अनुजा कौशिक

देहरादून

Joined July 2017

मैं एक प्रोफ़ेश्नल सोशल वर्कर हूं..ज़िन्दगी में होने वाले अनुभवों और अपने विचारों की अभिव्यक्ति अपने लेखों और कविताओं के माध्यम से कर लेती हूं..

Copy link to share

पिता एक सुखद एहसास..ईश्वर का प्रतिरूप है

पिता एक खूबसूरत सा मज़बूत सा..प्यारा सा एहसास है मन में न जाने कितने राज़ समेटे जाने कितने अन्तर्रद्वन्द है पाले फ़िर भी चेहरे प... Read more

कष्टप्रद है मानसिक घाव और लगाव

शारीरिक कष्ट फिर भी ठीक हो सकता है..कितना भी कोशिश करो मानसिक घाव कभी ठीक नहीं होते..इंसान ज़िंदा रहते हुए भी मर सा जाता है..कितना अ... Read more

अतीत के अनुभव

अपने अतीत के अनुभवों से हम क्या सीखना चाहते हैं ये हमारी सोच और दृष्टिकोण पर निर्भर करता है..अगर हमारी सोच सुन्दर है तो हर जगह बेझिझ... Read more

मैं सरल हो जाना चाहती हूँ

ना ही कुछ बदलना चाहती हूं ना ही अफ़सोस करना चाहती हूं बस जो रिश्ता जैसा है उसे वैसा ही निभाना चाहती हूं मैं सरल हो जाना चाहती हूं... Read more

सच्चे रिश्ते वही जो रूहानी हों

सच्चे रिश्ते वही जो रूहानी हों सुखी होने से सुखी और दुख में उदास हों भले ही खामोश हों.. पर आसपास हों.. दूर हों या पास हों.. प... Read more

रिश्ते रिस रहे हैं

बहुत से लोग सोचते हैं कि लोगों से मिलना जुलना एक फ़ालतू इंसान की निशानी है बल्कि मैं मानती हूं आजकल रिश्ते रिस रहे हैं..किसी के पास ए... Read more

ज़िंदगी के सफर में जब अकेला खुद को पाया

ज़िंदगी के सफ़र में जब अकेला खुद को पाया घुटन से जब मन घिर आया एक प्रश्न मेरे अन्तर्रमन में आया हर रिश्ता ईमानदारी से निभाया कभ... Read more

सच्चे सम्बन्ध हमेशा कायम रहते हैं

✍😊लोग यूं ही कहते हैं.. Whatsapp और Facebook समय की बर्बादी है..अच्छा लगता है मुझे जब हमारे अपने गुड मार्निन्ग..गुड नाईट के मैसेज़ कर... Read more

प्रेम विश्वास का पर्व ये होली

प्रेम विश्वास का पर्व ये होली वैर द्वेष को आओ मारें गोली न रहे मन में अब कोई गांठ बाकी निस्वार्थ प्रेम दिलों में भर दें आओ रं... Read more

शब्द उलझाते हैं बहुत

जीवन के सभी प्रश्नों का हल है एकान्त में..पर एकान्त तक की यात्रा सुना है पेचीदा ज़रूर है पर फ़िर भी सुखद है...😊 *शब्द उलझाते हैं बह... Read more

ये जीवन सिर्फ मेरा है...हाँ सिर्फ मेरा ही तो है...

ये जीवन सिर्फ़ मेरा है हाँ सिर्फ़ मेरा ही तो है मेरी उलझनें,मेरी ही परेशानियाँ खुशियाँ भी तो मेरी ही हैं..दुख भी मेरे ये गम भी मेर... Read more

मन की आवाज़

कभी कभी.. हमारे अपनों के शब्द भी झकझोर देते हैं अन्तर्रात्मा को.. तोड़ देते हैं कुछ भीतर ही भीतर गहरी पीड़ा दे जाते हैं कभी ... Read more

