Dr Archana Gupta

मुरादाबाद

Joined May 2016

Founder, Sahityapedia

शिक्षा– एम. एस. सी.(भौतिक विज्ञान) , एम. एड.(गोल्ड मेडलिस्ट), पी.एच डी.
निवास -मुरादाबाद(उ .प्र)
जन्म- 15 जून
संप्रति —
-अध्यापन
-गीत ,ग़ज़ल मुक्तक , छंद, मुक्त काव्य , गद्य , कहानी लेख आदि सभी विधाओं में लेखन
-www.sahityapedia. com की संस्थापक और प्रेजिडेंट
–ब्लॉगर itsarchana. com
-भौतिक विज्ञान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोध पत्र प्रकाशित
-अनेक रचनाएँ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित
-टी वी और रेडियो पर कार्यक्रम प्रसारित
—ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित ( *ये अश्क होते मोती* )
—-संपादक( प्यारी बेटियां )
—अनेकों रचनाएँ साझा काव्य संकलनों में प्रकाशित
-राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय मंचों पर काव्य पाठ

— साहित्य गौरव सम्मान, मुक्तक रत्न सम्मान, गोपाल दास नीरज गीतिकाकार सम्मान, पर्यावरण मित्र सम्मान आदि सम्मान

Books:
ग़ज़ल संग्रह (ये अश्क होते मोती)

Copy link to share

जय श्री राम

1 करते हैं संसार में ,वही निराले काम मर्यादा में राम जो, और प्रेम में श्याम 2 बहुत निराली प्रीत की होती है ये डोर मन को खुद ... Read more

दोहे (ज़िन्दगी)

चेहरे पर चेहरा चढ़ा, कैसे हो पहचान अपने भी तो आजकल, लगते हैं अनजान दिल में तो है दर्द पर , होठों पर मुस्कान दिल पर इतना बोझ है... Read more

राजनीति पर दोहे

राजनीति के मंच पर, कैसे कैसे खेल गठबंधन में दिख रहे, उल्टे सीधे मेल राजनीति के सामने, जनता है लाचार कैसे होगा देश का, अब ऐस... Read more

जगदम्बे पर दोहावली

1 ऊँचे ऊँचे पर्वतों, पर माँ का दरबार उनके दर्शन से मिले, मन को खुशी अपार 2 मन को खुशी अपार हो, जब गम होते दूर माँ सच्ची अरदा... Read more

बसंत

1 बरसे बादल प्रीत के,प्यारी लगी फुहार भीग रहे अरमान है, झंकृत मन के तार बसंती हवा चली है, खिली भी कली कली है 2 भीगा हुआ बसंत... Read more

विरह पर दोहे

1 अपनी आंखों में लिये, सपनों का संसार सजनी दर पर ही खड़ी, रस्ता रही निहार 2 आँखों मे भी दर्द है ,मुखड़ा बड़ा उदास सजनी साजन से ... Read more

जीवन

फूल खिले कलियाँ हँसी, चिड़ियाँ गायें गान दस्तक देती भोर है, उठ जा तू इंसान आये सजकर भास्कर,पहन किरण का ताज नभ में छाई लालिमा,... Read more

तन मन धन

1 पंच तत्व से तन बना, उस मे ही मिल जाय नहीं यहां से साथ में, कुछ भी ले जा पाय 2 सोता जब ये तन रहे,मन रहता गतिमान सपनों के ही... Read more

नेता जी

छिड़ी चुनावी जंग है, नेता है बेहाल देख हवा का रुख सभी, बदल रहे हैं चाल परनिंदा में ही लगे, खोल रहे हैं पोल नेता जी का लग रहा, अब... Read more

बाल दिवस पर दोहे

चाचा नेहरू ने किया, बच्चों से यूँ प्यार बाल दिवस का दे दिया, उन्हें एक उपहार बाल दिवस का स्वप्न भी, तब होगा साकार बाल श्रम क... Read more

दुर्गा माँ पर दोहावली

1 ऊँचे ऊँचे पर्वतों, पर माँ का दरबार उनके दर्शन से मिले, मन को खुशी अपार 2 मन को खुशी अपार हो, जब गम होते दूर माँ सच्ची अरदा... Read more

दशहरे पर दोहे

विजयादशमी का मना ,रहे सभी त्यौहार। रावण रूपी दम्भ का, करके फिर संहार।।1 भ्रात विभीषण ने किया, गूढ़ रहस्य आम और रावण का हो गया, ... Read more

