Kumar Anu Ojha

Joined October 2017

Copy link to share

मेरी प्यारी बहना

मेरी प्यारी बहन को समर्पित यह कविता👇 "मेरी प्यारी बहना" तू तो मेरी प्यारी बहना तेरे आने से ज्योति जगे। तेरे जीवन मे कभी गम ना ... Read more

गुरुर मत करो

एक जबरदस्त रचना👇 "गुरुर मत करो" क्या लेकर आये है क्या लेकर जाएंगे । बिन कोई सन्देश दिए वापस हम लौट जाएंगे।। बन्द मुट्ठी... Read more

उदासी क्यों

आज फिर एक लघु प्रयास मेरी तरफ से।👇 " उदासी क्यों " क्यों रूठ जाते हो ऐसे जैसे मनाना बस की बात नहीं। जब रंज हो जाते हो आप तो ह... Read more

जीतने की जिद्द

बैठे बैठे कुछ लिखने का मन किया आज, तो एक छोटा सा प्रयास👇 "जीतने की जिद्द" बहुत परिश्रम के बाद भी कई बार था मैं हारा। लेकिन बन ... Read more

स्वार्थी इंसान

मेरे द्वारा रचित एक छोटी सी कविता👇 "स्वार्थी इंसान" ना थी खबर उनको,मेरी एक पल की। वे अपने लिए ही रोते हैं। मैने तो बहुत चा... Read more

Global Institute के लिए

#एक छोटी सी लेखनी। एक दिन सहसा सूरज निकला, फिर क्या हुआ ? उगते सूरज की लाली छाई, बच्चो की आवाज सुनाई। उमड़ पड़ी उनसब की कतार, य... Read more

मेरी प्यारी माँ

मेरी शैतानी,मेरी नादानी मेरी तोतली बाते बचकानी थी। देख के मेरी बचपन को तू तो अक्सर मुस्कुराती थी। थी मेरी लाखो गलती पर तु मु... Read more