जन्मस्थान – सिक्किम
फिलहाल – सिलीगुड़ी ( पश्चिम बंगाल )
दैनिक पत्रिका, और सांझा काव्य पत्रिका में रचनायें छपती रहती हैं।
(तालीम तो हासिल नहीं है पर जो भी लिखती हूँ, दिल से लिखती हूँ)

Copy link to share

माँ

मेरी मां हैं जो हमेशा मुझमें जिया करतीं हैं वो शज़र बनके मुझे छावँ दिया करती है माँ की सूई तो नुकीली भी नही होती कभी जाने कैसे व... Read more

कलम को आज कागज पर

कलम को आज कागज़ पर चलाने की तमन्ना है रुबाई,गीत,गज़लों को सजाने की तमन्ना है भरी महफिल में अपना दिल लुटाने की तमन्ना है किसी की... Read more

होली हुड़दंग

त्यौहार में त्यौहार है होली का त्यौहार हैं लाल पिला हरा नीला रंगों का त्यौहार है धमा-चौकड़ी रंग-बिरंगी सभी करे धमाल हैं सभी ... Read more

ख़ाक में मुझको मिलाने आ गए

जिंदगी भर जह्र पिलाने आ गये ख़ाक में मुझको मिलाने आ गये जी रहे थे हम यहाँ ओ.. बेवफ़ा क्यों हमें फिर से सताने आ गये दूर ह... Read more

न जीना मुहाल कर मुझे तु जहर दे

न जीना मुहाल कर मुझे तु जहर दे कफ़स में रखे तो मेरे पर कतर दे ठिकाना नहीं है मुझे कोई घर दे नहीं घर अगर कोई तेरा ही दर दे ... Read more

के टूटकर बिखरे हम यहाँ उसी के लिए

चला गया वो हमें छोड़ कर किसी के लिए के टूट कर बिखरे हम यहाँ उसी के लिए सकुन दिल का जो मेरे चला गया लेकर तड़प रहा दिल मेरा उस... Read more

ख़्वाब आँखों में सजाना चाहिए

ख्वाब आँखों में सजाना चाहिए हसरतों को पर लगाना चाहिए रास मुझकोे आएं कैसे ये खुशी ज़ख़्म कोई फिर पुराना चाहिए दर्द दिल में... Read more

आँख मेरी चौधिंयाये रौशनी इतनी न दे

आँख मेरी चौधिंयाये रौशनी इतनी न दे राह भटकूँ मैं मुझे तू तीरग़ी इतनी न दे ग़म अता करना फक़त उतना उठा लूँ मैं जिसे आँख से बाहर न... Read more

याद तेरी रुलाये तो मैं क्या करूं

तू मुझे याद आये तो मैं क्या करूँ याद तेरी रुलाये तो मैं क्या करूँ चांदनी रात ने बादलों से कहा चाँद गर रूठ जाए तो मैं क्या करूँ... Read more

दिल दिवाना मिरा हो गया

दिल दिवाना मिरा हो गया ये अजब हादसा हो गया क्या कहें क्या से क्या हो गया बात का रायता हो गया वो जहां को हरा कर गया इश्... Read more

लहजा वो शराफ़त का अपनाए हुए हैं

देखा है हसीं ख्वाब वो घर आए हुए हैं हम हैं कि तसव्वुर मे ही शर्माए हुए हैं करेंगे कैसे कोई गुफ्तगू सनम से हम के जमीं पर वो नज... Read more

मुझ पे मरती थी जानती हो क्या

इश्क़ था मुझसे मानती हो क्या मुझ पे मरती थी जानती हो क्या क्यों भला जाऊँ दूर तुझसे मै जी न पाऊंगा देखती हो क्या आजकल क्यो... Read more

उनके बगैर जिंदगी सचमुच मुहाल है

शामो सहर उन्हीं का फक़त अब ख्याल है उनके बग़ैर जिंदगी सचमुच मुहाल है दिन हो गए पहाड़ से रातें हैं खौफ़नाक़ कैसे बिताएं वक़्त ये मु... Read more

लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं

पालकी दुल्हन कि लाई जा रही हैं लाश आशिक़ की उठाई जा रही हैं हुस्न की महफ़िल सजाई जा रही हैं आज फिर क़ीमत लगाई जा रही हैं ... Read more

उड़ा दूं न नींदे असर देख लेना

मिरा प्यार तू हमसफ़र देख लेना उड़ा दूं न नींदे असर देख लेना ये इश्क-ए-मुहब्बत बला की डगर है लपेटे में लेगी भँवर देख लेना ... Read more

