नाम : अनुराग दीक्षित
जन्म तिथि : 15/06/1976
जन्म स्थान : ग्राम कंझाना जनपद फर्रुखाबाद(उत्तर प्रदेश)
शिक्षा : स्नातकोत्तर वनस्पति विज्ञानं, समाज शास्त्र, जन स्वास्थय एवं जन संपर्क में स्नातकोत्तर डिप्लोमा !
सम्प्रति : जिला समन्वयक, (सोशल मोबिलाइजेशन नेटवर्क) युनीसेफ जनपद संभल उत्तर प्रदेश
सम्पर्क सूत्र : 07652096732
Email : dixit08@rediffmail.com,
ग्रह जनपद : फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश

आपके सहयोग एवं सुझाव का आकांक्षी
“अनुराग”

Copy link to share

देश की खातिर लुटाए जो जवानी।

धन्य है जीवन उसी का प्रेरणा उसकी कहानी, देश की खातिर लुटाए जो जवानी। जो सतत आगे बढ़े आगे बढ़े बढ़ कर लड़े सिंह सी कर गर्जना ... Read more

सखी री मोरी मेहंदी है रंग लाई।

सखी री मोरी मेहंदी है रंग लाई लाल लाल रंग रंगी हथेली प्रीतम के मन भाई । सुबह पहर से बैठ अंगनवा रुचि रुचि खूब लगाई प्रीत रंग... Read more

बकरे की माई कब तक खैर मनाएगी।

बकरीद बकरे की माई कब तक खैर मनाएगी। इठलाती बलखाती छुरिया गर्दन पे चल जाएगी कुर्बानी कुर्बानी देखो कुर्बानी ईद मुबारक ईद मुब... Read more

भारत माँ मुस्काई है ।

*भारत माँ मुस्काई है ।* केसरिया घाटी महकी है स्वर्ग भूमि हर्षाई है ऋषि कश्यप की तपोभूमि पर राष्ट्र ध्वजा लहराई है *भा... Read more

सभी पर मातृभूमि का कर्ज निभायें हम सब अपना फर्ज ।

सभी पर मातृभूमि का कर्ज निभायें हम सब अपना फर्ज । रखें माँ मातृभूमि का मान रहे निज गौरव का अभिमान पूर्वजों का अपूर्व वलिदान... Read more

तेरी याद मुझको सताती बहुत है ।

तेरी याद मुझको सताती बहुत है । जलाती है पल पल विरह की अगन में जियूं कैसे तुम विन अकेले मगन मैं छोड़ दूँ क्यों न सब कुछ तुम्हा... Read more

झूला पड़ गयो अमवाॅ के डार जी।

*झूला पड़ गयो अमवाॅ के डार जी।* संइया बिन मनवा संइया बिन मनवा संइया बिन मनवा न लागे हमार जी ए जी कोई ला दे बाकूं अम्बे कोई ... Read more

बहुत सुहानी लगती ये बरसात है।

बहुत सुहानी लगती ये बरसात है। रज कण से चहुँ दिश सोंधी सी गंध सुहाई दग्ध धरा प्रमुदित हो जैसे हो मुस्काई दादुर बोले मोर नचे ... Read more

मेरे हमदम साथ निभाना ।

मेरे हमदम साथ निभाना मेरे प्रियतम हमराही बन, साथ हमारे चलते जाना मेरे हमदम साथ निभाना ।। तुम से ही सब सुख दुःख मेरा त... Read more

मातु पिता जीवन निधि पावन ।

*मातु पिता जीवन निधि पावन* कोई कष्ट मिलै जबहीं जन कौ, लगै मातु पिता बस टेर मचावन नीको न लगै जग मैं कछु और लगे पितु मात के ... Read more

अरमानों की बात न पूछो ।

अरमानों की बात न पूछो । अरमानो की बात न पूछो जज़्बातों की बस्ती में हमने सौ सौ रंज उठाये हंसकर पूरी मस्ती में । जिसपे गु... Read more

राणा प्रताप जी के प्रति

राणा प्रतापजीके प्रति मेवाड़ मुकुट क्षत्रिय गौरव, हे वीर शिरोमणि कुलभूषण साहस सम्बल प्रतिमूर्ति शिखर जयवंत कंवर के स्वाभिम... Read more

जय भारत जय भारती ।

जय भारत जय भारती । अमृत कलश घट पुष्प भर मातृभाषा को समर्पित है पटल निज सतत् शब्द समूह रच नित भाव विरचित आरती । जय भारत... Read more

पग पग पर साथ मिला तेरा ।

पग पग पर साथ मिला तेरा । पग पग पर साथ मिला तेरा हर पल विश्वास मिला तेरा जीवन पथ सुगम हुआ मेरा सुखमय आधार मिला तेरा, यूँ... Read more

चिड़िया रानी आओ ना अपनी प्यास बुझाओ ना ।

चिड़िया रानी आओ ना अपनी प्यास बुझाओ ना । घूम-घूम कर दोपहरी में झुलस रहे हैं पंख तुम्हारे छत पर बैठ झरोखे में तुम थोड़ा तो ... Read more