इस दुनियां में सदा नहीं रहना है

ज़िंदगी की बस इतनी सी सच्चाई है.. जो आया है दुनियां में वो जायेगा भी.. तय करना है ये हमें कैसे जाना है.. अपनो की यादों में बसने ल... Read more

फ़ोन पर तो खैरियत ही कहेंगें

कभी पास आकर बैठो तो बतायें क्या है परेशानी कभी सुनों और सुनाओ खुलकर.. बतियाओ ज़रा दो घड़ी कुछ सुख दुख की दो बात मैसेज़ के बदले मैसे... Read more

मेरी माँ जैसी कोई नहीं

मेरी माँ जैसी कोई नहीं नारियल जैसी सख्त भी है और कोमल भी हृदय में है प्रेम भरा ममतामयी है उनका आंचल मन दुआओं का प्यारा सा मंदि... Read more

अन्तर्मन की खामोशी

अन्तर्मन की खामोशी भी तोड़ देती है.. मन को झकझोर देती है अच्छा बनते बनते खुद टूटकर वो अपनों को खुश रखने की ख़्वाहिश बस मुस्कुराह... Read more

ज़िन्दगी से वादा कुछ यूं भी निभाना पड़ता है

ज़िंदगी से कभी कभी वादा यूं भी निभाना पड़ता है दिल चाहे खुलकर रोना बस मुस्कुराना पड़ता है खामोश रहकर कुछ यूं ही खुद को समझाना पड़त... Read more

बचपन था तो कितना अच्छा था ना

बचपन था तो कितना अच्छा था ना जब चाहा रो लेते थे..जब चाहा हँस लेते थे जिद अपनी बस यूं ही मनवा लेते थे खुशियों के दामन में बसेरा था... Read more

लाख कोशिश करो टूटते ही नहीं..रिश्ते हैं

लाख कोशिश करो टूटते ही नहीं वो रिश्ते जो दिल के बेहद करीब होते हैं परिस्थितियाँ चाहे जो भी हों जीने के लिये बहुत ज़रूरी होते हैं ... Read more

दो नारी को सम्मान

नारी का सम्मान नहीं नारी दिवस मनाते हैं अनेकों आयोजन होते हैं बड़े बड़े भाषण देने वाले ही नारी का शोषण करते हैं नारी चाहत नार... Read more

शायद मेरे बच्चे अब बड़े हो रहे हैं..

मेरी बातों में..मेरे उसूलों में मेरी सीख में..मेरे ज्ञान में थोड़ी कमियाँ सी निकालने लगे हैं शायद मेरे बच्चे अब बड़े हो रहे हैं ... Read more

होली है...

प्रेम विश्वास का पर्व ये होली वैर द्वेष को आओ मारें गोली न रहे मन में अब कोई गांठ बाकी निस्वार्थ प्रेम दिलों में भर दें आओ रं... Read more

ईश्वर पूजा और हमारा चरित्र

हम ईश्वर को पूजते हैं..मन्त्र पढ़ते हैं..उनके चरित्र के बारे में सुनते हैं और सुनाते हैं लेकिन उनके चरित्र को अगर थोड़ा सा भी आत्मसा... Read more

सुख में तो बनेंगें दोस्त बहुत

सुख में तो बनेंगे दोस्त बहुत अपना होने का दावा करेंगे बहुत सब कुछ हूं पर नहीं मतलबी मैं जब कभी लगे छाया जीवन में अंधेरा चिन्ताये... Read more

हमारा मन अर्जुन है और आत्मा श्री कृष्ण

जो चाहते हैं कभी होता नहीं या मिलता नहीं और जो मिलता है वो हम चाहते नहीं या चाहते भी हैं मिलता भी है पर कभी संतुष्ट नहीं होते हम या ... Read more

मैं रिश्ते निभाने के लिए अक्सर झुक जाती हूं

सब कुछ समझती हूं..कहा अनकहा सब कुछ..मैं बिन कहे सब कुछ महसूस कर जाती हूं.. कुछ कहने की ज़रूरत नहीं.. मैं अपनों के चेहरे में दुख सुख... Read more

दो दोस्त- एक शिक्षाप्रद कहानी

दो पक्के दोस्त कहीं जा रहे होते हैं..सब कुछ अच्छे से चल रहा होता है..रास्ते में एक बाधा आती है नदी के रूप में..दोनों में से एक को तै... Read more

जाने ये मन क्यों अकेला है

चारों ओर खुशियां ही खुशियां हैं फिर भी ये मन क्यों अकेला है निभाये जा रहा है रिश्ते हरदम चले जा रहा है ये निश्चल मन ईश्वर ने जिस... Read more

*आज का चिन्तन रिश्तो पर आधारित*?

