जीवन के छोटे छोटे पलो घटनाओं को शब्दों में व्यक्त करना ही कविता है, जाने अनजाने पहलू को अभिव्यक्त करने का प्रयास ही मेरे लिये लेखन है और किसी का दुख दर्द छू पाना इसकी सफलता ।

Copy link to share

प्रति दिन एक लौ जला रहाहूँ

प्रतिदिन एक लौ जला रहा हूं । नव आशाओं के खिले कमल , उन पर गाते भंवरों के दल , सब की आकांक्षाएं प्रबल , गीत प्रीत के रचा रहा ह... Read more

चौराहा

नमन मंच 9/1/2019 छंद मुक्त चौराहा इक चौराहे पर खड़ा हुआ सोच रहा था मानव मन सत्य की पकड़ूं राह या पतली गली से निकल जाऊं अ... Read more

भीड़

6/1/2020 भीड़ बस एक भीड़ लिए उन्माद का रूप खिलते खेलते घर को कर गई तबाह एक आह न निकल पाई हुआ सब कुछ बर्बाद । क्या ... Read more

नया साल

2/1/2020 वर्ष नवल तुम यूँ आना सावन की नन्ही बूंदो से कलुष सभी मिटा जाना खिल खिल जाए पात खुशी से निखरी निखरी धूप में ... Read more

जश्न होती ज़िंदगी

यूँ कहानी अंत भी हो प्रश्न होती जिंदगी । जीत हो या हार जाएं जश्न होती जिंदगी।। प्रीत जो स्वीकार हो तो हाथ थामा कीजिए , गर निभ... Read more

दुलारी सिम्मी

दुलारी सिम्मी . ...मां बाबा के बाद सबकी उतरन पहनकर पढ़ाई करना तक तो ठीक था। पढ़ाई के लिए सरकारी स्क... Read more

पहचानो तुम मन की शक्ति

सृष्टि की अंधी दौड़ भाग जीवन में लगी हुई आग हो तुम मानव मन की प्रीत रच लो मौन राग का गीत छोड़ो झूठी यह आसक्ति ... Read more

पहचानो तुम मन की शक्ति

सृष्टि की अंधी दौड़ भाग जीवन में लगी हुई आग हो तुम मानव मन की प्रीत रच लो मौन राग का गीत छोड़ो झूठी यह आसक्ति ... Read more

माँ

मां तुम याद बहुत आती हो चूल्हे पर फुलके सेंक सेंक कंगन के खनखन करते गीतों से प्यार परोसा करती थी माँ तुम याद बहुत आती हो ... Read more

रुत भी आ कर बीत गई

यह रुत भी आकर बीत गई मन की सब बतिया रीत गई गुलमोहर पर छाई बहार उस पर गर्मी का प्रहार दुल्हन ले जाए धूप कहार मौसम के स... Read more

जग सारा बाज़ार हुआ

बाहर के आडंबर हैं मन का .सूना अंबर है भावों का. तो मेला है मानव .स्वयं अकेला है भाव सलीका औजार हुए जग सारा बाजार हुआ... Read more

माँ

माँ तू दृश्य अभिराम जीवन की बहती नदिया कभी रुकी पवन सी कभी चले मन भाती पुरवाई माँ तू ममता की सीपी का मोती है माँ तू घिर... Read more

सरदार पटेल

सरदार पटेल लहू में उसके देश प्रेम का उठता हुआ तूफान था मन में एक प्रगतिशील देश का सपना साकार था स्वतंत्रता सेनानी एक वीर योद... Read more

dev ho tum danav bhi tum

देव हो तुम दानव भी तुम सृजन की हो आस तुम विनाश का भी भास तुम मरण जीवन चक्र तुम उद्धार का द्वार भी तुम देव भी तुम दानव भी... Read more

कविता हर पल की साक्ष्य बनो तुम

कविता हर पल की साक्ष्य बनो तुम अनवरत यात्रा सी इक पथिक के गुनगुनाते ख्वाबों की प्यास सी इतिहास के फ़लक पर नेह संस्कृति का धनक ... Read more

दंगख, फसाद

विधा पिरामिड विषय दंगा हां आशा संदेशा परिभाषा जो मन चंगा न फसाद दंगा कठौती में हो गंगा हां दंगा उन्मादी ... Read more

यात्रा

एक यात्रा नमन मानवता चार्ल्स डार्विन के विकास वाद के सिद्धांत और प्रकृति चयन से आए पहले मनुष्य के अस्तित्व की चौपाए से इंसान... Read more