सदा रोशन रहे वो घर जहां माँ मुस्कुराती है ।

सदा रोशन रहे वो घर जहां माँ मुस्कुराती है । तृण तृण जोड़ कर वो नीड़ फौलादी बनाती है खतरा भांप कर बच्चों को जां पर खेल जाती है... Read more

माँ अम्बे भक्तों को वर दो ।

माँ अम्बे भक्तों को वर दो । माँ मनमोहनि मूरत तेरी ह्रदय बसी माँ सूरत तेरी भक्तवत्सला मातु भवानी अभय दान दे साहस भर दो म... Read more

चलो करें मतदान ।

चलो करें मतदान । चलो करें मतदान साथियो चलो करें मतदान । लोकतंत्र का पर्व यही है हो इसका सम्मान शक्ति अनोखी ये हम सबकी की ... Read more

प्राण देकर शहीदों ने सजाया देश को अपने ।

प्राण देकर शहीदों ने सजाया देश को अपने । जुबां पर गान भारत का नयन में देश के सपने , प्राण देकर शहीदों ने सजाया देश को अपने न ख... Read more

समझ लेओ होरी है ।

समझ लेओ होरी है । जब छावै अजब सो खुमार रंगन की बरसै फुहार गलिन मैं घूमै मिल सब यार फाग गावैं जबहीं हुरयार समझ लेओ होर... Read more

विष दे झूठा विश्वास न दे ।

विष दे झूठा विश्वास न दे विष दे झूठा विश्वास न दे जो तुझसे पूरी हो न सके मुझको ऐसी कोई आस न दे मैं एक अनाड़ी मतवाला, त... Read more

तुम वीर पुरूष की वीर नार ।

तुम वीर पुरूष की वीर नार रखना साहस संयम अपार । फिर भेज उन्हें देना रण में, दे तिलक भाल पगड़ी संवार क्षत्राणी धर्म निभाना... Read more

व्यर्थ न जायेगी कुर्बानी व्यर्थ नहीं होगा बलिदान ।

व्यर्थ नहीं होगा बलिदान । व्यर्थ न जायेगी कुर्बानी, व्यर्थ नहीं होगा बलिदान । धोखा देकर ले आया तू मौत बाँटने का सामान ... Read more

देखो फिर से आया बसंत

देखो फिर से आया बसंत । मन मगन मयूरे घूम उठे, पादप पल्लव सब झूम उठे हर ओर नई आभा छाई ज्यों प्रकृति सुन्दरी मुस्काई भर दाम... Read more

सखी री प्रीत की रीत पुरानी ।

सखी री प्रीत की रीत पुरानी । मीरा तप के प्रेम अगन में, जोगन बनीं दिवानी कान्हा की वंशी की धुन पर राधा सुध विसरानी सखी ... Read more

सुन्दर पावन धरा भारती ।

सुन्दर पावन धरा भारती कल कल करती गाती गंगा जय जय गान उचारती सुन्दर पावन धरा भारती देवभूमि जग तारती । वीर प्रसविनी पुण्य भूमि... Read more

पिया कब तक निहारू मैं अब द्वार पे डाल दो एक नजर मेरे श्रृंगार पे ।

पिया कब तक निहांरू मैं अब द्वार पे डाल दो एक नजर मेरे श्रृंगार पे । चैन चूड़ी चुराती रही रात दिन, मैंने काटे विरह के सभी पल ह... Read more

जिंदगी दुल्हन है एक रात की ।

जिंदगी दुल्हन है एक रात की । तेरी मेरी दो पल की मुलाकात सी जिंदगी दुल्हन है एक रात की । देखो कैसी तैयारी है इक शाम को कै... Read more

नव वर्ष अभी भी बाकी है ।

*नव वर्ष अभी भी बाकी है* कर रहे रोज मिल कर प्रयास पर पूरी होती नहीं आस जब तक जन जन के जीवन में नववर्ष न लाये हर्ष खास द... Read more

मुझे ऐसे निहारो न मोरे पिया ।

*मुझे ऐसे निहारो न मोरे पिया* मुझे ऐसे निहारो न मोरे पिया, उठ रही है कसक बावरा सा जिया ले चलो तुम मुझे प्रीत के लोक में ... Read more

कान्हा बतिया बनावत कोरी ।

कान्हा बतिया बनावत कोरी खावत मोरा माखन चोरी चोरी । बेर बेर मैं कहन कौ आऊँ सुन ले जसोदा मोरी, कंकर मारत मटकी फोरत लुकि जाय झार... Read more

कर लो मुझे स्वीकार अब तुम भी प्रिये ।

कर लो मुझे स्वीकार अब तुम भी प्रिये । धन धान्य जीवन धन निछावर, कर रहा हूँ मैं प्रिये, प्रेम-पथ की सहचरी बन रूपसी, कर लो मुझे स... Read more

तब तक दीवाली बाकी है ।

तब तक दीवाली बाकी है । जब राम राज्य कल्पना मात्र चहुँ ओर दिखें त्रैताप व्याप्त गृह लक्ष्मी जब है व्यथित क्लान्त है बहुत दूर ... Read more

