अरविन्द राजपूत 'कल्प'

साईंखेड़ा जिला-नरसिहपुर म.प्र.

Joined January 2017

अध्यापक
B.Sc., M.A. (English), B.Ed.
शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय साईंखेड़ा

Books: सम्पादक
कल्पतरु – एक पर्यावरणीय वार्षिक पत्रिका

Awards:
चेतना सम्मान ,चेतना मध्य प्रदेश,
मध्य प्रदेश आम अध्यापक संघ
रोटरी क्लब गाडरवारा,
साहित्य पीडिया पब्लिकेशन नई दिल्ली- “बेटियां काव्य संग्रह” में ‘मां की कोख में मुझे न मारो’ पर,
महाराणा प्रताप सम्मान – राजपूत क्षत्रिय महासभा करेली नरसिंहपुर
7000906464

Copy link to share

मुक्तक

फ़लक के चांद तारे सब, जमीं से प्यार करते हैं। घुमड़ते मेघ बारिश कर, दिली इज़हार करते हैं।। कड़कती धूप सूरज दे, सुनेहरा कर लुभाता है। ... Read more

मुक्तक - हूर-ए-ज़न्नत भी तेरे नूर पे बेनूर हो जाए

हूर-ए-ज़न्नत भी तेरे नूर पे बेनूर हो जाए। रब भी तरास कर तुझे देखते मग़रूर हो जाए।। कारीगिरी से रब ने ऐ खूबसूरत रूप बख्शा है। आइना द... Read more

शैर

छूकर लवों को यूँ मदहोश कर दिया। छाया खुमार ऐसा हम न हम रहे।।।। काश हमारे गीतों को, गर शब्द आपके मिल जाएं । महक उठेगा जीवन उ... Read more