Dr Archana Gupta

मुरादाबाद

Joined May 2016

Founder, Sahityapedia

डॉ अर्चना गुप्ता
(Founder,Sahityapedia)

माता- श्रीमती निर्मला अग्रवाल
पिता- स्मृति शेष डॉ राजकुमार अग्रवाल

शिक्षा-एम०एस०सी०(भौतिक शास्त्र), एम०एड०(गोल्ड मेडलिस्ट), पी०एच०डी०

निवास-मुरादाबाद(उत्तर प्रदेश)

सम्प्रति-पूर्व एसोसिएट प्रोफेसर , संस्थापक साहित्यपीडिया।

लेखन विधा– छांदस काव्य, गीत, ग़ज़ल, गीतिका, दोहे, कुण्डलिया, मुक्तक आदि और कविता, लेख, कहानी आदि

प्रकाशित कृति- तीन संग्रह

1-“ये अश्क होते मोती” (ग़ज़ल संग्रह)
2-अर्चना की कुंडलियां भाग-1 (कुण्डलिया संग्रह)
3- अर्चना की कुंडलियां भाग-2 (कुण्डलिया संग्रह)

सम्पादित कृतियाँ-
चार साझा काव्य संकलन-
1-प्यारी बेटियाँ,
2-माँ (भाग-1)
3-माँ (भाग-2)
4- धरा से गगन तक

अन्य प्रकाशन–अनेक साझा संकलनों में विविध विधाओं में रचनाएं संकलित, प्रमुख पत्र -पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित।
आकाशवाणी और दूरदर्शन लखनऊ से प्रसारित

सम्मान- देश की विभिन्न संस्थाओं द्वारा समय – समय पर अनेक महत्वपूर्ण सम्मानों से सम्मानित यथा-
गोपालदास नीरज गीतिकाकार सम्मान -2016,मुक्तक रत्न सम्मान-2016, पर्यावरण मित्र सम्मान-2017, वाग्देवी सम्मान-2018, हिंदुस्तान महिला दिवस सम्मान-2017, ज्ञान मन्दिर पुस्तकालय सम्मान-2017, साहित्य प्रतिभा सम्मान 2019,ट्रू मीडिया साहित्य सम्मान- 2019 आदि
अनेक ऑन लाइन सम्मान

ईमेल-drarchanaatul@gmail.com

Copy link to share

आज घर माँ हमारे आई है

ज्योत नवरात्र की जलाई है आज घर माँ हमारे आई है माँ का दरबार जो लगाया है फूल दीपों से वो सजाया है चौकी चाँदी की इक मंगाई ह... Read more

गाँधी जी पर गीत

आँधियाँ बापू सच की चलाई जहाँ झूठ की ही हवा का वहाँ वास है थी बहाई अहिंसा की गंगा यहाँ फिर जगी क्यों हुई खून की प्यास है ज़िन्द... Read more

मुस्कुराने लगेगी यही ज़िन्दगी

साथ में पग हमारे मिलाकर चलो गीत गाने लगेगी यही ज़िन्दगी गम के मौसम रहेंगे नहीं फिर यहाँ मुस्कुराने लगेगी यही ज़िन्दगी तान छेड़ी ... Read more

राधाष्टमी

राधा कृष्णा जन्मे थे,है अष्टमी बड़ी पावन चहका है किलकारी से, हर घर, मंदिर का आँगन कृष्ण पक्ष को जन्मे मोहन कृष्णा कहलाये शुक्... Read more

सरस्वती वंदना

वंदना स्वीकार करना शारदे मां शारदे ज्ञान के भंडार भरना शारदे मां शारदे कंठ में माँ तुम सजा दो सात सुर की लहरियाँ भाव की दिल म... Read more

माहिया गीत

तुम बिन सूना जीवन वक़्त नहीं कटता तन्हा मन का आँगन तुम ही तो थे अपने पकड़ नेह डोरी बुन डाले थे सपने अब टूट गया बंधन वक़्त... Read more

