Dr Archana Gupta

मुरादाबाद

Joined May 2016

Founder, Sahityapedia

शिक्षा– एम. एस. सी.(भौतिक विज्ञान) , एम. एड.(गोल्ड मेडलिस्ट), पी.एच डी.
निवास -मुरादाबाद(उ .प्र)
जन्म- 15 जून
संप्रति —
-अध्यापन
-गीत ,ग़ज़ल मुक्तक , छंद, मुक्त काव्य , गद्य , कहानी लेख आदि सभी विधाओं में लेखन
-www.sahityapedia. com की संस्थापक और प्रेजिडेंट
–ब्लॉगर itsarchana. com
-भौतिक विज्ञान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोध पत्र प्रकाशित
-अनेक रचनाएँ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित
-टी वी और रेडियो पर कार्यक्रम प्रसारित
—ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित ( *ये अश्क होते मोती* )
—-संपादक( प्यारी बेटियां )
—अनेकों रचनाएँ साझा काव्य संकलनों में प्रकाशित
-राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय मंचों पर काव्य पाठ

— साहित्य गौरव सम्मान, मुक्तक रत्न सम्मान, गोपाल दास नीरज गीतिकाकार सम्मान, पर्यावरण मित्र सम्मान आदि सम्मान

Books:
ग़ज़ल संग्रह (ये अश्क होते मोती)

Copy link to share

प्यारे पापा

गहरे हैं सागर से पापा ऊँचे भी अम्बर से पापा सहते कड़ी धूप हैं पापा ईश्वर का ही रूप है पापा स्वयं दीप से जलते पापा जीवन में ... Read more

जंगल का स्कूल

जंगल में स्कूल खुला जब, हल्ला इसका मचा बहुत तब। मैदान इमारत सभी कुछ सुंदर, नज़र टिकी सबकी झूलों पर । महँगी महँगी फीस किताबें, प... Read more

व्यंजन का पाठ

पहले की स्वरों की बात अब है व्यंजन से मुलाकात क से कमल खिलता कीचड़ में ख से खरगोश रहे जंगल में ग से गायक ने गाना गाया घ से... Read more

माँ

खुशियों से बच्चों की झोली भरती है माँ मुझको तो एक परी सी लगती है देख नहीं पाती है बच्चों को दुख में उनके रोने पर माँ भी रो... Read more

अ आ इ ई पढ़ना होगा

अ आ इ ई पढ़ना होगा हमको आगे बढ़ना होगा अ से अदरक आ से आलू छम छम नाचा काला भालू इ से इडली ई से ईश्वर गलत काम करने से त... Read more

दादू और छोना

दादू को छोना है प्यारी उनकी तो है राजकुमारी नहीं मगर दोनों की पटती बात बात पर वो रो पड़ती दादू मना मना के हारे लाकर दिय... Read more

मोबाइल की दुनिया

मोबाइल की है ये दुनिया व्यस्त इसी में चुनिया मुनिया रहते हैं अब गुमसुम आँगन सूने सूने रहते उपवन छीन लिया बच्चों का बचपन न... Read more

दादू की सोनपरी

सोनपरी दादू की प्यारी दादू उस पर वारी वारी दादू की ये गुड़िया रानी सुनती उनसे रोज कहानी बाहों में भर खूब झुलाते धीरे ध... Read more

गुड़िया रानी

घर आई है गुड़िया रानी उसकी सुन लो आज कहानी पापा की है बड़ी लाडली कोमल नाजुक सी लगे कली मम्मी की आँखों का सपना गुड़िया रा... Read more

सर्दी आई सर्दी आई

टप टप टप टप टप टप टप टप बूंदों ने जब सरगम गाई गड़ गड़ गड़ गड़ गड़ गड़ गड़ गड़ बादल ने भी ताल मिलाई थर थर थर थर थर थर थर थर सर्दी स... Read more

मदारी आया

डमरू बजा मदारी आया दो बंदरिया बंदर लाया बंदर तो मोटा मोटा था कद लेकिन थोड़ा छोटा था बंदरिया थी छैल छबीली और बहुत थी वो... Read more

काले काले बादल छाये

काले काले बादल छाये सर्दी तन को और सताये पवन लग रही है बर्फीली धरती काँपी होकर गीली सर्दी के मौसम में भैया जरा नहीं ये मन... Read more

नर्सरी राइम्स

1 मछली ****** मछली रंगबिरंगी प्यारी लगती जैसे राजकुमारी पानी में ही जी सकती है तभी निकलने से डरती है 2 बंदर ***** उछल क... Read more

