Awneesh kumar

Allahabad

Joined March 2017

अवनीश कुमार,
www.awneeshkumar.ga
www.facebook.com/awneesh kumar

Copy link to share

हम उनसे मिल कर के नहीं आए है

हम उनसे मिल कर के नहीं आए है फिर क्यू उनकी खुसबू में नहाए है बहुत दिन हुए देखा भी नहीं उनको अभी कितना अन्दर तक समाए है..?(अवनीस क... Read more

तेरे घर खुशियों की बहार है तो क्या मेरे भी गम हजार है

तेरे घर खुशियों की बहार है तो क्या मेरे भी गम हजार है तुम एक बार भी याद ना करो क्या इसी लिए ईद का त्योहार है ? (अवनीश कुमार ) Read more

तुमसे मिल के हर दर्द की दवा हो गई....

तुमसे मिल के हर दर्द की दवा हो गई, जैसे गरमी में भी सर्द हवा हो गई, बात क्या की तुमसे भूल गया लेकिन बात क्या की रूह भी जवा हो गई।... Read more

हो गया सवेरा कई काम निकल आयेंगे तुम्हे नज़र खोजेंगी फिर शाम निकल जाएगी....

हो गया सवेरा कई काम निकल आयेंगे तुम्हे नज़र खोजेंगी फिर शाम निकल जाएगी कहां फुरसत की बनो सिर्फ मकसद तुम्हे सोचने में ऐसे ही फिर... Read more

फिर जज्बात से हक़ीक़त को हार गया हूं.....

फिर जज्बात से हक़ीक़त को हार गया हूं ना चाह कर उसकी हर बात मान गया हूं कैसा रोग दिया है उसने, आंखो में उसकी भूल सारा संसार गया हूं। Read more

बस इतना बताओ क्या कर जाये जिए या खुद ही मार जाये...

बस इतना बताओ क्या कर जाये जिए या खुद ही मार जाये ______ ऐसी बेबसी कभी ना देखी अपनी लफ्ज होठ पर थे और बोले नहीं कभी ______ हर ल... Read more

जहा से चले थे आज भी वही है...

जहा से चले थे आज भी वही है सिर्फ वक्त बदले है हालात आज भी वही है बेशक पहनावे बदले है लोग ,सोच ,उम्मीद आज भी वही है। (अवनीश कुमार) Read more

अब मुझसे छूट जाएगा क्या सच में रिश्ता टूट जाएगा...

अब मुझसे छूट जाएगा क्या सच में रिश्ता टूट जाएगा आंखो में आंसू होगा दर्द भी धासू होगा उसके साथ कल न होगा पहले जैसा पल न होगा... Read more

उसको भी खुद में रहने देना....

उसको भी खुद में रहने देना जीते जी ना मरने देना जैसा भी वक्त हो शायरी की ओ किताब पढ़ते रहना। (अवनीश कुमार) जलने दो जैसे जल रहे ... Read more

कुछ झूठ को, सच बनाके, दिखाना पड़ता है....

कुछ झूठ को, सच बनाके, दिखाना पड़ता है खुद पे इल्जाम न आए, होठ पे जहर रख के दिखाना पड़ता है उनकी भलाई के लिए, जो ना आए खेल, ओ ... Read more

परिंदा हूं आसमान में उड़ना चाहता हूं....

परिंदा हूं आसमान में उड़ना चाहता हूं कस्ती हूं समुंदर में उतरना चाहता हूं हिम्मत,हुनर, हवसला,क़िस्मत कितना है सब परखना चाहता हूं... Read more

मुझपे एक अहसान कर देना

मुझपे एक एहसान कर देना, मुझे छोड़ने से पहले, यह की मेरे प्यार का एहतराम कर लेना मुझसे रिस्ता बेशक तोड़ देना लेकिन ,उससे पहले मेर... Read more

तुम्हारे लहज़े को हमारे दिल से,ये कैसी सिकायात है....

तुम्हारे लहज़े को हमारे दिल से, ये कैसी सिकायत है नाज़ुक से दिल के रिश्ते में ,ये कैसी सियासत है मोहब्बत में सारी जरूरत के मतलब भ... Read more

इश्क़ के एहसास में....

इश्क़ के एहसास में, आँशु निकल जाते है; उनकी एक मुस्कान से, पत्थर दिल पिघल जाते है; मासूम इतने ओ, तारीफ़ में, हद से गुजर जाते है... Read more

आंखो में साजिश....

आंखो में साजिश , होठो पर प्यार लिया था, मेंहदी पिया के नाम की , मुझे तन्हा संसार दिया था कहा था तुमने फिर मिलेंगे पहले ज... Read more

क्या वादा कर के तुम जुदा हुई ....

क्या वादा करके तुम जुदा हुई जाते-जाते क्या कह के तुम बिदा हुई भरोसा दिला कर वफ़ा का , दिखी नही क्या तुम ख़ुदा हुई। मेरी मोहब्बत ... Read more

जो सफर को जिंदगी माने थे ओ सफर से ही अब ऊब गए......