अच्छा लगता है।

अच्छा लगता है। तुमको मन की बात बताना पास बैठना और बैठाना कभी रूठ जाने पर तेरे प्यार जता कर तुझे मनाना अच्छा लगता है । को... Read more

हिन्दी भारत की प्राण वायु जीवन्त सरल जन भाषा है।

हिन्दी भारत की प्राणवायु जीवन्त सरल जन भाषा है। हिन्दी भारत की प्राणवायु , जीवन्त सरल जन भाषा है। भारत का गौरव उच्च भाल जन ... Read more

जन्मे कृष्ण कन्हाई।

जन्मे कृष्ण कन्हाई । बाजे नन्द के घर पे बधाई, आज हैं जन्मे कृष्ण कन्हाई। चहुँ दिश अजब सी मस्ती छाई सृष्टि ने माया अजब रचाई ... Read more

नेह का बन्धन रक्षा बंधन।

नेह का बन्धन रक्षा बंधन उर विच बसता प्रेम पुरातन, पावन पर्व चिरन्तन नेह का बन्धन रक्षा बंधन । हर कच्चे धागे में समाहित रक... Read more

तिरंगा बना जब कफ़न देश हित।

तिरंगा बना जब कफ़न देश हित ये तिरंगा बना जब कफ़न देश हित, तन ये राहे वतन में हवन हो गया। राह आबाद कुर्बानियों की सतत, अपनी ... Read more

करें ऐसा भारत तैयार, सौहार्द प्रेम की बहे बयार।

सौहार्द प्रेम की बहे बयार। करें ऐसा भारत तैयार, सौहार्द प्रेम की बहे बयार व्यर्थ के झगड़े जाऐं भूल खिलायें मानवता के फूल ... Read more

जय आशुतोष जय प्रभु कृपाल हे नीलकंठ शिव महाकाल ।

हे नीलकंठ शिव महाकाल। जय आशुतोष जय प्रभु कृपाल हे नीलकंठ शिव महाकाल। हे आदि देव त्रिपुरारि हरे जयशंकर शिव भयहारि हरे जय भू... Read more

चलो फिर चलें हम अपने गांव जहां है नीम की ठंडी छाँव कि बचपन टेर रहा कि बचपन टेर रहा।

चलो फिर चलें हम अपने गांव, जहां है नीम की ठंडी छाँव कि बचपन टेर रहा, कि बचपन टेर रहा। बसी सोंधी मिट्टी की गंध घूमते बालक हैं ... Read more

जय जय जय आजाद अमर जय वीर प्रसूता मातु महान।

जय जय जय आजाद अमर, जय वीर प्रसूता मातु महान। ******** नाम काम और धाम सभी कुछ कह आजादी दिया बखान आजादी के अमर सिपाही बन बैठे... Read more

पिया बिन सूना री सावन लागे।

पिया बिन सूना री सावन लागे । सखी री मोहे घर आंगन न सुहावे पिया बिन सूना री सावन लागे। ************************** फूल खिले म... Read more

मन का मन्दिर देवालय तो

मन का मन्दिर देवालय तो तन का मन्दिर शौचालय, मानव निर्मित दोनों स्थल देवालय या शौचालय, हम दोनों को छोड़ विचरते और ढूँढते मदिराल... Read more

शाम ढलती रही प्रीत पलती रही प्यास होठों पे आके मचलती रही।

शाम ढलती रही प्रीत पलती रही प्यास होठों पे आके मचलती रही। हम रहे फ़िक्र में रह गए तुम कहाँ ढूँढते रह गए बस यहाँ से बहाॅ खो ग... Read more

सतगुरु शरण जगत की तरनी।

सतगुरु शरण जगत की तरनी। मोह माया है ज्ञान कतरनी सतगुरु शरण जगत की तरनी। लख चौरासी योनि भटकनी जैसी करनी वैसी भरनी पाप की ... Read more

हम सफर में रहे हमसफर के लिए।

हम सफर में रहे हमसफर के लिए। पास जितने बढ़े दूरियां बढ़ गईं, एक मारीचिका सी सतत् अड़ गई, चलते चलते उमर सीढ़ियाँ चढ़ गई, आज तरस... Read more

हुआ तन्हा सफर मुश्किल, चलो फिर से मिलाएं दिल।

हुआ तन्हा सफर मुश्किल चलो फिर से मिलाएं दिल। समय ने जख़्म दे फाड़ी है, अपनी प्रीत की चादर चलो फिर जोड़ देते हैं इसे हम प्रे... Read more

दिल जो टूटा कभी भी कलमकार का ये कलम शब्द के पार फिर जाएगी।

दिल जो टूटा कभी भी कलमकार का, ये कलम शब्द के पार फिर जाएगी। वेदना की घनीभूत पीड़ा निकल, तीर सी चीर कागज का उर जाएगी। चार दिन च... Read more

देखो आज है इतवार प्रिये।

देखो आज है इतवार प्रिये निदिया विरचित त्योहार प्रिये बस एक दिवस ही रहता है, अपनी मर्जी से जीने का ढंग से खाने औ पीने का म... Read more