यात्रा

एक यात्रा नमन मानवता चार्ल्स डार्विन के विकास वाद के सिद्धांत और प्रकृति चयन से आए पहले मनुष्य के अस्तित्व की चौपाए से इंसान... Read more

सम्भावनाओ की तलाश ज़ारी है

सम्भावनाओं की तलाश ज़ारी है कविता तुम्हें तलाशता हूँ हर इक सम्भावना में ख़ुशनुमा पलों की सरगम अत्याचार अनाचार के विरुद्ध मौन चीख ... Read more

हलचलें

हलचलें हलचलें होती ज़िंदगी की हरारते सोचो तो जो सब अच्छा अच्छा होता संघर्ष टेंशन दुख का नाम नहीं होता कौन किसे उपदेशों का ... Read more

मन का करघा

मन का करघा चला सूत से एक चदरिया बुन डाली रेशे रेशे में रंग केसरिया से मन सन्यासी कर डाला अन्तर्मन में तुझे सजाकर नैनों की ज... Read more

सफ़र ज़ारी है

हर इक मुकाम पर अनजानी मंज़िलों को तलाशती ज़िंदगी की अभिलाषाओं का सफर ज़ारी है हर इक शज़र पे रंग बदलते मौसमों का खिलते झरते... Read more

मुखौटे ही मुखौटे

दर्द की चौखट पर विषाद से घिरे भरे भरे नैनों से फिर भी भाव छुपाते मुस्कराते मुखौटे ही मुखौटे धर्म की आढ़ में छलते मानव मन को ... Read more

इंद्रधनुष

इंद्रधनुष - एक संवाद दूर कहीं एक टूटे फूटे घर में जहाँ गरीबी की परिभाषा भी शरमाती थी माँ गोद लिए बैठी थी अपनी इकलौती निध... Read more

इंद्रधनुष

इंद्रधनुष - एक संवाद दूर कहीं एक टूटे फूटे घर में जहाँ गरीबी की परिभाषा भी शरमाती थी माँ गोद लिए बैठी थी अपनी इकलौती निध... Read more

बेनाम रिश्ते

निखरती कृति तराशी जाती लेखनी इक नया आयाम रचती लेखनी का दर्द कृति का निखार कर जाता सार्थक इन दोनों का ये बेनाम रिश्ता सूर्... Read more

आसमानी जादूगर

।ये आसमानी जादूगर कितनी कविताएँ जगाता है भोर के सूर्य सी आशाओं की कविता जो पोर पोर में पुलक सी जगाती है भरी दोपहर में खून के... Read more

अँधेरा

उजास ,प्रकाश , रौशनी एक ही शब्द के पर्याय तुम मानते अपने को श्रेष्ठ मुझे कमतर आँकते तुम्हारा अस्तित्व मुझसे ही तो है दीप की जल... Read more

खामोशियाँ

गुनगुनाते झरनो के रसीले सुर फूलों के खिलते मासूम रंग तितली भँवरों की ये गुनगुन अनकहे प्रेम की बहती तरंग सितारों की अनगढ़ च... Read more

दिल्ली

दिल्ली कटते जा रहे नगर के सैकड़ों शजर हैं कैसे होगी गुजर कठिन चारों पहर हैं दिल्ली तुम दिल वालों की बस्ती रही हो बाकी ... Read more

रावण

रावण हर वर्ष मेरा पुतला जलाते हो बुराई पर अच्छाई का दम भी भरते हो कभी देखा खुद को क्या क्या हुनर दिखाते हो घटनाएँ घट जाये ... Read more

जश्न जिंदगी

जीवन जीने का यत्न जिदंगी खुद क्यूँ हो रही प्रश्न जिंदगी छोड़ ही दे सिलसिले सवालों के उम्मीदों का खूबसूरत जश्न जिंदगी यूँ... Read more

मुद्दे

मुद्दे रोज नये नये उठाते रहे राम को तो कभी रहीम को जगाते रहे रहता था जो रब दिलों में उसे थपकिया दे कर सुलाते रहे सो... Read more

बेटियाँ

ऑखो में काजल लगाती बेटियाँ कभी ऑसू बहाती बेटियाँ कभी दो टूक कर दे दिलों को कभी रिश्तों को रफू कराती बेटियाँ कभी ... Read more

बेटियाँ

ऑखो में काजल लगाती बेटियाँ कभी ऑसू बहाती बेटियाँ कभी दो टूक कर दे दिलों को कभी रिश्तों को रफू कराती बेटियाँ कभी ... Read more