Copy link to share

शाम..।

कभी कभी शाम कुछ ऐसे कहीं होती है, जैसे तुम्हारी याद आसमां में सितारे बोती है। दूर कहीं से ख्यालों का कारवाँ चला आता है, और ... Read more

नज़्म..

सोचता हूँ... दोनो आस्तीनों के सहारे लटके, मज़बूरियों का बैग उतार दूँ, पीठ से अपनी.. और बदल दूँ ये खाल, बदन की एक रोज़..। सोचता... Read more

गज़ल

कैसी समस्या है कि कोई हल नही निकलता क्यों अर्जुन के तीर से भी जल नही निकलता मै मुस्कुराकर ही अपने अश्क पोछ लेता हूँ वो जब भी ... Read more

गजल..

तनहाई में वो अक्सर पास में रहता है, कुछ यादों का उजाला रात में रहता है। दो कदम चलता हूँ और थक जाता हूँ, बाबुजी का दर्द मेरे हाथ... Read more