Bhawana Kumari

Joined November 2018

Copy link to share

मिट्टी के घर

चन्द सिक्के कमाने की होड़ में, छोड़ कर गाँव शहर में आया मैं । कमाया था वो चन्द सिक्के भी मैने, शहर का चकाचोंध भी भाया मुझको । रोज़ ... Read more

सब्र

सभी कहते है सब्र करो सब्र का फल मीठा होता है । बरसो से तो सब्र ही करते आ रही हूँ पर ना जाने इसका फल कब मिलेगा । कहते है सब ईश्... Read more

माँ तुम्हारी उपस्थिति

माँ! तेरी अनुपस्थिति में ना जाने मुझे क्या हो जाता है? लाख कोशिश के बाद भी रोटियाँ गोल नहीं बनती । गैस पर रखी दूध उबल कर ना ... Read more

माँ तुम्हारी उपस्थिति

माँ! तेरी अनुपस्थिति में ना जाने मुझे क्या हो जाता है? लाख कोशिश के बाद भी रोटियाँ गोल नहीं बनती । गैस पर रखी दूध उबल कर ना ... Read more