वर्षा ऋतु पर गीत

भोर हुई है गीली गीली पवन चल रही सीली सीली छटा बहुत ही है रंगीली काले काले बादल छाये रिमझिम रिमझिम जल बरसाये भीगी भीगी माटी... Read more

जय श्रीकृष्ण

मीरा सी दीवानगी, राधा जैसी प्रीत श्याम तुम्हारी भक्ति की, चली आ रही रीत गोबर्धन को थाम कर, तोड़ा इंद्र गुरूर नाग कालिया मार कर... Read more

अयोध्या का राम मंदिर

लड़ाई थी बहुत लंबी मगर ये जीत पाई है घड़ी मंदिर बनाने की जरा नजदीक आई है पिता मालिक जगत भर के रहे वो टेंट के अंदर बड़ा वनवास थ... Read more

रक्षाबंधन गीत

भैया आती याद पुरानी वो बातें बचपन में जब की थी बड़ी खुराफातें दुश्मन भी तब तुम ही बड़े हमारे थे मगर जान से अधिक हमें ही प्यारे... Read more

माहिया गीत(श्री राम)

कब राम तुम आओगे रामराज्य फिर से धरती पर लाओगे पग पग पर रावण हैं धर्मपरायण पर मिलते न विभीषण हैं कब दुष्ट मिटाओगे रामर... Read more

माहिया गीत (सावन)

ये हरियाला सावन बहुत सताता है कब आओगे साजन काले काले बादल ठंडी बौछारें मन को करती पागल मौसम ये मनभावन बहुत सताता है क... Read more

रहा न वो लाखों का सावन

रहा न वो लाखों का सावन नहीं सुकोमल पहले सा मन बदल गईं हैं रीत पुरानी सूना है बाबुल का आँगन वो पेड़ों पर झूले पड़ना कजरी गान... Read more

ज़िन्दगी रंगीन लेकिन हो गई है

उड़ गये हैं रंग रिश्तों के यहाँ पर ज़िन्दगी रंगीन लेकिन हो गई है आचरण में औपचारिकता बढ़ी है दृष्टि भी केवल दिखावे पर गढ़ी है शर्म... Read more

बज उठीं खन खनन काँच की चूड़ियाँ

जब घिरी सावनी साँवली बदलियां बज उठीं खन खनन काँच की चूड़ियाँ छू पवन को चुनर भी लहरने लगी जुल्फ चेहरे पे ऐसे बिखरने लगी लग रह... Read more

सरस्वती वंदना

प्यार की ज्योत दिल में जला दीजिये मात तम नफरतों का मिटा दीजिये स्वार्थ की भावना यूँ प्रबल हो रही टूट रिश्ते रहे, आस्था खो रही ... Read more

देशभक्ति का गीत

भारत का दुश्मन कोई भी हो वो मुँह की खायेगा दुश्मन को उसकी ही भाषा में समझाया जायेगा पाक सदा आतंकवाद की चालें चलता रहता है पर... Read more

वक़्त चलता चाल कितनी शातिराना है

वक़्त चलता चाल कितनी शातिराना है पैंतरा इसका वही अपना पुराना है जाल सुख दुख के सदा रहता बिछाता है जन्म हो या मृत्यु रखता सबसे ... Read more

माहिया गीत

हम खुद से हारे हैं बदले- बदले जो अंदाज़ तुम्हारे हैं भूले वादे अपने जो दिखलाये थे सब तोड़ दिये सपने आँसू के धारे हैं बदले ... Read more

बात दिल की आँसुओं से हो रही है

बह रहा है खारे पानी का समंदर बात दिल की आँसुओं से हो रही है नींद भी आगोश में लेती नहीं है स्वप्न की सौगात भी देती नहीं है ज... Read more

शरद पूर्णिमा(गीत)

