग जुड़ते जा रहे,... Read more

मुक्तक

शोसल मीडिया पर श्रद्धांजलि दी जा रही शोक मनाया जा रहा है.. बस दो दिन का और दिखावा फिर से किया जा रहा है ......... ... Read more

बसंत ऋतु

लो फ़िर बसंत आया है छंट गए बादल घनें और यही गज़ब की साया है धरा के रंग हैं बहुतेरे यहाँ गुरु ऋतुओं का नरेंद्र आया है ... Read more

गणतंत्र दिवस

आज फिर साहित्य जाग उठा कलमें चल पड़ी.. देशभक्ति जगने/जगाने को! आज फिर लोग जुट गए देश प्रेम गाने, गानों को.. आज मौसम भी खिल उठा ... Read more

गरीब

गरीबों की औकात ना पूछो तो अच्छा है, इनकी कोई जात ना पूछो तो अच्छा है, चेहरे कई बेनकाब हो जायेंगे, ऐसी कोई बात ना पूछो तो अच्छा... Read more

बस यूं ही

मौज है, मस्ती है, खुमारी है तुम्हारे नाम की, अब क्यों तलाशे कि खुदा कौन है... Read more

उम्र का ये पड़ाव कैसा है

उम्र का ये पड़ाव कैसा है ! ख्वाहिशों का अलाव कैसा है !! हसरतें टूट कर बिखर जाये , काइदों का दबाव कैसा है !! जो कभी सूख ही नहीं प... Read more

" शेर "

कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर से पूछोगे तो खैरियत ही कहूंगा .... --------- #बृज Read more

मुक्तक

गाँव के घरों में अब ताले नज़र आते हैं जंगल के जानवर रखवाले नज़र आते हैं बसर हो रहा है इन सड़ी गलियों का... एक ही कमरे में घरवाले ... Read more

सुनो जी

सुनो जी.. लक्ष्मी ने अपने पति रोहित से कहा- अब ऐसा करना क्या ठीक रहेगा, उम्र ढलती जा रही है जैसे सूर्य दिन ढलने के बाद उतना तपीला ... Read more

गढ़वाली ग़ज़ल

तेरि याद आणिच मिते बार-बार यनि नि सोच्या तुम पहली बार .. हम द्वि मिल छै वै कौथिग मा कनिकै भूल सकदू त्वेतै मि यार .. मि त्वेते ... Read more

लेख

बड़ी बिडंमना है साहब ... सच से क्यों मुँह मोड़ते हैं लोग यहाँ ? मुझे कोई संकोच नहीं कि मैं #उत्तराखंडी हूँ पहाड़ी हूँ और सीधा-साधा स... Read more

जाता नहीं ( शीर्षक )

कभी-कभी सोचता हूँ चुप ही रहूँ मगर चुप मुझसे रहा जाता नहीं... हो रहे ये जघन्य अपराध तमाम मुझसे दुःख सहा जाता नहीं कवि हूँ विचलित ... Read more

ए- ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ

ए ज़िन्दगी आ तेरा हिसाब कर दूँ तूने जो सुख् और दुःख दिए हैं मुझे बचपन से जवानी और अब बुढ़ापे तक कभी ज़ीता था मैं बस ज़ीने के वा... Read more

ये सच है

कई सरकारें आई और चली भी गई हुआ क्या कुछ भी नहीं ... दाम वहाँ भी महँगे थे और यहाँ भी हुआ क्या कुछ भी नहीं... सैनिक तब भी शहादत और... Read more

चंद शेर

बड़ा अज़ीब मिज़ाज़ है इन शहरों का हवा आती नहीं, साँस ले नहीं सकते ... #बृज कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर ... Read more

मुक्तक

आगे बढ़ रहे सभी, वक्त छूटता जा रहा है इंसान ही इंसान को आज लूटता जा रहा है न जाने क्या होगा हस्र और भी आगे.... लोग जुड़ते जा रहे,... Read more