ठंडा ठंडा माह दिसम्बर

ठंडा ठंडा माह दिसम्बर ढका हुआ कोहरे से अंबर सूर्य नहीं जब दिया दिखाई हमने छोड़ी नहीं रजाई मम्मी को तब गुस्सा आया कान पकड़... Read more

जगमग करती है दीवाली

रात बहुत जब होती काली जगमग करती है दीवाली दीपों की सजती है माला छा जाता हर ओर उजाला घर की साफ सफाई करती मम्मी लगता कभी ... Read more

पर्यावरण बचाओ

देख आदमी की मनमानी,पेड़ों ने इक सभा बुलाई। बिना दोष काटे जाते हम ,इसे रोकना होगा भाई। बरगद पीपल तात हमारे, प्राणवायु के ये वाहक ह... Read more

लाल बहादुर शास्त्री

लाल बहादुर थे विद्वान हम सब को इन पर अभिमान सादा जीवन उच्च विचार इनके जीवन का था सार जय जवान और जय किसान दिया इन्होंने... Read more

विनती सुन लो हे भगवान

विनती सुन लो हे भगवान सदबुद्धि का दो वरदान दे दो हमें गुणों की खान करें बड़ों का हम सम्मान ठीक राह पर बढ़ें कदम हमको दे ... Read more

चाचा नेहरू

चाचा नेहरू हमको प्यारे भारत माँ के राजदुलारे बाल दिवस से इनका नाता लाल गुलाब इन्हें है भाता प्रधानमंत्री प्रथम हमारे उस... Read more

गाँधी जी

भारत माँ की आंखों के थे तारे बापू अपनी आज़ादी के हीरो प्यारे बापू । सत्याग्रह से आज़ादी की लिखी कहानी आती थी उनको अपनी बातें मन... Read more

चाँद और सूरज

आते रवि शशि बारी बारी करें सुबह और शाम हमारी दिन तो होते गोरे गोरे काली लेकिन रात बिचारी एक जगाता एक सुलाता अलग अलग दो... Read more

मकड़ी

मकड़ी बुनती रहती जाल अकड़ अकड़ कर चलती चाल कभी कहीं भी कोना पाती मकड़ी फ़ौरन जाल बनाती तन्मयता से बुनती रहती लगता जैसे कभी न ... Read more

दादा जी का छाता

दादाजी का छाता काला दादा जी का है रखवाला इसे पकड़ वो ऐसे चलते जैसे अपनी छड़ी पकड़ते कभी यही डंडा बन जाता बंदर कुत्ते दूर भ... Read more

अलार्म घड़ी

एक अलार्म घड़ी मँगवाई कुकड़ूँ कूं की टोन लगाई छःबजे का अलार्म लगाया स्वर भी उसका जरा बढ़ाया और तान ली सर पर चादर सोये घोड़े... Read more

गणपति

गणपति कहती दुनिया सारी सूंड तुम्हारी लगती प्यारी लड्डू खाते भर भर थाली बात तुम्हारी बड़ी निराली सर हाथी का कितना भारी और... Read more

बिल्ली मौसी

बैठ ट्रैन में चली चंदौसी बिल्ली मौसी बिल्ली मौसी लगा गणेशचौथ का मेला खाएगी वो जम कर पेड़ा सुंदर सी पहनी है साड़ी पर्स ले ... Read more

चन्दा दूर गगन का तारा

चन्दा दूर गगन का तारा लेकिन लगता हमें हमारा घटता बढ़ता ही ये रहता पर अपना दुख कभी न कहता इसकी आँखों से तो बहती है बस शीत... Read more

रंग सब्जियों के

होते कितने लाल टमाटर लाल लाल ही होती गाजर लाल लाल ही दिखे चुकंदर खान गुणों की इनके अंदर हरे रंग की भाये भिंडी सफेद रँग की ... Read more

चंदा मामा रहे कुँवारे

चंदा मामा रहे कुँवारे पर कितने ये प्यारे प्यारे इक गोरी तो इक है काली आती दोनों बारी बारी देखें चुपचुप सारे तारे चंदा मा... Read more

तिरंगा

जगत में निराला तिरंगा हमारा मधुर गान प्यारा ये जय हिंद नारा ये केसरिया साहस की कहता कहानी ये रँग श्वेत सद्भाव की है निशानी ... Read more

काली घटा घिरी मतवाली

काली घटा घिरी मतवाली। धरती ने ओढ़ी हरियाली अमवा पर डाले हैं झूले झूम रही है डाली डाली आओ मिलकर झूला झूलें प्यार करें नफरत को ... Read more

भोर

रात छिपी जाकर चिलमन में सूरज निकला नील गगन में साथ भोर की लेकर डोली किरणों से भर अपनी झोली धरती ने भी आँखें खोली फूलों न... Read more