चाँदनी में नहाती हुई रात है । चाँद में आज कुछ खास ही बात है । चाँद है आज सोलह कलायें लिये , लग रहा जल उठे हो हज़ारों दिये। रूप ... Read more

कोरोना का वार विफल करना ही होगा

घर के अंदर बन्द अभी रहना ही होगा कोरोना का वार विफल करना ही होगा चाहें खुलें दुकानें मस्ज़िद और शिवालय फिर खुल जायें मॉल सिन... Read more

सोच रही हूँ मोदी रक्खू नाम

सोच रही हूँ क्या रक्खूँ मैं , उस पुस्तक का नाम कोरोना है जिसमें रावण , मोदी जी हैं राम राम की तरह मर्यादा का वो पालन करते हैं... Read more

मगर तुम न आये मगर तुम न आये

खड़े थे सनम हम निगाहें बिछाये मगर तुम न आये मगर तुम न आये कभी रो दिये तो कभी मुस्कुराये मगर तुम न आये मगर तुम न आये नहीं रा... Read more

संसार राम तुम बिन अब तो न चल सकेगा

संसार राम तुम बिन अब तो न चल सकेगा अवतार फिर धरा पर लेना तुम्हें पड़ेगा अब स्वार्थ की दिलों में बहने लगी नदी है अच्छाई खो गई ... Read more

कोरोना की हार।

हो जाएगी इक दिन देखो कोरोना की हार गले मिलेगा इक दूजे से, पूरा ये संसार आज बनाता हम सबका ही आने वाला कल है मानव को मिलता उस... Read more

रंग, अबीर- गुलाल उड़ाएं होली में

रंग, अबीर- गुलाल उड़ाएं होली में दुश्मन को भी मीत बनाएं होली में कुदरत ने क्या खूब बनाई रंगोली मीठी खुशबू मस्त हवाओं में घ... Read more

मुहब्बत हो हमारी तुम , भुला अब तो न पाएंगे

मुहब्बत हो हमारी तुम , भुला अब तो न पाएंगे रहेंगे पास ही दिल के भले ही दूर जाएंगे खज़ाना यादों का लेकर अमीरी में जियेंगे हम ज... Read more

बसंत गीत

धुंध कोहरे की खुद में सिमटने लगी शीत बाँहों में उसके पिघलने लगी ये बसंती सुगंधित पवन क्या चली प्रीत गुपचुप दिलों में मचलने लगी... Read more

वीरों का ऐसा हो वसंत

सीमा पर लड़ने वालों से कोई बड़ा नहीं यहाँ संत इनको भी रंगों में रँग दे,वीरों का ऐसा हो वसंत जीवन मृत्यु इन दोनों से ही इनकी होती ह... Read more

झंडे का सत्कार किया करते हो

जब तुम अपने झंडे का सत्कार किया करते हो क्यों तेरा मेरा कहकर तकरार किया करते हो कुदरत से हम सबको ही कितने प्यारे रंग मिले त... Read more

सूर्य उपासना

ये सूर्यदेव हमको लगते पिता से प्यारे करते उपासना हम भगवान ये हमारे ये पूर्व में उदय हो पश्चिम में अस्त होते ये रात दिन हैं चलत... Read more

है बहुत अफसोस देखो जल रहा है ये वतन

चंद लोगों की वजह से खो गया है अब अमन है बहुत अफसोस देखो जल रहा है ये वतन धर्म की ही आग में यूँ जल रहा है देश सारा जान भी जात... Read more

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार आये माधव भी नहीं, सुनकर वही पुकार माँ करती थी रात दिन, मेरा बड़ा दुलार बाबा तूने भी दिया , म... Read more

भारत का गणतंत्र

आस्था अर विश्वास का, मूल्यों का है मंत्र इक किताब है न्याय की , भारत का गणतंत्र यहाँ धर्मनिरपेक्षता, समानता का सार प्रेम औ... Read more