शेर

कभी पास आकर सुन लो मेरे दर्द की आह.. यूँ मीलों दूर से पूछोगे तो खैरियत ही कहूंगा ... Read more

मुक्तक

प्यार के देखो यहाँ दीवाने बहुत हैं सच है जताने के अफसाने बहुत हैं नहीं करते दिल से कई बात अलग है... अच्छे लोगो के अभी घराने बहुत ... Read more

एक खत डैड के नाम

डैड... मैं अक्सर सोचता हूं कि आप मुझे छोड़कर क्यों चले गए! आप साथ क्यों नहीं हैं... मैं सोचता हूं कि आज अगर आप मेरे साथ होते, तो मु... Read more

मुक्तक

मंत्री साहब आश्वासन दिए जा रहे हैं.. किसान दिनोदिन फाँसी चढ़े जा रहे हैं कहा था साहब अच्छे दिन आएंगे.. लोग भ्रम में आज भी जिए जा ... Read more

बचपन

यादों के साये पसेरे चलना माँ के पल्लू पकड़े कभी शैतानी मनमानी कभी यूँ ..... हठ की आदत हरेक बचपना एकसमान होवे हो जाए गलती क... Read more

बसंत

लो फ़िर बसंत आया है छंट गए बादल घनें और यही गज़ब की साया है धरा के रंग हैं बहुतेरे यहाँ गुरु ऋतुओं का नरेंद्र आया है ... Read more

मातृभूमि

मातृभूमि में जियूँगा मातृभूमि में मरूंगा मैं कर जाऊँगा न्यौनछावर सबकुछ नही हटूंगा मैं न मिले यश मुझे न मिले सम्‍मान कोई मान रखने... Read more

मैं तो कहता हूँ

मैं तो कहता हूँ...... मैं तो कहता हूँ हर युवा को अब जाग जाना चाहिए मोह माया के इस जंजाल से दूर भाग जाना चाहिए देश द्रोह और स्वार्... Read more

मुक्तक

हकीकत जानकार भी क्यों अंजान हैं सब, जीत गए हैं बाज़ी फ़िर क्यों परेशान है सब, न मिलेगा ये जहाँ यूँ दुबारा किसी को - ये सब जानकर... Read more

सुनहरे पल

वो हर लम्हा सुनहरा होता है जो अनुरूप हमारे साथ खड़ा होता है न रंग, न रूप न ही भेद कोई समय भी कोई ख़ास नहीं होता कभी चाहकर ... Read more

गज़ल

------------------- ठहरे जीवन को मेरे रवानी मिली गहरे पानी में अब निशानी मिली ------------------- जुस्तजू थी ऐसी तम्मनाएं भी अ... Read more

ग़ज़ल

_________________ मेरा दिल मेरा आईना तो दिखा दे घने सन्नाटे में आवाज़ लगा तो दे ----------------- बात ये नहीं कि कौंन कैसा है यह... Read more

धुंध ही दिखता है

हर जगह मुझे अब धुंध ही दिखता है इंसान को ही देखो दर-दर बिकता है वो ज़माना था - जब दूर ही धुंध नज़र आती थी आज सामने ही धुंध दि... Read more

अकेलापन

उम्र का ये पड़ाव कैसा है , जहाँ सब कुछ तो है फिर भी अकेलेपन का घाव दिल पे कैसा है ! अपना तो हर कोई है आंखो के सामने , फिर भी आंखों ... Read more

मज़दूर हूँ ......

