Anwer Haseeb

Darbhanga(Bihar)

Joined March 2017

यादों के सिलसिले चलते ही रहते है ,
इश्क़ हो या मौत मिलते ही रहते है ।

-हसीब अनवर

Copy link to share

गुजरे पल ।

याद करने के बहाने याद आते है तुझसे बिछड़ के अफ़साने याद आते है था वो दिन मेरा खुशियों से भरा अब ये सोच कर पुराने दिन याद आते है ... Read more

शिक्षक दिवस ।

मैं राहों में हु ..मगर मंजिल वही दिखाता है । गिर भी जाऊ जमीं पे उठना वही सिखाता है । खुले आसमा में भले ही ख़ुद को बड़ा महसूस कर लूं ... Read more

हिन्दुस्तान रहने दो ।

गरीबों के चेहरे पर मुस्कान रहने दो , इस देश की मिट्टी को हिंदुस्तान रहने दो । आसमाँ में उड़ रहे है आज बेख़ौफ़ परिंदे वो आजाद है उन्... Read more

इतवार जैसी है ।

तेरी यादें भी बिल्कुल इस इतवार जैसी है ना चाह कर भी तुझे चाहना बेकार जैसी है । अब तो हर लफ्ज़ में तुम्हें ही समेटता हु मैं ये पह... Read more

फादर्स डे ।

ज़िन्दगी में ख़ुद सारी मुश्किलें जो सहता है , एक पिता ही है जिनके अंदर ये सारा गुण रहता है । लाख मुश्किलें , परेशानियां आ जाए मगर .... Read more

बात तो होने दो ।

ज़िन्दगी कट जाएगी उससे बात तो होने दो वो ख़्वाबो में भी आएगी ज़रा रात तो होने दो । वो अब संवरती भी नही है शायद देर तक , चाँद है श... Read more

माँ

मेरी हँसी तेरी ही पहचान सी होती है , तुम नही तो दुनिया ये अनजान सी होती है । हर एक माँ को सदा सलामत रखना ए मौला ये एक माँ ही है... Read more

होली -रंगों का त्योहार

रंगों को मज़हब का नाम मत दो , नफरतों का यू तुम पैग़ाम मत दो । हम एक है हमें एक रंग में रंगने दो , ये भेदभाव का हमें कोई काम मत दो ... Read more

जिंदगी

ज़िन्दगी को यू ही बेकार मत बनाइए , अपने ग़म को औरों को मत सुनाइए । है यहाँ सब अपने मतलब के ही यार आप भी अब थोड़ा मतलबी बन जाइए । ... Read more

हैं कोई

मेरे ख्वाबों में आकर मेरी रात बिगाड़ता है कोई , आँखों में आँख डाल कर जैसे निहारता है कोई । मैं जब भी तेरे पास आता हूं ...ऐसा लगत... Read more

माँ

आसमान भर अहसान कर भी कभी जताती नही , माँ रोती तो है मगर कभी बताती नही । वो सह भी ले कई तकलीफे लेकिन ज़िन्दगी में कभी ये जताती नही... Read more

दास्तान-ए-मोहब्बत

मैं कोई शाम सा ठहरा ही रहा , तू वक़्त सी थी गुजर जो गयी , मेरे दिल पर तुम्हारा ही तो पहरा ही रहा लबों से छू लू ऐसी कोई बात नही , ... Read more

आजमाना आ गया ...!!

खुद में खुद को आजमाना आ गया । रोज कुछ तरकीबें और कुछ बहाना आ गया । शायद अब तन्हां नही रहा मैं मेरे पीछे सारा जमाना आ गया । इ... Read more

माँ

ना जानें क्यूं मैं इतनी जल्दी बड़ा हो गया , मैं अपने पैरो पर भी खड़ा हो गया । वो बचपन की बातें अब भी याद है मुझे , ना जानें क्यूं ... Read more

तुम्हारी जुल्फें ।

तुम्हारे चाँद से ये चेहरों पर , तेरी जुल्फों का जो पहरा है । मेरा इश्क़ इतना सच्चा है , जितना समंदर का पानी गहरा है । मैंने नजरें... Read more

नजर की बातें....!!