मुहब्बत करके वो डरता रहा है

मुहब्बत करके वो डरता रहा है सनम का नाम ही जपता रहा है मिली है क्यों जफ़ा इश्क़ में उसे ही दिया सा रात भर जलता रहा है बिता... Read more

माँ अब बंदिश हट जाने दो

माँ अब बंदिश हट जाने दो बेटी को जग में आने दो गर्भ मे माँ क्युं मार रही हो मुझको दुनिया में आने दो गुलशन में गुल की माफ़िक़ ... Read more

आज तनहाई में जब अश्क बहाने निकले

■■■■■【 ग़ज़ल 】■■■■ आज तन्हाई में जब अश्क़ बहाने निकले तब छुपे दर्द कई और पुराने निकले नैट के प्यार को संजीदा समझकर पागल हो... Read more

बात मेरी सनम कुछ सुना कीजिये

बात मेरी सनम कुछ सुना कीजिये दिल में कोई न शिकवा रखा कीजिये कृष्ण राधा की गाथा सुना कीजिये ध्यान में उनको अपने रखा कीजिये ... Read more

बात बेबात ही ललकार की बातें करना

बात बेबात ही ललकार की बातें करना क्यों तुझे भाये है तलवार की बातें करना उनको भाता नहीं परिवार की बातें करना मुझको आता नहीं ... Read more

गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं लेते

गर मर्ज़ है कोई तो दिखा क्यों नहीं देते माक़ूल हक़ीमो से दवा क्यों नहीं लेते तुम दिल में छुपी बात बता क्यों नहीं देते रूठे ह... Read more

पल पल जी ले नये साल की तरह

पल पल जी ले नये साल की तरह के ग़म भुला दे गये साल की तरह बिखेर दे खुशी जलते दिये की तरह करे स्वागत आ रहे साल की तरह समेट... Read more

बुलंदीआसमानों की सितारा भी मुबारक हो

बुलंदी आसमानों की सितारा भी मुबारक हो तिरा आया जन्मदिन है जहां सारा मुबारक हो पूरे अरमान हो तेरे मिला मौका मुबारक हो तिरी मंज... Read more

चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग

221 2121 1221 2121 चेहरे पे चेहरों को लगाने लगे हैं लोग फिर खुद को आईने से बचाने लगे हैं लोग आदर्श आज सिर्फ़ कित... Read more

जो बातों से तुमने रिझाया न होता

जो बातों से तुमने रिझाया न होता तो यूं वक़्त हमने गंवाया न होता गजल में भला क्यों बयां दर्द करती अगर प्यार में दिल द... Read more

करो मत वार नयनों से

■■■■■■■★ ग़ज़ल ★■■■■■■■ करो मत वार नयनों से कि दिल उल्फ़त का मारा है ये पहले भी तुम्हारा था ये दिल अब भी तुम्हारा है मेरी... Read more

जन्म जन्म से तुम्हारा है इंतज़ार मुझे

जनम-जनम से तुम्हारा है इंतज़ार मुझे चले भी आओ कराओ जरा दीदार मुझे उजड़ गया है मेरे इश्क़ का चमन लोगो ! मन मुआफ़िक़ नहीं लगती ह... Read more

ख्वाब में उनसे मिला करते हैं

ख्वाब में उनसे मिला करते हैं बात शब भर किया करते हैं चेहरा उनका ही नजर आता है आँख जब बन्द किया करते हैं बात मुहब्बत की हो... Read more

रब की मुझपर मेहर हो गई

रब की मुझपर मेहर हो गई जिंदगी मेरी बेहतर हो गई उन्हें देखते रहे भर नजर शब हुई और सहर हो गई आ गई वो सँवरकर यहाँ उन्हीं क... Read more

जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा

जख्म दिल का भला कैसे छिपाया होगा उभरकर सामने ही दर्द जब आया होगा दास्तां बेवफ़ाई की सुन उस सितमगर की अपना टूटा हुआ दिल याद त... Read more

नारी तेरी व्यथा अनमोल

सुरक्षित नहीं थी इस जहां में हो गई माँ की कोख असुरक्षित || छीप ही गया है बचपन तेरा खनखनाहट भी खो गयी हैं तेरी || लुट जाती ... Read more

उलझन में जिंदगी है मजा ढूँढ रहे हैं

उलझन में जिंदगी है मजा ढूँढ रहे हैं करते हैं जफ़ा लोग वफ़ा ढूँढ रहे हैं बाँटी हैं खुशियाँ मगर खुश फिर भी नहीं हम दुनिया से ... Read more

बेटी विदा हुई हैं असर देखते हैं

सूना सा आज अपना ही घर देखते रहे बेटी विदा हुई है असर देखते रहे दिल पर हमारे घात लगाकर चले गए फिरते हुए किसी की नजर देखते र... Read more