स्कूल बस

बस ने हॉर्न दिया क्या भाई मानो अपनी आफत आई पापा आये आगे आगे बस्ता लेकर हम भी भागे मम्मी ने वापस बुलवाया लंच बॉक्स हमको... Read more

भोला भाला बचपन

भोला भाला कितना बचपन होता निश्चल कोमल सा मन रिमझिम रिमझिम बरखा आई बच्चों पर मस्ती सी छाई केले के पत्ते से कितनी छतरी भी क... Read more

प्यारा हिंदुस्तान

जग में सबसे ऊँची शान अपना हिंदुस्तान महान बसी तिरंगे में है जान ये ही है अपनी पहचान करते पहले इसे सलाम फिर करते जन गन का ... Read more

गुलाब

मैं हूँ सब फूलों का नवाब सबका प्यारा मैं हूँ गुलाब काँटों में हँसता रहता हूँ नहीं शिकायत मैं करता हूँ रँग मेरे सब प्यारे प... Read more

घनर घनर घन मेघा गरजे

घनर घनर घन मेघा गरजे टप टप टप टप पानी बरसे मेंढक टर टर टर टर्राये नाचे मोर पपीहा गाये लहर लहर लहरायें शाखें माटी की खुशब... Read more

फलों का राजा आम

आमों का जब मौसम आता हमको लदा हुआ आमों का ,बाग बहुत ललचाता हरे हरे पत्तों में छिपकर, ये कितना इतराता खट्टा- मीठा रहे स्वाद में... Read more

सरहद

मम्मी कहती बनना डॉक्टर पापा टीचर या इंजीनियर मुझे बड़े होकर लड़ना है अपने दुश्मन से सरहद पर दुश्मन की नापाक हरकतें नही रही अ... Read more

छोटे बालक

छोटे छोटे से बालक हम छोटे छोटे हैं अभी कदम मन उड़ता पर नील गगन में बहुत हौसलों में अपने दम संस्कारों में तपना हमको अभी घड़े... Read more

जन्मदिवस

जन्मदिवस जब मेरा आया धूमधाम से उसे मनाया मम्मी ने पंडित बुलवाकर सबसे पहले हवन कराया खास खास ही लोग बुलाये दोस्त खूब सज धज ... Read more

घड़ी

टिक टिक टिक टिक टिक टिक करती घड़ी न इक पल को भी रुकती होती सुई बड़ी और छोटी इक पतली इक होती मोटी एक तेज़ इक धीरे चलती घड़ी न इ... Read more

क्रिकेट

पापा बल्ला बॉल दिला दो, क्रिकेटर बन जाऊँगा मैं भी मेहनत करके जग में अपना नाम कमाऊँगा मैच देखता जब टीवी पर, मेरा मन ललचाता है ... Read more

घोड़ा

घोड़ा करतब करे कमाल भाती सबको इसकी चाल ठुमक ठुमक कर देखो चलता मगर हवा से बातें करता ठुके पैर में इसके नाल घोड़ा करतब करे क... Read more

सर्दी आई

दाँत बजाती सर्दी आई अच्छी लगने लगी रजाई सफेद चादर कोहरे ने भी धरती को चहुँ ओर उड़ाई कोट पुलोवर मफलर टोपी धूप सुनहरी मन क... Read more

प्यारी बुआ

बुआ छुट्टियों में जब आती घर मे रौनक सी आ जाती पापा भी बच्चे बन जाते खूब बुआ से लाड़ लड़ाते और बुआ भी उनसे दुगुना हमपर अपना प्... Read more

सप्ताह के दिन

सप्ताह में दिन होते सात करे जरा कुछ उनकी बात मिले ग्रहों पर इनको नाम उनके जैसे इनके काम पहने चंद्रजड़ा ये हार बड़ा शान्ति... Read more

अच्छी आदत

रोज सवेरे किरणें आकर दरवाजे पर देतीं दस्तक बड़े प्यार से हमें जगाने आ जाती हैं वो खिड़की तक मम्मी फ़ौरन ही उठ जाती खिड़की का... Read more

गर्मी का मौसम

गर्मी का मौसम लो आया आम बना राजा इतराया तरबूजों खरबूजों ने भी बाजारों में रौब जमाया जामुन आड़ू लीची ने सज सबके ही मन को लल... Read more

परिवार

दादी को पापा हैं प्यारे चाचा भी हैं बहुत दुलारे प्यारे प्यारे पोते पोती उनकी आंखों के हैं तारे चाचा पापा वैसे भाई बात बात... Read more