क्षेत्र 'प्रेम' मुखिया

सिलीगुड़ी, दार्जिलिङ्ग

Joined September 2018

पढने लिखने में रुचि

Books:
१) अनाकृत मर्म (नेपाली)
२) मेरा अक़्स (हिन्दी)
३) भाव मंथन (नेपाली)
४) तृषित मन (नेपाली)

Copy link to share

सोचते-सोचते

तुम्हारा प्रणय जो आँखों में दिखता है सच है या आँकलन मेरा! जीवन भर बसने का दृढ संकल्प है या परदेशी सा हृदय आँगन में केवल क्... Read more

मन का फितूर

सम्बोधन को शब्द न मिलने पर 'प्रिये'हीन यह खत तुम्हारे समक्ष आने को तम्तयार है। हाथों की लकीरों में जब तुम्हें नहीं पाया तो ... Read more

परिवर्तन

तज दो अब तुम यह जीर्ण मनोवृत्ति जो मूल्यहीन आदर्शों के ताक चढ़ा रखी है । . युग के परिवर्तन का शंखनाद हो चुका है, विवशता, निर... Read more

जीवन का पहला अक्षर 'माँ'

कौन कहता है कि अक्षरें, 'अ' से शुरू होती हैं मेरे जीवन का पहला अक्षर तो, 'माँ' से शुरू होती हैं माँ वो जिसने मुझे अपने, खून से... Read more

!!! ख़्वाब फ़रोख़्त* !!!

जब कहीं सुकून की साँसे नसीब न हुई ज़िन्दगी के बाजार में, खुशफ़हमियाँ आबाद न हुए इस दिले आज़ार में, शहर-ए-किताब में दो शब्द... Read more

# कल्पनाओं में उलझता प्रेम #

सुनो ! तुम जो मेरी संवेदनाओं को कुचलती कर्कश ध्वनि उत्पादित करती हो न तो ये रिश्तों में दरार पैदा करती है । सामञ्जस्य के य... Read more

# अधूरी अभिव्यक्ति #

आज भी हथेलियों से अपने दिल को टटोलता हूँ मैं कि कहीं तुम्हारी चाहत शिथिल तो नहीं हो गई ! चेहरा भी तो धूँधला सा गया आँखों में... Read more

# तुम.. मैं.. और वह #

लो देखो बाँट लिया है हमने अपने दिल को दो हिस्सो में। अस्थिर मन:स्थिति के द्वन्द में तुम ...मैं...और वह न जाने कहाँ तक का ... Read more

!!! *गोया बुलाती हो तुम मुझे !!!

हर कोई मोड़ पे मुड़-मुड़कर देखा हैं मैने गोया बुलाती हो तुम छुप-छुपकर मुझे ! कभी आँखों के इशारों से तो कभी दाँतो तले उँगली द... Read more

बैरी परदेशी पिया तुम याद बहुत आए

हाथ में मेहेन्दी रचे सावनके झुले आए बैरी परदेशी पिया तुम याद बहुत आए झुल रही सखीयाँ गाए मिलन के गीत बरस रहे हैं आँसु तेरे प्यार... Read more

!!! नई दिशा !!!

अवैकल्पिक इस जीवन में गाँठ बाँध ली हैं हमने ये मन में उठकर चलना हैं अब नएँ सवेरे इस जीवन के, व्यर्थ न खोना समय यूँ ही बस बैठ अश... Read more

"तुम हो तो जीवन में मेरे कुछ रंग है"

यूँ प्रेम का इज़हार जरूरी तो नहीं लेकिन अहसास को मूर्त-रूप देने की लोलुपता में अनुभव की कुछ झुर्रियों को अक्षरों की बैशाखी ... Read more

तुम्हे क्या पता !???

.. कह सकती हो तुम निष्ठुर मुझे इसमें कोई अपवाद नहीं ! परन्तु परिस्थिती के संकिर्णता में जकड़कर खुद अपने मन की आकाँक्षाओं का अ... Read more

!!! मैं तो कुछ भी नहीं !!!

क्यों कहते हो तुम कुछ भी नहीं ! तुम्हारे आँच से यहाँ किसी की ज़िन्दगी रोशन हैं, तुम्हारे तसब्बुर से यहाँ कुछ कदमों में जान हैं, ... Read more

कुछ अदा फरिश्तो की आदमी में होती हैं

हसरतों की दास्ता याँ शायरी में होती है कुछ अदा फरिश्तो की आदमी में होती हैं देखे हैं कहाँ तुुमने चाहते दिवानो के दिल हथेली पे र... Read more

यूँ इक रात चाँद मेरे छत बसर किए

यूँ इक रात चाँद मेरे छत बसर किए। मुसलसल रात ढलती रही हसरतो के कारवाँ लिए, सितारे झिलमिलाते रहे मेरे परेशानियों के साथ, कभी क... Read more

=== उनसे कहना ===

उनसे कहना !! ------------------ उनसे कहना !! बज़ाहिर ज़िन्दगी के चमन के कुछ गुल बदले बदले से है, आते जाते राह में चेहरे नए ... Read more