भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन

Copy link to share

गुनगुनाने से रहे

जिन्दगी है कीमती यूँ ही लुटाने से रहे हर किसी के गीत हम तो गुनगुनाने से रहे पैर अंगद से जमे हैं सत्य की दहलीज पर हो रही मुश्... Read more

गुनगुनाने से रहे

जिन्दगी है कीमती यूँ ही लुटाने से रहे हर किसी के गीत तो हम गुनगुनाने से रहे पैर अंगद से जमे हैं सत्य की दहलीज पर हो रही मुश्... Read more

स्वयं से आज मिलने जा रहा हूँ

खयालों में जिसे बुनता रहा हूँ हुआ जब सामना घबरा रहा हूँ गली में प्रेम की मुश्किल बहुत है दिल-ए-नादान को समझा रहा हूँ अल... Read more

सब कुछ पाना हमें यहाँ है

जीवन की राहें अनजानी, मंजिल का भी पता कहाँ है. चले जा रहे अपनी धुन में, सब कुछ पाना हमें यहाँ है. कहीं बबूलों के जंगल हैं, ... Read more

लोकतंत्र

अर्जी लिए खड़ा है बुधिया, दरवाजे पर खाली पेट. राजा जी कुर्सी पर बैठे, घुमा रहे हैं पेपरवेट. कहने को तो लोक तंत्र है, मगर लोक... Read more

माँ

तपती हुई दुपहरी में भी, शीतल मंद हवा है माँ बच्चों की भूख मिटाने को, चूल्हा आग तवा है माँ घर आँगन का अनुशासन है, पूजा से भी पावन ... Read more

घड़ा - नवगीत

स्वर्ण-कलश हो गए लबालब, मैं क्यों अब तक रिक्त पड़ा. जाने कब नंबर आयेगा, यही सोचता रोज घड़ा. नदिया सूखी, पोखर प्यासे, तालाबों ... Read more

बचपन सी सौगात न कोई

झूठी मूठी बात न कोई बचपन सी सौगात न कोई सच के आगे झूठ कपट की होती है औकात न कोई जिसमें सपने देख न पायें होती ऐसी रात न ... Read more

ढूँढ रहा हूँ

बड़े जतन से सिले थे’ माँ ने, वही बिछौने ढूँढ रहा हूँ ढूँढ रहा हूँ नटखट बचपन, खेल-खिलौने ढूँढ रहा हूँ नदी किनारे महल दुमहले, बन... Read more

लट जाते हैं पेड़ - गीत

लट जाते हैं पेड़ © बसंत कुमार शर्मा राह किसी की कहाँ रोकते, हट जाते हैं पेड़ इसकी, उसकी, सबकी खातिर, कट जाते हैं पेड़ तपन ध... Read more

चल रस्ता रोकें

चल रस्ता रोकें © बसंत कुमार शर्मा, जबलपुर कहीं सड़क पर, कहीं रेल पर चल रस्ता रोकें. सारी फसल कट गई अब कुछ, काम नहीं बा... Read more

मुहब्बत में

वफ़ाएँ ढूंढते हैं लोग जाने क्यों मुहब्बत में किसी को भी मिले हैं क्या, कभी भी फूल उल्फत में कहाँ चिंता वतन की अब, यहाँ पर ... Read more

झूठी मूठी बात न करिए

झूठी मूठी बात न करिए वादों की बरसात न करिए नाजुक है दिल टूट न जाए, इससे भीतरघात न करिए ख्यात न हों, कुछ बात नहीं है, पर ... Read more

ठहर जाता तो अच्छा था

मापनी 1222 1222 1222 1222 इधर जाता तो अच्छा था, उधर जाता तो अच्छा था. रहा भ्रम में, कहीं पर यदि, ठहर जाता तो अच्छा था. उभर आत... Read more

सूरज सन्यास लिए फिरता

अँधियारा गद्दी पर बैठा, सूरज सन्यास लिए फिरता नैतिकता सच्चाई हमने, टाँगी कोने में खूँटी पर. लगा रहे हैं आग घरों में, जाति ध... Read more

प्रेम पर होती टिकी हर देश की बुनियाद है

कैद हैं धनहीन तो, जो सेठ है,आजाद है झुग्गियों की लाश पर बनता यहाँ प्रासाद है थाम कर दिल मौन कोयल डाल पर बैठी हुई, तीर लेकर हर ... Read more

कहने को शर्मीली आँखें

झील सी’ गहरी नीली आँखें हैं कितनी सकुचीली आँखें प्रेम अगन सुलगाने को तो हैं माचिस की तीली आँखें खो देता हूँ सारी सुध बु... Read more

