उ प्र के इलाहाबाद जनपद के गाँव कठौली में एक जनवरी1962 को जन्म। बचपन से रंगमंच और साहित्य में रुचि। पेशे से अध्यापक। कविता, कहानी, गीत, लघुकथा, समीक्षा, लेख और साक्षात्कार पत्र – पत्रिकाओं में प्रकाशित। मेरे गाँव की धूप” कविता संग्रह प्रकाशित।

Copy link to share

बेटियाँ

बेटी बचाइये!बेटी बचाइये!! बेटी से सृष्टि चलती नव सभ्यता पनपती दो-दो कुलों में बनकर दीपक की लौ चमकती बेटी पराया धन है मन से न... Read more

सूर्य उगाएँ

आओ मिलकर नए साल का सूर्य उगाएँ दुश्चक्रों में फँसी रोशनी कैसे निकले मन में इतनी बर्फ जमी है कैसे पिघले तारीखों को दिए बचन हम भू... Read more

मत पढ़ो अखबार

मत पढ़ो अखबार पढ़ पाओगे क्या शत्रु पर एतबार कर पाओगे क्या बाप ने बेटी से मुँह काला किया वह मुई लाचार ,पढ़ पाओगे क्या लोभियों ने फू... Read more