जो सफर को जिंदगी माने थे ओ सफर से ही अब ऊब गए जो हाथ पकड़ चलते थे ओ औरो के साथ दूर गए जो तन्हा होने से डरते थे, मुझको ही तन्ह... Read more

उनकी मेहँदी की खुश्बू अलग है......

उनकी मेहँदी की खुश्बू अलग है ओ मेरे ही घर के बगल है उनकी सहनाई चूब रही है उनके लिए अब हम अलग है।। अब तुम्हरा अंदाज अलग होगा ... Read more

हमारा गम नही है ये,हजारो लोग रोते है.....

हमारा गम नही है ये,हजारो लोग रोते है ओ अकेले चैन से सोते है, यहाँ कई लोग रोते है मुबारक हो शादी बोल देते है सभी लेकिन, जुदाई के ग... Read more

मोहब्बत में जीत के भी हार गया हूं .......

मोहब्बत में जीत के भी हार गया हूं जिसके लिए दरिया के पार गया हूं कैसे मान लू भूल गए होंगे हमे जो माने थे मैं ही उनके दिल के पार ... Read more

मेरे दोस्तों को ना आये ओ काम क्या करू....

(54) मेरे दोस्तों को ना आये ओ काम क्या करू साथ घूमु-घुमाऊ और काम क्या करू शायर तो मैं बन जाऊ लेकिन दोस्तों को समझ नही आती तो शा... Read more

छुट रही थी जीने मरने की ख्वाइश .....

(53) छुट रही थी जीने मरने की ख्वाइश ओ दिखी फीर से जागी उसे पाने की ख्वाइश मुझ पर अहसान करने की बात मत करना अब बहुत हुई इस भोले... Read more

कई जगह से दर्द उठ रहा है,लेकिन तुम्हारा ही दर्द अजीब है

(52) कई जगह से दर्द उठ रहा है,लेकिन तुम्हारा ही दर्द अजीब है तुमसे जुड़ने की जिद्द है की और भी अजीब है⛑ अजीब बात ये तबीयत ख़रा... Read more

मेरा आशिकों सा हाल बना दिया.....

51) मेरा आशिकों सा हाल बना दिया अपनी गलियों का पहरेदार बना दिया मेरी भी सराफत कुछ कम ना थी तुम तो अपनी गलियों का आवारा बना दिया... Read more

ठंडे -ठंडे मौसम में तेरी याद आ रही है .....

ठंडे-ठंडे मौसम में तेरी याद आ रही है जैसे कोहरे के बाद हल्की धुप आ रही है तन्ह रात काट ली है तुम्हारी याद के साथ अब तो आ जाओ आख... Read more

बहोत दिनों बाद आये हो,....

(49) बहोत दिनों बाद आये हो, जैसे क़त्ल का सारा सामान लाये हो, कैसे ना डूबे इन नशीली आँखों में तुम तो महफ़िल में महकता जाम लाये ह... Read more

कोई किसी का हकदार नहीं रहता.....

कोई किसी का हकदार नहीं रहता समन्दर पार करने को पतवार नहीं रखता (48)तुम्हारी याद है की जाती नहीं तुम्हारी गलिया अब बुलाती नहीं... Read more

दिल के अहसास जब घर मे फैल जाते है ....

दिल के अहसास जब घर में फ़ैल जाते है नाम बदल के हम कुछ और कहे जाते है उनसे मिलने के लाख जतन करते है सुन के हर आहट मिलने को तड़प जात... Read more

सखियों के संग .....

सखियों के संग तेरा मुस्काना गजब हो गया है नजरो को झुका कर तेरा उठाना गजब हो गया है मेरे दिल को कर के घायल , रेशमी दुपट्टा उड़ा कर... Read more

दिए के उजाले तो तमाम से हो गए...

दिए के उजाले तो तमाम से हो गए दिल के अँधेरे तो आम से हो गए तरक्की हुई ज़माने की और हर सख्स वक्त के गुलाम से हो गए। (अवनीश कुमार ) Read more

(43) अस्क सूखे हो तो गजल बनती है .....

अस्क सूखे हो तो गजल बनती है आंख भीगी हो तो रहम मिलती है कागज की कस्ती कब - तक तैरती मासूम दिल को हो तो चोट ही मिलती है (अवनीश कु... Read more

अभी तक तो इस शहर को आबाद किया था......

अभी तक तो इस शहर को आबाद किया था इलाहाबाद को इलाहाबाद किया था चले गये छोड़ कर आजमगढ़ यहाँ हमने क्या तुम्हे बर्बाद किया था। इश... Read more

नही करेंगे उससे बात .....

नही करेंगे उससे बात, कह के खुद को बहलाना पड़ता है, साम होते-होते उसी को समझाना पड़ता है, बहुत कमजोर कर देती है मोहब्बत, गलती ना ... Read more

मैं हो रहा हु तेरी बेरुखी से बाक़ीब ......