तमन्ना हमें न जन्नत की

कब किसी से यहाँ मुहब्बत की. जब भी’ की आपने सियासत की. जुल्म सहती रही सदा धरती, आसमां ने कहाँ शहादत की ताव दे मूँछ पर स... Read more

तुलसी का वनवास हो गया

घर टूटे मिट गए वसेरे, महलों में आवास हो गया. ऊँचे कद को देख लग रहा, सबका बहुत विकास हो गया. भूल गए पहचान गाँव की, बसे शहर ... Read more

सरकारी नाखून

चुभते सदा गरीबों को ही, सरकारी नाखून. पट्टी बाँधें हुए आँख पर, बैठा है कानून. धर्म और ईमान भटकते. फुटपाथों पर दर दर. फलती औ... Read more

आ तो सही इक बार मेरे गाँव में

आ तो सही इक बार मेरे गाँव में अद्भुत अतिथि सत्कार मेरे गाँव में हर वक्त रहते हैं खुले सबके लिए सबके दिलों के द्वार मेरे... Read more

देश हो रहा शहरी

गाँव ढूंढते ठौर ठिकाना, देश हो रहा शहरी. नहीं चहक अब गौरैया की, देती हमें सुनाई. तोता-मैना, बुलबुल, कागा, पड़ते नहीं दिखाई. लुप... Read more

मुहब्बत होती है

स्वीट कभी नमकीन, मुहब्बत होती है जग में बहुत हसीन, मुहब्बत होती है थोड़ा थोड़ा त्याग, तपस्या हो थोड़ी, फिर न कभी ग़मगीन, मुहब्ब... Read more

चलो फटे में टाँग अड़ाएँ

यार चलो नेता बन जाएँ और फटे में टाँग अड़ाएँ शेयर जैसे सुबह उछलकर, लुढ़क शाम को नीचे आएँ जंतर मंतर पर जा बैठें, ... Read more

मौन मुझे स्वीकार नहीं है

यदि करना इनकार नहीं है, क्यों करता इकरार नहीं है चुप चुप रहना उसकी आदत, मौन मुझे स्वीकार नहीं है दिल से कभी न कह पायेगा, ... Read more

शब्द पानी हो गए

छोड़कर हमको किसी की जिंदगानी हो गए ख्वाब आँखों में सजे सब आसमानी हो गए प्रेम की संभावनाएँ थीं बहुत उनसे, मगर, जब मिलीं नजरें ... Read more

केवल माँ को ज्ञात

एक कला संसार में, केवल माँ को ज्ञात बिन भाषा बिन बोल के, समझे सारी बात कहाँ रहे सद्भावना, कहाँ रहे सद्भाव जब फूलों के गाँव भी... Read more

माँ और बेटियाँ

पाप अपने कुछ मिटाने चल दिए लोग गंगा में नहाने चल दिए तीर्थ घर में है हमारे सोचकर पैर माँ के हम दबाने चल दिए स्... Read more

कोई रिश्ता निभाया जा रहा है

कोई रिश्ता निभाया जा रहा है मुझे फिर से बुलाया जा रहा है पड़ीं हैं नींव में चुपचाप ईंटे, भले बोझा बढाया जा रहा है अभी कुछ ... Read more

कौन भरेगा पेट -नवगीत

छोड़ा गाँव आज बुधिया ने, बिस्तर लिया लपेट उपजायेगा कौन अन्न अब, कौन भरेगा पेट गायब हैं घर की खिड़की अब, दरवाजों की चलती. आ... Read more

ख्वाब भी तेरा सताता है मुझे

नींद में आकर जगाता है मुझे ख्वाब भी तेरा सताता है मुझे झूमती आती घटायें बदलियाँ, प्यार का मौसम बुलाता है मुझे सर्दियों में... Read more

सूरज पर चढ़ रही जवानी

ओढ़े हुए आग की चादर, करने आया है मनमानी तपा रहा जमकर धरती को, सूरज पर चढ़ रही जवानी यहाँ बहुत दुश्मन पानी के, सुखा रहे हैं धीरे... Read more

कितनी करूं पढ़ाई माँ

पहन गले में टाई माँ कितनी करूं पढ़ाई माँ जितना बोझा है बस्ते का, उतना मेरा वजन नहीं. होम वर्क मिलता है इतना, होता मुझसे सहन न... Read more