*आज का चिन्तन रिश्तो पर आधारित* ज़िन्दगी में कुछ रिश्ते ऐसे भी होते हैं जो अपनी गलती स्वीकार करने की बजाय हमेशा ये महसूस कराते है... Read more

ज़िन्दगी भर जो बेटा कभी अपने माँ बाप को रख न पाया*

*ज़िन्दगी भर जो बेटा कभी अपने माँ बाप को रख न पाया* बुज़ुर्गो का मान कभी रख न पाया कभी दो बोल ईज़्ज़त के उनसे बोल न पाया स्वार्थ... Read more

मन

ये मन भी बड़ा ही अज़ीब है..कभी कभी अच्छा महसूस नहीं करता..पर फिर भी अपने आपको मज़बूत एहसास कराता रहता है..अच्छा दोस्त है मेरा ये..कभी... Read more

दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते ही देखा है

मैंने अब रिश्तो में कटुता देखी है मन में कुंठा दिलों में उदासी देखी है कहने को है परिवार बड़ा.. दिवाली को मैंने बस यूं अकेले मनते... Read more

लड़की नहीं है कोई चीज़

एक नाज़ुक सी कोमल सी इतराती लड़की. अनजान इस बात से कि अपने ही बैठे हैं तैयार करने उसकी ईज़्ज़त को तार तार संकुचाती,घबराती,डरती सी ल... Read more

*शराफ़त नहीं है कमज़ोरी*

शराफ़त का घुट घुट कर मरते जाना धोखे का यूं बस मचलते ही जाना बेचकर ईमान बस इठलाते ही जाना शराफ़त नहीं है कमज़ोरी ये मैंने अब जाना ... Read more

जीना इसी का नाम है

ज़िन्दगी दो पल की ये कभी समझ नहीं आयी काश ऐसा होता..काश वैसा होता यही उधेड़बुन कभी सुलझ न पायी जाने वाला कल और आने वाला कल क्य... Read more

*ये जीवन बड़ा अनमोल है*

हे मानव ! ये जीवन बड़ा अनमोल है चिन्ता कैसी करे है पगले ये दुनियां बड़ी गोलमोल है ज़िन्दगी है ये अनिश्चित तू क्यों कर रहा ... Read more

*ढलती उम्र और बुढ़ापे की दहलीज़**

तेरी ढलती उम्र और बुढ़ापे का ज़िक्र तू न डर इंसान..अब ये कैसी है फ़िक्र.... उम्र ढल जायेगी और बस यादें रह जायेंगी कभी रूलाएंगीं औ... Read more

*मेरा भारत महान..जय मेरा हिन्दुस्तान*

गर्व है तुझपे हे भारत माँ सुसंस्कृति की तू प्यारी जननी महान हे माँ तुझपे मेरी जान कुर्बान मेरा भारत महान, जय मेरा हिन्दुस्तान ... Read more

*माता पिता और संतान के बीच घुटते-मरते रिश्ते*

*माता पिता और संतान के बीच घुटते-मरते रिश्ते* अक्सर सोचती हूं वृद्ध माता पिता और बच्चों के बीच तालमेल क्यों नहीं बैठ पाता..क्यों ... Read more

*ज़िन्दगी की कशमकश*

बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी.. दिल चाहे है फिर से बच्चा बन जाना अपनों के लिए जीना..सदा मुस्कुराना..गमों को छिपाना.. यही ज़िंदगी ह... Read more