Dr Archana Gupta

मुरादाबाद

Joined May 2016

Founder, Sahityapedia

शिक्षा– एम. एस. सी.(भौतिक विज्ञान) , एम. एड.(गोल्ड मेडलिस्ट), पी.एच डी.
निवास -मुरादाबाद(उ .प्र)
जन्म- 15 जून
संप्रति —
-अध्यापन
-गीत ,ग़ज़ल मुक्तक , छंद, मुक्त काव्य , गद्य , कहानी लेख आदि सभी विधाओं में लेखन
-www.sahityapedia. com की संस्थापक और प्रेजिडेंट
–ब्लॉगर itsarchana. com
-भौतिक विज्ञान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शोध पत्र प्रकाशित
-अनेक रचनाएँ राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय पत्र पत्रिकाओं में निरंतर प्रकाशित
-टी वी और रेडियो पर कार्यक्रम प्रसारित
—ग़ज़ल संग्रह प्रकाशित ( *ये अश्क होते मोती* )
—-संपादक( प्यारी बेटियां )
—अनेकों रचनाएँ साझा काव्य संकलनों में प्रकाशित
-राष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय मंचों पर काव्य पाठ

— साहित्य गौरव सम्मान, मुक्तक रत्न सम्मान, गोपाल दास नीरज गीतिकाकार सम्मान, पर्यावरण मित्र सम्मान आदि सम्मान

Books:
ग़ज़ल संग्रह (ये अश्क होते मोती)

Copy link to share

कह मुक़री

जीवन में इनसे बिखरे रँग कदम सधे चलते इनके सँग इनके बिन बस रहती रैना ऐ सखी साजन, न सखि नैना इसके बिना नहीं कुछ भाये हमसे ह... Read more

मुहब्बत इबादत मुहब्बत दुआ है

मुहब्बत इबादत मुहब्बत दुआ है मुहब्बत के बल पर ज़माना खड़ा है जो मेरा है वो भी न मुझको मिला है यही भाग्य में मेरे शायद लिखा है ... Read more

चाँद

रूठता है तो कभी खुद मान जाता चाँद सबको अपनी इन अदाओं से लुभाता चाँद लोरियों में आ के बच्चों को सुलाता चाँद रोज सपनों की नई ... Read more

सुलगे सुलगे दिवस मिले, सहमी सहमी रात मिली

सुलगे सुलगे दिवस मिले, सहमी सहमी रात मिली फूल मिले या काँटे हमको ,आँसू की सौगात मिली जीवन पथ पर पहले से ही, हमको बिछी बिसात मि... Read more

वो डायरी निकाल के रखना कभी कभी

वो डायरी निकाल के रखना कभी कभी सूखे गुलाब उसमें से चुनना कभी कभी छा मन पे जाएंगी वही भीनी सी खुशबुएं उन चिट्ठियों को खोल के... Read more

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार

बाबा तेरी लाडली,फिर से हुई शिकार आये माधव भी नहीं, सुनकर वही पुकार माँ करती थी रात दिन, मेरा बड़ा दुलार बाबा तूने भी दिया , म... Read more

मिलने पे नज़रें हमसे चुराया न तुम करो

मिलने पे नज़रें हमसे चुराया न तुम करो अपना बना के फिर यूँ पराया न तुम करो आंखों से अपनी बातें बनाया न तुम करो यूँ धड़कनों में... Read more

रात दिन तपी गम में पर नहीं थकी हूँ मैं

रात दिन तपी गम में पर थकी नहीं हूँ मैं आयें मुश्किलें कितनी हारती नहीं हूँ मैं झूठ का सहारा ले रोज मुझसे लड़ते हो जानती हूँ स... Read more

भारत का गणतंत्र

आस्था अर विश्वास का, मूल्यों का है मंत्र इक किताब है न्याय की , भारत का गणतंत्र यहाँ धर्मनिरपेक्षता, समानता का सार प्रेम औ... Read more

शर्त

शर्त **** 'शर्त है मैं तुझसे पहले घर पहुँचूंगी।फिर तुझे पिक्चर दिखानी होगी मुझे' ऐसा कहते हुए खिलखिलाकर ऋचा स्कूटी दौड़ाने लगी। मैं... Read more

जय श्री राम

मुक्तक ******* आज कोर्ट का फैसला, हुआ राम के नाम बरसों चलें विवाद पर, अब लग गया विराम सुनकर दोनों पक्ष को, किया गया है न्याय ... Read more

दोहा गीत

बन अज्ञानी तू नहीं, ऐ भोले इंसान जीवन ये अनमोल है, रखले पूरा ध्यान आँखों में जो बन्द हैं, तेरे अनगिन स्वप्न पूरे करने के लि... Read more

दोहा ग़ज़ल

मुझसे है लिपटे हुये,यूँ यादों का तार तेरे जैसा हो गया, है मेरा किरदार कहने का अब अलविदा, समय आ गया यार बस आकर मेरे गले, लग ... Read more

