लेखक- कहानी और उपन्यास. उपन्यास ‘मंगल बाज़ार के लेखक’

Copy link to share

कहानी - मिट्टी के मन

बहती नदी को रोकना मुश्किल काम होता है. बहती हवा को रोकना और भी मुश्किल. जबकि बहते मन को तो रोका ही नही जा सकता. गाँव के बाहर वाले ता... Read more

कलंकी

सुबह का समय था| सूरज निकला, उसकी स्वर्ण पीताभ किरणें मेरे मुंह पर आ रहीं थी| में बड़े आनंद से उनका अनुभव करते हुए नींद की गोद में सिम... Read more