देश भक्ति पर दोहे

अपना भारत वर्ष है, हमको मात समान। करें भाल अपने तिलक, माटी चन्दन मान।।1 देश चलाने के लिये, बनती है सरकार। मगर देश हित से नहीं, ... Read more

सावन पर दोहे

सावन की हर बूँद पर,प्रीत कर रही शोध हरियाली से हो गया , सुंदरता का बोध सावन लाया प्रीत के,अहसासों का हार हरियाली ने लिख दिया,... Read more

सर्जीकल स्ट्राइक

1 बलात्कार पर भी करें, राजनीति का खेल टीवी पर चलने लगी ,वक्तव्यों की रेल न नेता करते हैं हल, दिखे इनको अपना कल 2 स्ट्राइक थी... Read more

ईद पर दोहे

कैसे अपनी ईद हो, दिखा न अपना चाँद आँखों मे ही रह गया, बन कर सपना चाँद गले यादों से मिलकर, बह रहे आँसू झर झर दिखा चाँद तो हो... Read more

गंगा जी पर दोहे

मलिन न गंगा जी हुईं ,धोते धोते पाप पर उस कचरे से हुईं, फेंके हम अरु आप पावन गंगा में करें, तन मन का स्नान बुरे विचारों का क... Read more

गर्मी पर दोहे

1 आमों की सौंधी महक, गर्मी की पहचान खरबूजे तरबूज हैं, इस मौसम की जान 2 गर्मी में झुलसी त्वचा, तेज बहुत है धूप चेहरा तन सब ढा... Read more

माँ पर दोहे

माँ से ही परिवार है, माँ से ही संसार माँ से ही है अर्चना, माँ से ही है प्यार माँ तो पहने त्याग का,सदा रहे परिधान माँ ही है भग... Read more

अग्रसेन जी पर दोहे

1 द्वापर युग में हो गये, अग्रसेन अवतार अग्रवाल के रूप में ,दिया नया संसार 2 अग्रसेन जी की सुनो , महिमा अपरम्पार सारे जग में ह... Read more

होली

1 खुशबू भरी बसंत की,चारो ओर बयार फूलों की ही बस दिखे , खिलती हुई बहार प्यार का आया मौसम, दूर हो जाएंगे गम 2 बागों में खिलने लगी... Read more

सर्दी

कोहरा खेले आजकल, चोर सिपाही खेल सूरज को खुद में छिपा,धूप भेज दी जेल बर्फीली चलती हवा, चला रही है तीर पहने मफलर कोट पर, बदन रह... Read more

नया साल।

साँस आखिरी भर रहा, जाने वाला साल जो आया वो जाएगा, यही काल की चाल पहला दिन है साल का, भीगी भीगी भोर फिर सपनों के गाँव मे, नाच... Read more

चार दिनों की ज़िंदगी , खेले कैसे खेल

22-10-2017 आज मिला ऐसा सबक, टूट गईं सब आस जीने का कोई सबब , रहा न कोई ख़ास चार दिनों की ज़िंदगी , खेले कैसे खेल उम्र कैद की... Read more

आँसू

आँसू मन का कर गए, सीधा सा उपचार खारे पानी मे बहे, मन के सभी विकार गम हो या कोई खुशी, आँसू बहें जरूर दिल से भी बीमारियां, ये ... Read more

बिरले ही बनते यहाँ , तुलसी सूर कबीर

1 घिस घिस कर पाषाण पर, हिना बिखेरे रंग तभी चमकते हम यहाँ,सहें कष्ट जब अंग 2 तुलसी साधू हो गये, मोह गया जब टूट । सियाराम से हो ... Read more

नारी का उत्थान

अन्तर्राष्ट्रीय महिलादिवस की हार्दिक बधाई नारी के उत्थान में, है नारी का हाथ देना होगा खुद उसे, नारी का ही साथ अपनी ताकत ... Read more

मतदान पर दोहे

लोकतंत्र का है यही, हम सबको पैगाम अपना मत देकर सही, करें देश का काम सत्ता को समझो नहीं, नेताओं जागीर जनता के इक वोट से , बद... Read more