लगता क्यूँ हर आदमी गद्दार है

करती हूँ मुहब्बत तुम्हीं से जान लो डरती नहीं के जीत हो या हार है ग़म नहीं जहाँ मे किसी का साथ हो मिल जाए मुझको गर तेरा ही प्... Read more

जुबाँ पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूँ

जुबां पर जो है दिल में वह नाम लिखती हूं हो जाए मैहर जिंदगी तमाम लिखती हूं निकलते है मेरे दिल से ही जज़्बात सभी मैं जब भी कोई... Read more

वक्त यहीं पर अभी इसको ठहर जाने दे

वक्त यहीं पर अभी इसको ठहर जाने दे तेरे दीदार से नज़रों को गुज़र जाने दे नश्शा हो जाये मुझे मौत मेरी होने तक अपनी आँखों के समंद... Read more

दर्द दिल का न जलाओ तुम

दर्द दिल का न जलाओ तुम अब न मेरे करीब आओ तुम जख्म मेरा भरा नहीं है अभी यूँ न सितम ये और ढाओ तुम परेशां हूं मैं तेरी ही बा... Read more

दुनिया खेले खेल

दुनिया खेल खेले यूँ जैसे कि मदारी है इस जहाँ में लगता है हर कोई जुआरी है खुशबुओं की आहट है बुलबुलों की चाहत भी खिल गया गुल द... Read more

कर गया घायल कँवल को

कल तक था शख्स जो वो मकान से बाहर उसने हि कर दिया मुझको जहान से बाहर बहार लेकर कोई चमन में आये मेरे खिले है फूल मगर गुलसितान स... Read more

मुहब्बत करके वो डरता रहा है

मुहब्बत करके वो डरता रहा है सनम का नाम ही जपता रहा है मिली है क्यों जफ़ा इश्क़ में उसे ही दिया सा रात भर जलता रहा है बिता... Read more

दर्द के भँवर से

दर्द के भँवर से खुदको गुज़रते नहीं देख़ा क्या समझे वो दर्द कभी पलते नहीं देखा चोट खाई इश्क़ में जो बन गया नासूर इस दर्द को सीन... Read more

शमअ प्यार का तुम जलाया करो

तिरगी का बहाना न बनाया करो शमअ प्यार का तुम जलाया करो हसरतें दिल में ना छिपाया करो प्यार की राह में गुल खिलाया करो निभाय... Read more

दफ्न अब हो रहे रिश्ते भी दौलत तले

उसने मुझको जो दिखाई थी वो जन्नत कैसी हुस्न वालों में वहाँ देखी नज़ाकत कैसी दफ्न अब हो रहे रिश्ते भी दौलत के तले सामने आयी ... Read more

हो गए बदनाम क्या जमाने में हम

राह पर वो सामने नज़र आने लगे मुझे मुहब्बत के ही नाम पर बतियाने लगे मुझे हो गए बदनाम क्या जमाने हम जरा अंधे भी अब तो आँख दिखा... Read more

दिल रोया बहुत है

दिल रोया बहुत है मेरा विदा से पहले के इश्क़ में छल गई हूं वफ़ा से पहले संभाला है मैने खुदको बड़ी मशक्कत से तू ने तो मार ही डा... Read more

हम वफ़ादार थे हर हाल वफ़ा करते थे

काम था उनका जफ़ा करना जफ़ा करते थे हम वफादार थे हर हाल वफ़ा करते थे हम जिये कब ऐ सनम बिछर कर पल भर सांस लेने की फकत रस्म अदा... Read more

मेरा सनम मुझको आज हंसाने आया था

मेरा सनम मुझको आज हंसाने आया था जिसने मुझको ही बहुत कल रुलाया था जहाँ में मेरा भी यारों अब नाम हो गया है फ़कत किसी की मुहब्बत... Read more

नारी की इज्ज़त जहां होती हैं

नारी की इज्ज़त जहाँ होती है खुशियों की घड़ियाँ वहाँ होती है इशारों इशारों में होती है बातें मुहब्बत की ना कोई ज़ुबा होती है ... Read more

दिल मेरा टूटा उसी पर घात हो गई

कोई पूछे हमसे के क्या बात हो गई दिल मेरा टूटा उसी पर घात हो गई घाटी में हो गई मौत बेगुनाहों की सभी अय खुदा ये कैसी वहाँ कयान... Read more

कब हो गई सहर और रात गुज़र गई

देखा है जब से आपको नजर ठहर गई कब हो गई सहर और रात गुज़र गई निभाई है बेवफ़ाई तुमने जाने जां तुम क्या जानो जिंदगी मेरी ठहर गई ... Read more