Copy link to share

युद्ध से भय कायरता है!

धर्मयुद्ध है समक्ष खड़ा, मौन पड़े क्यूँ वीर खड़े। आभूषण हो गयी कायरता, अब युद्ध यहाँ कौन लड़े।। क्या सीखा क्या पाया हमने, इतिहास ... Read more