रँगा चुनावी रंग में, नया नया ये साल

रँगा चुनावी रंग में, नया नया ये साल नेता जी भी अब नये , बिछा रहे हैं जाल बिछाएंगे भी दाना ,न झांसे में सब आना , चोट हजारी... Read more

लोहड़ी की हार्दिक शुभकामनाएं

लोहड़ी का त्यौहार है, सर्द सर्द सी रात जलती इसमें आग जब ,लगती ये सौगात रेबड़ी मक्का खायें, झूम सब नाचे गायें लोहड़ी देखो जल उठी ... Read more

कुछ दोहे

बिन सोचे समझे नहीं , करना भारत बंद अच्छे दिन अब दूर हैं , बस कदमों पर चंद दाल गलेगी अब नहीं,सुनो खोल कर कान काला धन अब देश ... Read more

जवानों को शत शत नमन

हैवानों के देश में ,विष की फलती बेल भूल तभी अपना खुदा ,खेलें खूनी खेल करता है जो पाक तू, सदा पीठ पर वार कपटी तेरी सोच है, नीच... Read more

पनघट

पनघट अब मिलते कहाँ , सूख गए सब कूप देखो अब तो गाँव का ,बदल गया है रूप हँसता था पनघट जहाँ , आज वहाँ सुनसान होता था ये गाँव क... Read more

संघर्ष

पल पल करके ही यहाँ,रहें बीतते वर्ष होते लेकिन कम नहीं, जीवन के संघर्ष संघर्षों से सीख ली , हमने तो इक बात हिम्मत से कर सामन... Read more

आज़ादी

लिख आज़ादी खून से ,सौंपी हमें लगाम रक्षा करना देश की , अब हम सबका काम आज़ादी के जश्न में , डूबे सारी रात जोश भरा था खून में ,द... Read more

किस्मत

1 इम्तिहान ले ज़िन्दगी ,करे पास या फेल किस्मत भी इसमें बड़ा, खेले अपना खेल 2 मिलना खोना सब भले , हो किस्मत के हाथ नहीं छोड़ना ... Read more

ॐ नमः शिवायः (दोहे)

1. सावन में जपते रहो,शिव शंकर का नाम करने से शिव अर्चना,बनते बिगड़े काम 2. भोले भोला नाथ शिव , सबके पालनहार हो जायें ये रुष्ट त... Read more

पारस

पारस हैं माता पिता ,दें खुशियों की खान उनसा इस संसार में ,कोई नहीं महान पारस जिसको भी छुए वो सोना हो जाय संगत का जैसा असर पाठ... Read more

प्रकृति ने ही हमें दिया , जल जैसा उपहार,

प्रकृति ने ही हमें दिया,जल जैसा उपहार, हम हरियाली काट कर,मिटा रहे श्रृंगार आसमान को ताकते , बेबस से ये नैन गर्मी से झुलसा बदन... Read more

?ईद मुबारक ?

? आप सभी को ईद की ,बहुत मुबारकबाद रहे ज़िन्दगी आपकी, खुशियों से आबाद ? सेवइयों का ले रहे ,मीठा मीठा स्वाद और ईद की दे रहे ,दि... Read more

योग

1 सुख सुविधाओं का नहीं ,बनना कभी गुलाम तन को देकर कष्ट कुछ, नित्य करो व्यायाम 2 योगासन यदि नित करो , दूर रहेंगे मर्ज़ करना लोग... Read more

वृक्ष लगाओगे अगर , होंगे सब खुशहाल

रहे तिरंगे से सजा , अपना भारत देश इसके रंगों में छिपे, सुन्दर से सन्देश अगर न पोषित की धरा ,संकट में फिर प्राण रहो नही अनजा... Read more

प्रीत पर दोहे

दोहे 1 हमने अपनी प्रीत पर ,लिखे यहाँ जो गीत सात सुरों में बाँध खुद , झूम गया संगीत 2 बादल पर लिख दे घटा , बारिश का तू गीत र... Read more

भोर

बहुत पुराना रात दिन ,का आपस में बैर अपनी अपनी राह पर, करते दोनों सैर दिन ने की जो सूर्य की, किरणों की बरसात चाँद सितारे साथ ... Read more

कुछ दोहे (माँ)

प्यार लिखा हर पृष्ठ पर ,माँ वो खुली किताब माँ के आँचल की महक, जैसे खिला गुलाब माँ तो ममता का कभी ,रखती नहीं हिसाब बेटा हो सक... Read more