मज़दूर हूँ ....... और मज़बूर भी वो दिहाडी और वो कमाई ....... मेरे खाने तक सीमित और ....... कुछ बचाने तक मात्र ताकि कर सकूँ ... Read more

वो रात

---------- ज़िंदगी का ज़िंदगानी का भरी भागदौड, आबादी का वो रात ,वो रात...... इस भीड में भला किसे वक्त कौन सुखी, चैन कहाँ हर... Read more

मान जाओ

----------- दिल सच्चा है तो सच्चे दिखोगे यूँ ही हरदम....... बच्चों जैसे अच्छे दिखोगे न द्वेश न कहीं कपट, न घृणा न कहीं भेदभाव ... Read more

ज़ंग

आशा और निराशा के बीच झूलते-डूबते - उतराते घोर निराशा के क्षण में भी अविरल भाव से लक्ष्य प्राप्ति हेतु आशावान बने रहना बहुत म... Read more

एक शख्स यह भी ( कहानी )

एक शख्स यह भी" __________ रोज़ाना की तरह मैं उस दिन भी सुबह की सैर करके घर पर लौटा ही था कि याद आया चाय भी पीनी है इसलिए पास के दु... Read more

आज़ादी और देश प्रेम विशेषांक

_________________________ आज़ादी कहीं खोई नहीं थी जो मिल गई, आज़ादी दिलवाई है उन शहादतो नें उन बलिवानों नें कुर्बान हुए जो इस ... Read more

नहीं पता

मुझे मंज़िल का नहीं पता मुझे रस्ते का नहीं पता चला जा रहा हूँ बस सुर एक है… मुझे जंगल का नहीं पता मुझे मंगल का नहीं पता अ... Read more

है कोई ............

है कोई ............ भूखे को भोजन प्यासे को पानी पिला दे बीमार को दवा और अच्छे को अच्छा बता दे जो खुद को संपन्न दूसरों को बढ़... Read more

हे ! मेरे फेसबुक ............

फेसबुक ने मुझे नई ज़िंदगी दी जीने की एक वजह दी, प्यार भी हुआ तो फेसबुक पर ही धोखा मिला फेसबुक से ही अपने बने कुछ इसी फ... Read more

यादें

सोचता हूँ अब याद न करूँ.. उस बुरे वक्त को उस कठिन राह को उस भयभीत पल को उस भयावह कल को मगर कमबख्त ये यादें याद आ ही जाती है... Read more

क्यों बेदहमीं है

आप तो आप हो जी, हम हमीं हैं सब कुछ तो ठीक है मगर तो फ़िर कहाँ कमी है ! ----------------- है सूर्य देवता ऊपर आसमां भी ऊपर है धर... Read more

कहाँ

बतलाते हैं अमीर बहुत से लोग शहरों के यहां मगर मैं कभी जान न पाया आखिर ये अमीरी कहाँ है -------------- मोल-भाव करते हैं वही... Read more

सोचूं अब चोर ही बन जाऊँ.......

सोचूं अब चोर ही बन जाऊँ....... _______________________________ डालूं डाका किसी बैंक शाखा पर और निकाल लाऊँ वो सब पैसे दे दूँ ... Read more

ये आँशू किसके लिये

अपनो ने अपनापन तोडा गैरों की तो बात ही क्या उम्मीद भी नाउम्मीद अब भला ये आँशू किसके लिये.. ---------------- सुनो बेटा अब बडा आ... Read more

!!!!!! ढूँढते हैं !!!!!!!

क्या कयामत आई है दिल-ए दीवाना तुझे ही ढूँढते हैं कचहरी-ताडीखाना -------------------------- हो कहीं तू मिल जा मुझे लिये फिरता है ... Read more

"बरसात"

तब हम परेशां थे इस बारिश से.. अब तो रोना है साहब रोना ...... ---------------------- बचपन में जब बारिश का आना कर देता हम बच्चों क... Read more

" रहने दो "

'योग' ही रहने दो 'योगा' न बनाओ... अ को 'अ' ही रहने दो.... यूं 'आ' न बनाओ, योग को 'योग' रहने दो....'योगा' न बनाओ। मैंने कब इंग्लै... Read more

"ग़ज़ल"

मेरे दिल को अब कोई भाता नहीं है कोई भी तो वादा निभाता नहीं है जरा देख आओ गरीबों के घर में न कहना की अब कोई भूखा नहीं है कसम है... Read more