कवि, लेखक, पत्रकार, समीक्षक
पताः हिन्दी भवन, 554-सी, सैक्टर-6, पानीपत-132103, हरियाणा, भारत
मो.919355003609

Copy link to share

भाईचारा

     एक इंजिनियर रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा जाता है। अदालत में पेश किया जाता है न्यायधीश पूछता है - आप ने रिश्वत ली ?        इंजिन... Read more

मातृभाषा

     अपने ओफिस के पास चाय की दुकान पर हिन्दी दैनिक अकबार की जगह गलती से अग्रेजी अखबार डाल गया है। चाय वाले ने सारा दिन फोटो देख-देख ... Read more

मन को शन्ति

मैं मन्दिर जा रहा हूँ। सामने से मेरा मित्र आहुजा मिल जाता है वह बोला- मन्दिर से आप को क्या मिला ?          मैं सोच में पड़ गया और कु... Read more

सोचते - सोचते

अपना कुछ नहीं सब को सुखः दिया फिर भी कुछ नाराज सोचा - फिर सोचा सोचते - सोचते बिमार पड़ गया एक दिन मौत ने भी घेर लिया हो गया ... Read more

रेलर्व लाईन

पार्क में सुबह - सुबह घुम रहाँ हूँ। तभी आगं बुझाने वाली गाड़ी की आवाज सुनाई देती है। मैनें सड़क की ओर देखा - मैं और मेरा साथ... Read more

सत्यप्रकाश भारद्वाज का लघुकथा संग्रह आशा की किरणें

नर्ई दिल्ली का अंशिका पब्लिकेशन द्वारा आशा की किरणें लघुकथा संग्रह प्रकाशित हुआ है। जिस का प्रथम संस्करण 2017 के प्रथम सप्ताह में आय... Read more

यादों की यात्रा

पुस्तक का नामः यादों की यात्रा लेखक का नामः डा. ए. पी. जैन प्रकाशकः कैलाश-ज्योति प्रकाशन 10, सुखदेव नगर, पानीपत-13... Read more

संदेश देती पुस्तकः नहीं तुम्हारी तरह

संदेश देती पुस्तकः नहीं तुम्हारी तरह पुस्तक का नामः नहीं तुम्हारी तरह कविः रमेश जलोनिया प्रकाशकः नवभारत प्र... Read more

इतिहास के साथ छेड़ छाडं नहीं होती

संजय लीला भंसाली की धटना ने भारतीय जनता का ध्यान अपनी ओर खिचां है। चारों ओर इस की निन्दा हो रही है। परन्तु वास्तविकता बहुत कम लोग जा... Read more

बजट - 2017

बजट - 2017 - पैनकार्ड धारक को 12,875 की सालाना छूट - तीन लाख से अधिक नकद लेनदेन पर रोक - 350 आँनलाइन कोर्स के लिए डिजिटल चैनल -... Read more

आया है बसंत

आया है वसंत - बीजेन्द्र जैमिनी चली हवा फूलों सी आया है वसंत दिल खिले आसमान में उड़े चली हवा फूलों सी बागों की खशबू घर घर प... Read more

शादीं बिना तलाकं

लघुकथा शादीं बिना तलाकं - बीजेन्द्र जैमिनी कोर्ट में महिला ने शिकायत दी है कि विवाह के समय किये वायदें पूरे नहीं किये गये ह... Read more

माँ - बाप

लघुकथा माँ - बाप - बीजेन्द्र जैमिनी शिव मन्दिर माँ प्रतिदिन जाती है। भगवान से हमेशा एक ही दुआँ मांगती है- हे भगवान ! मेरे ... Read more

नारी शोंषण

लघुकथा नारी शोंषण - बीजेन्द्र जैमिनी नारी शोंषण के खिलाफ समाज सेवा करने वाली सरोंज जोंर जोंर एक समारोह में भाषण दे रही ह... Read more

राजनीति भाषण

कविता राजनीति भाषण - बीजेन्द्र जैमिनी नेता बन गये पार्टी वक्ता रोज भाषण देते है पार्टी को मजबूत करते है रात-दिन एक क... Read more

उल्लू महाराज की पूजा

कविता उल्लू महाराज की पूजा -बीजेन्द्र जैमिनी माँ लक्ष्मी जी की सवारी उल्लू महाराज यह सभी जानते है माँ की रोज-रोज पूजा द... Read more

दहेंज के झूठे केस

लघुकथा दहेंज के झूठे केस - बीजेन्द्र जैमिनी जेल में हत्या के मामलें में उम्रकैद काट रहे कैदी से साक्षात्कार लेने पत्रकार प... Read more

हिन्दी है तो भारत है वरन् ये तो गर्वमेन्ट आफँ इण्डिया है

कविता हिन्दी है तो भारत है वरन् ये तो गर्वमेन्ट आफँ इण्डिया है - बीजेन्द्र जैमिनी हिन्दी है तो भारत है वरन् ये तो गर्वमेन्... Read more

दुःख और मजबुरी

लघुकथा दुःख और मजबुरी - बीजेन्द्र जैमिनी फटेहाल युवती को भीख माँगते देखकर दो मनचले लड़के उसके पास आये और बीस रूपय का नोट दि... Read more

मेरे दोस्तों

कविता मेरे दोस्तों - बीजेन्द्र जैमिनी एक-एक पौधा लगाओ मेरे दोस्तों पौधे को पड़े बनाओ मेरे दोस्तों... Read more

अमीरी - गरीबी का अन्तर

लघुकथा अमीरी - गरीबी का अन्तर - बीजेन्द्र जैमिनी साहब के घर का नौकर अपनी ईमानदारी तथा महेनत के बल पर वह साहब बन जाता है ।... Read more

बुढापा एक अभिशाप

लघुकथा बुढापा एक अभिशाप - बीजेन्द्र जैमिनी मुझे अपने गाँव की याद आई थी । मैनें जल्दी-जल्दी कार्यालय का काम समाप्त कर के मोट... Read more

अपराध

लघुकथा अपराध - बीजेन्द्र जैमिनी वह तेजी से मोटर साईकिल पर जा रहा था । नौजवान लड़की ने आवाज दी - क्या ! आप पुलिया की ओर जा र... Read more

मेरी बेटी - मेरा वैभव

कविता मेरी बेटी - मेरा वैभव - बीजेन्द्र जैमिनी मेरी बेटी मेरी शान मेरी आनबान मेरी है पहचान मेरी बेटी - मेरा वैभव ... Read more

पति महोदय

लघुकथा पति महोदय - बीजेन्द्र जैमिनी रोजाना की तरह डाकं खोल खोल कर पढ़ रहा हूँ। एक डाकं खोली तो देखा, अपने ही शहर में जन्मी... Read more

बेटी का है सम्मान

कविता बेटी का है सम्मान - बीजेन्द्र जैमिनी बेटी पढा़ओ- शिक्षा है वरदान मानव जाति का है कल्याण बेटी का है सम्मान बेट... Read more

पुरस्कार

कविता पुरस्कार - बीजेन्द्र जैमिनी जब से मुझे मिला है पुरस्कार कोई मेरे पाँव छूँता है कोई मुझे आर्शीवाद देता है देखते ही... Read more

दरोगा जी

लघुकथा दरोगा जी - बीजेन्द्र जैमिनी कोर्ट में मुकदमा जीतने के बाद जज साहब ने बुजर्ग को बधाई देते हुए कहा-... Read more