दोहा गीत

बन अज्ञानी तू नहीं, ऐ भोले इंसान जीवन ये अनमोल है, रखले पूरा ध्यान आँखों में जो बन्द हैं, तेरे अनगिन स्वप्न पूरे करने के लि... Read more

बड़ा तेज मन का मृग भागे

बड़ा तेज मन का मृग भागे बिना रुके बस आगे आगे नींदों के उपवन में डोले सपने लेकर भोले भोले दुनिया ये तब तक ही उसकी जब तक न... Read more

शरद पूर्णिमा

चाँदनी में नहाती हुई रात है । चाँद में आज कुछ खास ही बात है । चाँद है आज सोलह कलायें लिये , लग रहा जल उठे हो हज़ारों दिये। रूप ... Read more

रो रहा आकाश धरती अश्क पीती जा रही है।

रो रहा आकाश धरती अश्क पीती जा रही है। पीर की बदरी घनी दोनों दिलों पर छा रही है। डूब सूरज चाँद तारे भी गये देखो गगन में। है ब... Read more

सभी का एक है नारा कि हिंदुस्तान है हिंदी

बसी है धड़कनों में ये, हमारी जान है हिंदी । हमें है गर्व हिंदी पर, हमारी शान है हिंदी । सरल गंगा नदी सी यदि अडिग भी है हिमालय सी... Read more

दिल के बड़े धनी पर, धन से गरीब हैं हम

दिल के बड़े धनी पर, धन से गरीब हैं हम हँसते रहें ग़मों में , कुछ तो अजीब हैं हम हमको सदा मिली है , दीवार बीच धन की है झूठ बात जब... Read more

कान्हा तुम वापस आ जाओ

उद्धव हमको मत समझाओ, नहीं ज्ञान का पाठ पढ़ाओ । बस तुम ये संदेश हमारा , जाकर कान्हा तक पहुँचाओ। कान्हा तुम वापस आ जाओ। कान्हा त... Read more

हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है

हमारा आज ही देखो हमारा कल सजाता है न वापस लौट कर बीता हुआ ये वक़्त आता है हमेशा वक़्त ने हमसे हमारे छीने अपने हैं इसी ने आज त... Read more

श्याम की बाँसुरी

जब अधर पर सजी श्याम की बाँसुरी छीन दिल ले गई श्याम की बाँसुरी हो गई प्यार में राधिका बावरी रँग में साँवरे के हुई साँवरी हर... Read more

तिरंगा

तिरंगे में लिखी केवल न गीता की कहानी है, लिखी इसमें कुरान आयतें गुरुग्रन्थ वाणी है। तिरंगा अपना कौमी एकता की भी निशानी है । ... Read more

सरस्वती वंदना

जोड़ कर हम करें वंदना आपकी बस बरसती रहे माँ कृपा आपकी भूल होतीं बहुत हम तो नादान हैं माँ मगर आपकी ही तो संतान हैं माँ तो हो... Read more

सरस्वती वंदना

तू भूल मेरी कर क्षमा खुशियों भरा संसार दे माँ शारदे माँ शारदे, नादान हूँ पर प्यार दे मैं राह सच्ची पर चलूँ देना सदा ये ज्ञान मा... Read more

सरस्वती वंदना

कर रही हूँ वंदना दिल से करो स्वीकार माँ लाई हूँ मैं भावनाओं के सुगंधित हार माँ माँ हरो अज्ञान सब, सद्बुद्धि का वरदान दो ... Read more

माहिया गीत

है हरियाला सावन रिमझिम ये बारिश मौसम भी मनभावन आयेंगे अब साजन पैर न धरती पर मन चूमे आज गगन लाये साजन कंगन मेंहदी म... Read more

मानसून

मानसून तुम कहाँ छिपे हो, अपनी सूरत दिखलाओ। ताप हरो थोड़ा धरती का, अब रिमझिम जल बरसाओ । देख प्रचंड रूप सूरज का, हर प्राणी ही... Read more