जो करो तुम बस करो जी जान से

आपकी झोली भरेगी ज्ञान से. यदि करोगे मित्रता विद्वान से. हाथ फैलाना नहीं अपने कभी हाथ ऊपर रख जियो बस शान से है सुरक्षि... Read more

कहाँ बदली गई

(१) कभी घर पर नहीं करते, कभी बाहर नहीं करते किसी भी धर्म की निन्दा, किसी भी दर नहीं करते दिखे मंदिर, दिखे मस्जिद, झुका देत... Read more

हमें न पत्थरबाज चाहिए

होना सबका काज चाहिए, हमको ऐसा राज चाहिए जिसे फ़िक्र हो आम जनों की, सर पर उसके ताज चाहिए अन्दर बाहर सदा एक हो, हमको वह आवाज... Read more

मगर खत्म अपनी कहानी नहीं है

नहीं आज बचपन जवानी नहीं है मगर खत्म अपनी कहानी नहीं है मुझे जिन्दगी ने सताया है जी भर मगर हार मैने भी मानी नहीं है भरा प... Read more

मुहब्बत आप करते है

सताया है बहुत हमने, शिकायत आप करते हैं हमारे ख्वाब में आकर, शरारत आप करते हैं ये माना हम नहीं दिल में, बताओ फिर जरा ये भी हम... Read more

अब तुम मेरे हाथ खोल दो

अब तुम मेरे हाथ खोल दो करूँ आक्रमण जरा बोल दो पत्थरबाजी बहुत हो रही, मानवता दिन रात रो रही, सारी जनता धैर्य खो रही, कब ... Read more

नाम है बस दीप का

जल रही बाती यहाँ पर नाम है बस दीप का आ गयी दीपावली फिर, आस लेकर इक नयी एक कपड़े के लिए बस, आज मुनिया रो गयी देखती है रास्ता ... Read more

अप्रैल फूल बनाकर हँस लो

अप्रैल फूल बनाकर हँस लो सबको आज हँसाकर हँस लो रूठा हुआ शाम से कोई उसको सुबह मनाकर हँस लो क्यों बैठो हो गाल फुलाकर थोड़... Read more

अक्षर अक्षर प्रीत लिखेंगे

जब जब कोई गीत लिखेंगे अक्षर अक्षर प्रीत लिखेंगे ग्वाल, बाल, गोपी, यमुना तट कृष्ण राधिका, वंशी पनघट नंद यशोदा का घर आँ... Read more

अखिलेश राहुल वार्ता

यू पी चुनाव में हार के बाद प्रश्न अखिलेश का किस मत ने किस्मत बदल, ली है कुर्सी छीन राहुल से अखिलेश अब, पूछें बनकर दीन उत... Read more

साहब जी हैं व्यस्त

होते हैं सब भाग्य से, राजा रंक फ़क़ीर हरे परायी पीर जो, कहलाता वह पीर इतना भी क्या दे रहे, इन मूंछों पर ताव थोड़ा सा तो दीजिये, ... Read more

भूल गया घर द्वारा मन

बचपन के वे खेल खिलोने, निश्छल चंचल प्यारा मन ढूंढ रहा कागज़ की कश्ती, सुधियों में आवारा मन कभी नगर में कभी गाँव में, कभी धूप है ... Read more

हिय से मत दूर मुझे करना

आज करूं तुमसे विनती हिय से मत दूर मुझे करना सोंप दिया तन सोंप दिया मन मान सदा दिल का रखना क्लेश न हो कुछ द्वेष न हो अपने मन की तू... Read more

जब वफ़ा पर सवाल होता है

जब वफ़ा पर सवाल होता है तब बुरा दिल का’ हाल होता है जब तलक हम सँभल नहीं पाते फिर नया इक बवाल होता है याद आता है बचपन... Read more

गम तो बांटो जरा किसी के

नीर भरी हैं उसकी अँखियाँ बीत रहीं हैं चुप-चुप रतियाँ साजन गए विदेश न लौटे कौन सुने अब मन की बतियाँ सूनी सूनी अमराई है,... Read more

है समाज का दर्पन कविता

जीने का अवलंबन कविता मेरे दिल की धड़कन कविता कसी हुई है गति यति लय पर, छंदों का अनुशासन कविता भावों का कागज़ पर चित्रण, ... Read more

चर्चा करें मीडिया वीर

हो जाये जनता चुनाव में, थोड़ा सा भी यदि गंभीर सही लोग आयेंगे चुनकर, बदलेगी सबकी तकदीर अंधे बहरों के शासन में,अबला किसे सुनाय... Read more