ashok dard

Joined December 2016

अशोक दर्द
लेखन-साहित्य की विभिन्न विधाओं में निरंतर लेखन व प्रकाशन
सम्मान- विभिन्न सामजिक व साहित्यिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित
वर्तमान पता-प्रवास कुटीर बनीखेत तह. डलहौज़ी जि. चम्बा (हि.प्र)
मोबाइल -9418248262
ईमेल-ashokdard23@gmail.com

Copy link to share

तीन कविताएँ

[20] शब्द चितेरा मैं भी होता शब्द चितेरा ,कोई बात न्यारी लिखता | होरी की दुःख - गाथा लिखता , धनिया की लाचारी लिखता || ... Read more

कविता ...उसके प्यार में

उसके प्यार में ... यार मेरा मेरे घर आया होता | रौशनी से घर मेरा जगमगाया होता || उनकी याद सहेजता इस तरह | एक सुंदर ताजमहल बनाया... Read more

अशोक दर्द की पांच कविताएँ

कभी मैंने जो .... कभी मैंने जो उनकी याद में दीपक जलाये हैं | सुनहरी सांझ में पंछी यूं घर को लौट आये है... Read more

कविताएँ

फैंके हुए सिक्के .... फैंके हुए सिक्के हम उठाते नहीं कभी | अपनी खुद्दरियों को गिरते नहीं कभी || खुद के बड़ा होने का जिनको गरूर... Read more

कविताएँ ----- महके महके आशियाने हो गये , नेकियाँ दिल में..,फूलों की खेतियाँ

महके महके आशियाने हो गये | चिड़िया के बच्चे सियाने हो गये || हर तरफ हैं प्यार की ही खेतियाँ | नफरतों के अब जमाने हो गये || जे... Read more

लघुकथाएं हथियार , बदलता समय , मापदंड

हथियार [लघुकथा ] सोहन का तबादला दूर गांव के हाई स्कूल में हो गया |शहर की आबो –हवा छूटने लगी |पत्नी ने सुझाव दिया,कल हमारे मोहल्ले म... Read more

लघुकथाएं

विमला को गाँव वाले मास्टरनी कह कर बुलाते थे | क्योंकि उसके पति गाँव के सरकारी स्कूल में मास्टर जो थे |गाँव में मास्टरनी को भी मास्टर... Read more

कविताएँ

वक्त की हुंकार यह कैसी वक्त की हुंकार मिलती है | हो रही मानवता तार –तार मिलती है || मेरे बेटों –बहुओं से मुझे बचाओ तुम | बेच... Read more

पांच कविताएँ

कवि और कलम बारूद के ढेर पर बैठी दुनिया समझा कवि | नफरतें सब धुल जाएँ प्रेमगीत सुना कवि || जंग की तैयारी में ब... Read more

कविता

फैंके हुए सिक्के .... फैंके हुए सिक्के हम उठाते नहीं कभी | अपनी खुद्दरियों को गिरते नहीं कभी || खुद के बड़ा होने का जिनको गरूर... Read more

बेटी

बेटी धरती का श्रृंगार है बेटी | कुदरत का उपहार है बेटी || रंग-बिरंगे मौसम बेशक | जैसे ऋतू बहार है बेटी || कहीं शारदा कहीं रणचं... Read more

मेरे पहाड़ में

मेरे पहाड़ में उगते हैं आज भी प्रेम के फूल , और घासनियों पर उगती है सौहार्द की दूब ; घाटियाँ गूंथती हैं छलछलाती नदियों की मालाएं ... Read more

अशोक दर्द की कविताएँ

अग्निगीत तुम लिखो उनके खिलाफ अग्निगीत जिन्हें देश को गलियाँ बकने के बदले जनता की गाढ़ी कमाई की बरियानी खिलाई जाती है देश तो... Read more