मैं हो रहा हूँ तेरी बेरुखी से वकिब् दिखावटी मोहब्ब्त् अपने पास ही रखो कर दो जुदा खुद से हमे कुछ सालो बाद तो सुकून से शो जाये... Read more

जन्मदिन है आज तुम्हरा मैं मिलने को तड़पता हु.....

तुम्हारी हर बात को दिल मे उतारा कर समझता हूं साथ नही हु लेकिन हर पल तुम्हरे ख्याल में रहता हु प्यार कितना है तुमसे समझा नही पाता ... Read more

जिन पर मैंने गीत लिखा था उनकी हुई सगाई है ......

जिन पर मैने गीत लिखा था उनकी हुई सगाई है जो एक गीत था मन मे उन तक ना पहुँचाई है दब के रह गई पर्वत सी एक कहानी, हो गया वही जो ... Read more

दीये के उजाले तो तमाम से हो गए ....

दीये के उजाले तो तमाम से हो गए दिल के अँधेरे तो आम से हो गए तरक्की तो हुई ज़माने की लेकिन हर शक्श मानसिक गुलाम से हो गए । (अव... Read more

शायरी को जब लफ्ज़ नही मिलता ....

शायरी को मुताबिक जब लफ्ज नहीं मिलता है तुम्हारा नाम आ जाये तो अस्क नहीं थमता है इस बीमार की दवा कौन करेगा तुम्हारे सिवा हमें तो ... Read more

अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है......

अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है खुद पत्ता जैसे शाख से टूट जाते है पढने-लिखने से ज़माने की समझ मिलती है लेकिन पढ़ते-लिखते ही ... Read more

चाहता हु कुछ करना पर कर नहीं पता.......

चाहता हु कुछ करना पर कर नहीं पता दूर तुम होती हो रास्ता नजर नहीं आता मंजिल भी अब रास नहीं अति ना ही कुछ कर पाता हु जिन नजरो में ड... Read more

अपनी खुशी गम लगती है....

अपनी खुशी भी गम लगती है किसी की जब आंख नम लगती है मजदुर दो वक्त की रोटी में चैन से सोता है अमीरों को हर खुसी भी कम लगती है। (अव... Read more

मोहब्बत किसी लफ्ज की मोहताज नहीं.......

मोहब्बत किसी लफ्ज की मोहताज नहीं आँखों से हो जाती है किसी की सरताज नहीं अपनी मंजिल के रस्ते खुद बनाना हर इन्सान के हिस्से में खान... Read more

मैं लिखता हु हर फ़साना मोहब्बत के नाम का .......

मैं लिखता हु,हर फ़साना मोहब्बत के नाम का मैं लिखता हु, हर बात मोहब्बत केे बात का ये दिल पे चोट खाये ही समझेंगे क्यू की मैं लिखता ... Read more

छोटी छोटी बातों पे हर घड़ी रूठा नही करते ....

छोटी छोटी बातों पे हर घडी रूठा नहीं करते सनम माना है तुम्हे प्यार हम झूठा नहीं करते मासूम लफ़्ज़ों में कहा भूल जाओ हमको, सन... Read more

उनकी तस्वीर छुपाये बैठा हूँ......

उनकी शीने में तस्वीर छुपाये बैठा हु कब से तेरे रस्ते पे मुखवीरीलगये बैठा हु हमने सवा सव जतन कर के देखा है अब तो तक़दीर के सताये ब... Read more

दो लफ्जो में दसको की बात कर आये ....

दो लफ्जो में ही,दसको की बात कर आये जैसे चाँद सितारों को भी साथ कर आये सारी स्मृतिया आँखों के आगे घूम गई फिर से पारस को धातु के सा... Read more

दोस्तो के साथ घूमना भी जरूरी काम .....

दोस्तों के साथ घूमना भी जरुरी काम लगता है पानी भी पियो उनके साथ तो जाम लगता है। ऐसे ना कहो की अवारे बने फिरते है दोस्तों के ... Read more

बहुत कठोर नहीं है बनना पड़ता है....

बहुत कठोर नहीं है बनना पड़ता है तुम्हारे याद में मुझे जलन पड़ता है मोम भी दूर से पत्थर ही लगता है लेकिन उसे भी जलना पड़ता है। ... Read more

थोडा उदास हो जाऊ,तो लोग हाल पूछते है.......

थोडा उदास हो जाऊ,तो लोग हाल पूछते है थोडा ख़ुश हो जाऊ, तो वही लोग रुठते है हे रब कैसी सक्ल, और अक्स बनाया तूने थोडा गंबीर हो जाऊ... Read more

जमाना खूब सूरत है समझने भर की देरी है.......

जमाना खूब सूरत है समझने भर की देरी है इस भाग दौड़ की दुनिया में चलने भर की देरी है जो कुछ भी करेगा क्या भूखा मरेगा यह बुरा वक्त ह... Read more