नजर की बात नजर से उतारी नही जाती , दिल में हो मोहब्बत तो छुपाई नही जाती । हमारी लफ्ज़ो को अब कोई क्या समझेगा , जुबां की बातों को... Read more

मैं जलता हुआ चराग़ हूं ...!

मैं जलता हुआ चराग़ हूँ...बुझाया ना करो । मेरी हर कमियां तुम कभी बताया ना करो । वो क्या समझेंगे मुझे जो खुद को भी ना समझ पाए , जि... Read more

वो यादें

जाते जाते तुमसे गले मिलना ...वो तो एक बहाना था अपनी दिल की धड़कनों को तुम्हारे अंदर छोड़ कर जाना था । तुम जो यू फिर से एक बार मुड़... Read more

सब कुछ आधा लगा...!

तुम्हारे चेहरों के सामने सब कुछ सादा लगा । चाँद पुरे थे आसमाँ में फिर भी मुझे आधा लगा । इश्क़ ,मोहब्बत सब एक ही जैसे है , हमें त... Read more

मुझे तुम याद आती हो ।

मैं सोता रहता हूं अक्सर मुझे तुम याद आती हो , मेरी ख़्वाबो में चुपके से आकर यूँ गले लगाती हो । चाँद, तारे सब नाराज है मुझसे , तुम ... Read more

आख़िर कब तक ।

तुम यू ही मुझे कब तक परेशान करोगे , गर जान लो मेरी किरदार हैरान रहोगे । तेरी औक़ात नही अभी , जो झुका सके हमे । अगर खुद पे आ जाऊ तो... Read more

ख़्वाबो की कहानी ।

मेरे ख़्वाबो की तुम एक कहानी बन गयी , तकिये, चादर सब के सब पानी बन गयी । अब रात को नींद आती कहा मुझे , क्या पता कौन सी निशानी बन... Read more

अच्छा होगा ...!!

वक़्त रहते ही तेरे पास आ जाऊ तो अच्छा होगा .. सूरज ढलने से पहले घर आ जाऊ तो अच्छा होगा । इश्क़ में मुझे कोई और जलाये, उससे पहले ह... Read more

खलल पड़ता है ।

उसे मेरे ख्वाब में आने में खलल पड़ता है , चाँद , तारे सब पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है । उसकी आँखों में मैंने देखा है नशा प्यार... Read more

कैसे आयी होगी

लूट कर एक मासूम की इज़्ज़त तुम्हे नींद कैसे आयी होगी , अगर वो चिल्लाई होगी ...तुम्हे अपनी बेटियां तो याद आयी होगी इंसानियत की हवस ... Read more

मेरी माँ

आसमान भर अहसान कर भी जताती नही माँ रोती तो है मगर कभी बताती नही वो सह भी ले कई तकलीफे लेकिन ज़िन्दगी में कभी जताती नही उनकी च... Read more

नया साल 2018

साल दर साल बस यही एक कहानी , एक वो अजनबी और कुछ यादे पुरानी तुमने यादो को छोड़ कर जाना नही सिखाया दिल फिर से धड़क उठा जब खत्म हो ... Read more

नजर लग गयी

मुझे नींद की यु ही तलब लग गयी उनकी आँखों से मुझे ही नजर लग गयी कहने को तो नींद अब खफा है मगर नींद को भी अब तो उम्र लग गयी दि... Read more

एग्जाम का डर

दिल को मिला सुकुन की एग्जाम आ गया । वो इस तरह जगाया जैसे तूफान आ गया । शोर यू ही ना परिंदो ने मचाया होगा जिस तरह एग्जाम ने हमें... Read more