pankaj sharma

Joined January 2017

it is only to express views regarding society affairs…

Copy link to share

कविता

आईने.. बरसो से जड़े हैं... तेरे घर में जो आईने उनका खयाल करना उनमें तेरे हर दौर की शक्ल है.. उन्होंने तेरी शक्ल को संवारा है.... Read more

मुक्तक

ये संक्रमण का काल है,जरा बच के चलो.. भाई शहर में चुनाव है,..जरा बच के चलो खुला ना छोड़ो शहर जाती सड़कों को... ये रोग लेकर आयेंगी,जर... Read more

मुक्तक

धरती माँ हिजाब में अब आँखें जलने लगी है बदलेगी सूरत,हवाएं चलने लगी है... कैसी छांव,जैसा बोया वैसा ही काट धरती माँ की सीरत बदलन... Read more

कविता

मैं तुमसा नजर आऊँ... रंगों की परम्परा औऱ खुशियों में झूमें आओ फिर पुरानी गलियों में घूमें.. जहां मैं तुमसा ही नजर आऊँ... बरस... Read more

मुक्तक

नस्लभेद चले पराये देश को, करने दो दो हाथ.... नाम किया परदेस में,मेहनत कर दिन रात.. नस्लभेद के दंश से,पीड़ित है सब लाल आँखें सजल... Read more

मुक्तक

त्यौहार सीली है पर सुलग रही है लकड़ियाँ, तुम आओ तो कुछ बना ले हम.. जाने क्यों नाराज है बाबा, तुम आओ तो मना ले हम.. हम जानते ह... Read more

मुक्तक

जिंदगी ------------------ अधमुंदी आँखों का ख्वाब है जिंदगी.. अच्छे किये कामों का सबाब है जिंदगी बहुत अनसुलझा सा चलता रहा पर...... Read more

मुक्तक

मजबूरी मद के अंधे,काले धंधे,कैसे इनका चुनाव करें... तन से शुभ्र,मन के काले, कैसे हवाले गांव करें लोकतंत्र की मजबूरी है,नेता हमक... Read more

मुक्तक

हक *** क्या लेकर आया था जो मैं हक की बात करूं... क्यों जमीं के बंटन में,मैं काले दिन रात करूं... हर दिशा मंदिर का द्वार, हर राह ... Read more

मुक्तक

चेहरा तेरे हाथ की हल्की सी थपकी भी हो,गहरा असर आता है अब भी कई बार रोटी में,तेरे हाथों का स्वाद उतर आता है दुनिया की नजर में हो... Read more

कविता

कर्जदारी कैसी कैसी... मैं कर्जदार था चार दाने भी मयस्सर नहीं थे मुफलिसी में सन्नाटे घर में बसते थे..अब रिश्ते नाते सब लिपट के हँ... Read more

कविता

बेटियां खुशी का पर्याय होती है बेटियां जीवन का अहसास होती है बेटियां खिलौनो में टूटती, समाज से लड़ती, घर का श्रंगार होती है बे... Read more

कविता

बदलाव...(नव वर्ष का पहला दिन) क्या हुआ.. दिन ही बदला है ना कुछ 'काश' जो चले आ रहे है मेरे साथ, क्या वो आज बदल जायेंगे.. मैं ज... Read more

कविता

तस्वीरें... गहरे असमंजस से भरा चेहरा अचानक मुस्कुरा उठता है। स्माइल प्लीज.. सुनकर कुछ साफ दिल लोगों को छोड़ हर चेहरा हरा भरा ह... Read more