काला हाथी गोरा हाथी

काला हाथी गोरा हाथी बच्चों का पर प्यारा साथी अपनी सूंड हिलाता रहता झूम झूम कर देखो चलता छोटी आँखें छोटी पूँछ बड़े कान ... Read more

जो उसके लौट आने का पैगाम आ गया

जो उसके लौट आने का पैगाम आ गया बेचैनियों को थोड़ा सा आराम आ गया रुसवाइयों के डर से लिया जो कभी न था अनजाने में लबों पे वही ... Read more

बाल दिवस पर रचना

बीता बचपन *********** जब छोटे से बच्चे थे हम नहीं शान थी राजा से कम नखरे जितने दिखलाते थे उतना प्यार अधिक पाते थे सुन माँ... Read more

हम नन्हें नन्हें हाथों से

माना हैं धनवान नहीं हम मगर किसी से कहीं नहीं कम कुछ करके भी दिखलायेंगे बड़ा हौसलों में रखते दम विद्यालय भी जाकर पढ़ते और काम ... Read more

भले ही ज़िन्दगी ने कम सितम ढाया नहीं है

भले ही ज़िन्दगी ने कम सितम ढाया नहीं है मगर फिर भी किसी ने कम इसे चाहा नहीं है बिना चिंगारी के माना नहीं उठता धुँआ भी बिना दे... Read more

गंगा स्नान

बिट्टू ,किट्टू ,गुड़िया, प्राची मम्मी- पापा,चाचा- चाची बड़ी कार में हुये सवार गंगा नहाने चले हरिद्वार बड़ा मजा बच्चों को आया ... Read more

घर रिश्तों से महका होता

घर रिश्तों से महका होता तो खुशियों का डेरा होता कम हो जाता बोझ जरा सा दर्द किसी से बाँटा होता उम्र बड़ी होती रिश्तों की ... Read more

रख आँसुओं पे अपनी ये आँखें निगहबानी

रख आँसुओं पे अपनी ये आँखें निगहबानी करने न इन्हें देती अपनी कोई मनमानी मुस्कान में चाहे थे हमने तो छुपाने गम पढ़ लेते मगर चे... Read more

बड़ा तेज मन का मृग भागे

बड़ा तेज मन का मृग भागे बिना रुके बस आगे आगे नींदों के उपवन में डोले सपने लेकर भोले भोले दुनिया ये तब तक ही उसकी जब तक न... Read more

दीवाली(दोहे)

1 कार्तिक मास त्रयोदशी, धनतेरस त्योहार श्री कुबेर जी आप पर, रक्खें कृपा अपार 2 चौदस कार्तिक मास की, दे खुशियाँ भरपूर। दुःख निर... Read more

आँसुओं को भी हँसाया कीजिये

आँसुओं को भी हँसाया कीजिये रोते रोते मुस्कुराया कीजिये क्रोध को अपने दबाया कीजिये होश अपने मत गँवाया कीजिये साथ अपनों का ब... Read more

सत्य, क्षमा, वरदान

1 क्षमा क्षमा माँगने से नहीं, होती छोटी जात और क्षमा के दान से, बनती बिगड़ी बात 2 सत्य माना राहें सत्य की, होतीं कांटेदार... Read more

करवाचौथ

मैं तुम्हारी चाँदनी हूँ तुम हो मेरे चंद्रमा मैं तुम्हारी हूँ सजनिया तुम हो मेरे बालमा चाँद से हम मांग लेंगे प्यार की लंबी उमर... Read more

सच के तो कभी पास बहाना नहीं होता

सच के तो कभी पास बहाना नहीं होता जो छीन के मिलता है वो पाना नहीं होता रहने लगी है ज़िन्दगी कमरों में यहाँ बन्द मिल जुल के अब ... Read more

कर दो ना

एकाकीपन को तुम दुल्हन कर दो ना प्रेम भाव से झंकृत ये मन कर दो ना तुम ही बंजर मन में फूल खिला सकते नाम हमारे अपना जीवन कर दो ना ... Read more

शरद पूर्णिमा

चाँदनी में नहाती हुई रात है । चाँद में आज कुछ खास ही बात है । चाँद है आज सोलह कलायें लिये , लग रहा जल उठे हो हज़ारों दिये। रूप ... Read more

दोहे साहित्य विज्ञान

1(साहित्य) जैसे इस संसार को, चमकाता आदित्य। वैसे दिशा समाज को ,दिखलाता साहित्य।। 2(दहेज) पहले कभी दहेज था,कन्याधन का नाम।... Read more

अग्रसेन महाराज।

द्वापर युग में ही हुये, अग्रसेन अवतार हमको अग्र समाज का ,दिया नया संसार दिया नया संसार, अठारह गोत्र बनाये इक रुपया इक ईंट, निय... Read more

