मैकेनिकल इंजिनियर, सम्प्रति वाराणसी में लो नि वि में कार्यरत

Copy link to share

बयाँ-ए-कश्मीर

मैंने कहा कि धरती की है स्वर्ग ये जगह उसने कहा की अब तुम्हारी बात बेवजह सुनता जरूर हूँ कि थी ये खुशियों की ज़मीं धन धान्य से थी पू... Read more

ग़ज़ल

क्यूँ नज़र से नज़ारे जुदा हो गये लग रहा खुद नज़र में खुदा हो गये इश्क़ में कर सका बस मैं इतनी वफ़ा बेवफा से बफा , बेवफा हो गये है... Read more

ग़ज़ल

जिस तरह मसला बने है अब खुदा भी, राम भी दूर का मुददा नहीं इस मुल्क में कोहराम भी मर रहे मुल्के-हिफाज़त में जो, वो गुमनाम है बेचते... Read more

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई

ज़िन्दगी बन कर कहानी रह गई ज्यूँ बुढ़ापे सी जवानी रह गई दर दरीचे खोल दे घर बार के अब नहीं बिटिया सयानी रह गई नाव कागज़ की चलाय... Read more

तू बता , तू मुझे मिला कब है

तू बता तू मुझे मिला कब है हूँ इन्तज़ार में गिला कब है रात हो स्याह ,या कि सिन्दूरी कुछ भी कहती भला शमा कब है थक गया ज़िन्दगी स... Read more