Copy link to share

ईश्वर की अद्भुत कृति "बेटियाँ"

विधा=सवैया मात्रा विधान=18(10+8) 16(10+6) यतिक्रम=10,8,10,6 चरणान्त=सगण पँख सभी मेरे,कुतर दिए हैं, मैं फिर भी उड़ना,सीख गई। ... Read more

मैं क्या लिखूँ..... तुमको प्रिये....?

मैं क्या लिखूँ... तुमको प्रिये...? तुम कितनी मेरी खास हो.... मदहोश जो कर जाए मुझे... वो चढ़ा हुआ उन्माद हो....! ग्रीष्मऋतु का ताप... Read more