दोहे

कविता ******* कविताओं के रंग में,जब रँगते अहसास। साधारण सी बात भी, लगने लगती खास।। रंग **** श्वेत रंग में ज्यूँ छिपा ,रंग... Read more

तुम्हे देखने को भी क्या आइना दूँ

तुम्हें देखने को भी क्या आइना दूँ तुम्हें असलियत भी तुम्हारी बता दूँ तुम्हें शौक जज्बात से खेलने का तो क्या खुद को ही मैं खि... Read more

फख्र है उन्हें अपनी आजकल वकालत पर

फख्र हैं उन्हें अपनी आजकल वकालत पर रौब वो दिखाते हैं झूठ की सियासत पर नोंक-झोंक आपस की प्यार ही बढ़ाती है इसलिये उतर आता दि... Read more

गाँधी बापू

सत्य अहिंसा पर चलना बापू जी ने सिखलाया था। मानवता का सच्चा मतलब भी हमको समझाया था। सादा जीवन उच्च विचार नियम था उनके जीवन का। ... Read more

अम्बे भवानी

कभी धरे कन्या रूप, कभी माता का स्वरूप, बाँटती भवानी मात, सबको ही प्यार है। लाल लाल है चुनर, बिन्दी टीका भाल पर, अस्त्र शस्त्र हा... Read more

हिंदी हिंदुस्तान है

हिंदी भाषा है सरल , पानी जैसी है तरल,और व्याकरण भी तो , इसका आसान है हिंदी ही सजाती मन,हिंदी से ही ये वतन,हिंदी से ही तो हमारी ... Read more

दशहरा

1 अब कलयुग की जीत है , रामराज्य की हार । राम नहीं मिलते यहाँ, रावण की भरमार ।। रावण की भरमार, लोभ ही रहता मन में। हो अधर्म की जी... Read more

सरदार भगत सिंह

जन जन में जिसने भरा , देश भक्ति का राग । वही भगत ही बुझ गया, दिल में जला चराग।। दिल में जला चराग, सही पथ दिखलाया था इंकलाब का राग... Read more

सरदार भगतसिंह

1 हँसते हँसते चढ़ गये, फाँसी पर वो वीर। अंग्रेजो की जुल्म की,दर्द भरी तस्वीर ।। 2 भगत सिंह का है अमर,सारे जग में नाम। छोटी सी ही... Read more

रो रहा आकाश धरती अश्क पीती जा रही है।

रो रहा आकाश धरती अश्क पीती जा रही है। पीर की बदरी घनी दोनों दिलों पर छा रही है। डूब सूरज चाँद तारे भी गये देखो गगन में। है ब... Read more

ज्ञान-विज्ञान

प्राप्त किया जब हमने ज्ञान, हमें कहाँ लाया विज्ञान। रोज रात को छत पर अपनी, देखा करते तारामंडल। ध्रुवतारा ये चाँद सलोना , ... Read more

बेटी

प्यारी प्यारी बेटियाँ, हम सबका हैं गर्व इनसे ही संसार हैं, इनसे ही सब पर्व इनसे ही सब पर्व, लगें रंगोली जैसी घर रहता गुंजार,च... Read more

गांधी-शास्त्री

1 गाँधी-शास्त्री *********** मोहन गाँधी शास्त्री, दोनों नाम महान उच्च सोच सँग सादगी , इनकी थी पहचान इनकी थी पहचान, सत्य के अन... Read more

मोदी जी

1 दुश्मन भी डर कर रहें, ऊँची भरें दहाड़ कहीं शांत बहती नदी, मोदी कहीं पहाड़ मोदी कहीं पहाड़, नहीं टस से मस होते रहता इन्हें खया... Read more

मोदी जी

आज देश का गर्व है, मोदी नाम महान। भारत माँ के लाडले,अपने देश प्रधान।।1 बातों में भी जीतना , उनसे कब आसान। मोदी जी वक्ता बड़े, ... Read more

हड़ताल

आती है हड़ताल से , बस मुश्किल में जान। तोड़ फोड़ से मत करो, अपना ही नुकसान। अपना ही नुकसान, समझदारी दिखलाओ। रखकर अपना पक्ष , बात ... Read more

ई-उपवास

ई-उपवास ******** आज अहाना कुछ अलग दिख रही थी। सुबह उसने डाइनिंग टेबल पर सबके साथ नाश्ता किया। कोई हड़बड़ी नहीं मचाई । अपने पापा... Read more

जिम

लौकी ने जिम खोला अपना बरसों का था उसका सपना तन्वंगी सी भिंडी रानी बैठीं टीचर सी महारानी सबको उसने पाठ पढ़ाया मोटेपन स... Read more

बनो हिंदी के क्रेज़ी

अंग्रेजी से ही करें,क्यों हम सब परहेज़ हिंदी नंबर वन रहे,दौड़ें इतना तेज़ दौड़ें इतना तेज़, खूब इसको अपनायें अपने सारे काम, बोल हिंदी... Read more