Ghanshyam Sharma

पिलानी , राजस्थान

Joined March 2020

नाम : घनश्याम शर्मा

पिताजी: – श्री श्रीराम शर्मा
माताजी: – ‘माँ’ श्रीमती सुरेश देवी

जन्मतिथि : 13.01.1986

जन्म स्थान : गाँव- ब्राह्मणवास नौ, जिला – महेन्द्रगढ़(हरियाणा)

निवास स्थान :- पिलानी, राजस्थान।

शिक्षा – एम.ए.(हिंदी, समाज शास्त्र , शिक्षा), बी.एड., एमबीए(ए), आरएससीआईटी, सीटैट, रीट, एचटैट टीजीटी(दो बार), एचटैट पीजीटी(दो बार), यूजीसी नेट-जेआरएफ(दो बार)

अनुभव – पिछले लगभग 10 सालों से स्कूल, कॉलेज , कोचिंगों में अध्यापन का अनुभव ।

रुचि: कविताएँ- कहानियाँ लिखना, संगीत सुनना, क्रिकेट, बैडमिंटन खेलना।

पत्र व्यवहार का पता – घनश्याम (पीजीटी-हिंदी), केवि नं. 4, नीलाद्रि विहार, पो.ऑ.- शैलाश्री विहार, भुवनेश्वर, जिला -खुर्दा(ओडिशा) 751021.

प्रकाशित पुस्तकें : 1. ‘किसलय’ -2018
2. ‘मेरी रचना कोश’ -2019
3. ‘गुलदस्ता’ -2019
4. ‘काव्य-दर्पण’ -2019
5. ‘काव्य-संगम’ -2019
( उपर्युक्त पांच साझा-काव्य-संग्रहों में रचनाएँ प्रकाशित)

ओनलाइन प्रकाशन :- 1. kositimes.com वेबसाइट पर गीत ” मैं गीतों की बस्ती का शहज़ादा…” प्रकाशित।
2. Storymirror.com पर “मज़दूर”, “मैं अब सूरज बन गया हूँ”, “कर प्रयास” और “फिर रहा हूँ भागा-भागा ” जैसे कई गीत प्रकाशित।
3. matrubhashaa.com पर “आग देशभक्ति वाली” गीत प्रकाशित।
4. janbhashahindi.com पर “ऐसा गीत सुनाएँ” कविता प्रकाशित।
5. “ amarujala.com” पर ‘देश को आगे बढ़ाएँ’ कविता प्रकाशित ।

सम्मान :- 1. राजल वेलफेयर एंड डवलपमेंट संस्थान, जोधपुर और वेबपोर्टल साहित्य दर्शन डोट कोम द्वारा “मातृभाषा गौरव सम्मान” से सम्मानित।
2. स्टोरीमिरर द्वारा “LITERARY COLONEL” की उपाधि से विभूषित।
विशेष उपलब्धि :- स्टोरीमिरर द्वारा “ओथर ओफ द वीक” विजेता और “ऑथर ऑफ़ द ईयर” के लिए नॉमिनेट ।

अन्य उपलब्धियाँ :- 1. के. वि. एस. में टीजीटी चयनित,
2. केविएस में दो बार पीजीटी चयनित ,
3. नवोदय में पीजीटी चयनित ,
4. एचएसएससी में पीजीटी चयनित ,
5. एचपीएससी के साक्षात्कार के लिए चयनित ।

संप्रति : केवि नं.- 4, भुवनेश्वर में हिंदी स्नातकोत्तर शिक्षक पद पर कार्यरत।

ब्लॉग :- 1. ghanshyamsharmahindi.blogspot.com

2. greatmotivationguide.school.blog

संपर्क- 8278677890
ई.मेल.- jaimaranisati@gmail.com

Copy link to share

दीपक ने लड़ने की ठानी

*शानदार कविता* *उत्साह , ऊर्जा , साहस , ऊष्मा को एकदम से बढ़ाने वाली कविता* ॥*दीपक ने लड़ने की ठानी*॥ 🏵🏵🏵🏵🏵🏵 जब... Read more

जीवन संग्राम ही तो है

जीवन, संग्राम ही तो है जीवन, संग्राम ही तो है। जो हमने भुगता, जो हमने पाया, जो आज हमारे पास है , वो कल का अंजाम ही तो है। ... Read more

ढाई घंटे की नौकरी

वह एक कम पढ़े-लिखे, गरीब पिता की संतान था । 12वीं अच्छे अंको से पास कर ली थी। गर्मियों की छुट्टियां चल रही थी। उसने सोचा कि चलो कहीं... Read more

आओ कुछ लिखकर जाएँ

आओ एक कहानी पढ़ लें कुछ रचनायें हम भी रच लें हम भी क़लम उठा लें हाथ लिख डालें सब मन की बात सूर्य चंद्रमा तारे लिख दें भूले ... Read more

मैं राम हूँ

*मैं राम हूँ* हाँ मैं राम हूँ। सीता का राम कौशल्या का राम दशरथ का राम शबरी का राम हनुमान का राम आपका अपना मर्यादा... Read more

...और मैं करता प्यार

गीतों की बस्ती का शहज़ादा...* मैं गीतों की बस्ती का शहज़ादा, मैं राजकुमार। -2 मैं गीत बनाता, गीत ही गाता और मैं करता प्या... Read more