Dr Archana Gupta

मुरादाबाद

Joined May 2016

Founder, Sahityapedia

डॉ अर्चना गुप्ता
(Founder,Sahityapedia)

माता- श्रीमती निर्मला अग्रवाल
पिता- स्मृति शेष डॉ राजकुमार अग्रवाल

शिक्षा-एम०एस०सी०(भौतिक शास्त्र), एम०एड०(गोल्ड मेडलिस्ट), पी०एच०डी०

निवास-मुरादाबाद(उत्तर प्रदेश)

सम्प्रति-पूर्व एसोसिएट प्रोफेसर , संस्थापक साहित्यपीडिया।

लेखन विधा– छांदस काव्य, गीत, ग़ज़ल, गीतिका, दोहे, कुण्डलिया, मुक्तक आदि और कविता, लेख, कहानी आदि

प्रकाशित कृति- तीन संग्रह

1-“ये अश्क होते मोती” (ग़ज़ल संग्रह)
2-अर्चना की कुंडलियां भाग-1 (कुण्डलिया संग्रह)
3- अर्चना की कुंडलियां भाग-2 (कुण्डलिया संग्रह)

सम्पादित कृतियाँ-
चार साझा काव्य संकलन-
1-प्यारी बेटियाँ,
2-माँ (भाग-1)
3-माँ (भाग-2)
4- धरा से गगन तक

अन्य प्रकाशन–अनेक साझा संकलनों में विविध विधाओं में रचनाएं संकलित, प्रमुख पत्र -पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित।
आकाशवाणी और दूरदर्शन लखनऊ से प्रसारित

सम्मान- देश की विभिन्न संस्थाओं द्वारा समय – समय पर अनेक महत्वपूर्ण सम्मानों से सम्मानित यथा-
गोपालदास नीरज गीतिकाकार सम्मान -2016,मुक्तक रत्न सम्मान-2016, पर्यावरण मित्र सम्मान-2017, वाग्देवी सम्मान-2018, हिंदुस्तान महिला दिवस सम्मान-2017, ज्ञान मन्दिर पुस्तकालय सम्मान-2017, साहित्य प्रतिभा सम्मान 2019,ट्रू मीडिया साहित्य सम्मान- 2019 आदि
अनेक ऑन लाइन सम्मान

ईमेल-drarchanaatul@gmail.com

Copy link to share

होनी अनहोनी

शिप्रा आज सुबह 5 बजे ही उठ गई थी। गुनगुनाती हुई अपने सब काम कर रही थी। उसे देखकर ही लग रहा था कि वो आज बहुत खुश है। और खुश हो भी क्य... Read more

लव इन कोरोना

रूपा चुपचाप अस्पताल में बिस्तर पर लेटी थी। आँखों में चिंताओं के घने बादल छाए थे। 'पता नहीं माँ कैसी होगी...अकेले कैसे रहेगी....सामान... Read more

मजबूरी(कहानी)

सुबोध और सीमा ,उम्र 75 से 80 के बीच, दोनों नोएडा में एक सोसाइटी में रहते थे। बच्चे बंगलौर और मुम्बई में थे । लोकडाउन की वजह से द... Read more

प्रायश्चित

90 साल की उर्मिला सबकी आँखों को खटक रही थी।वैसे भी उसके बहू ममता से सम्बंध कभी भी अच्छे नहीं रहे थे। हमेशा छत्तीस का आंकड़ा ही रहा। ... Read more

काश.......

बीना और कुमुद देवरानी जिठानी थी। दोनों में बहनों जैसा स्नेह था । दोनों की शादी में मात्र एक साल का अंतर था । अब दोनों ही गर्भवती थी... Read more

तलाक

रूपा के जन्मते ही उसकी माँ मर गई थी। दूसरी माँ आई तो उसे पालने पोसने के नाम पर लेकिन अपने तीन बच्चे पैदा करके पालने पोसने में लगी रह... Read more

रिहाई

विभा आँखे फाड़ फाड़ कर पति सुनील को देख रही थी अट्ठाइस साल हो गए शादी को। शादी के बाद जितने कष्ट सुनील ने उसे दिये। उसके माँ बाप भाइय... Read more

अभिशाप (एक दर्द भरी कहानी)

फोन की घण्टी बज रही थी.....मोहित ने घड़ी देखी सुबह के 7 बज रहे थे । उसने फोन उठाया । उधर से आवाज आई.....मैं थाने से बोल रहा हूँ........ Read more

कल्पना की उड़ान

माँ क्या है ये...तुम भी न हर समय वही राग....मन नही लगता...अरे खुद ही कुछ करो ...मैं क्या कर सकता हूँ ..तुमने तो हमारी परवरिश भी ठीक... Read more

पर्दा (कहानी)

एक्सीलेटर से अपर्णा नीचे उतर रही थी ।एकाकीपन से ऊबकर आज वो मॉल में घूमने आई थी। रवि कई दिन से बीमार था । बहुत दिनों से घर नही आया था... Read more

करवट ज़िन्दगी की

कभी आस्था की ज़िंदगी में सुबह शाम दोनों होती थी । अब केवल शाम ही रह गई थी या ये समझ लो इतने गहरे बादल छा गए की सूरज निकल ही नहीं पा र... Read more