Anuj Agrawal

Joined November 2018

Copy link to share

माँ !!!

जब बीमार मैं होता था, धड़कन तेरी बड़ जाती थी ! सोती न थी रातों को, मुझको लोरियां सुनाती थी !! गुल्लख खली करके भी, तू झूठ बोलती भरी... Read more