Anoop Sonsi

Moradabad

Joined November 2019

Manager HR & Admin

Copy link to share

Ek Kitaab

ज़िंदगी पर मैं जब एक किताब लिखूंगा! उस वक़्त में मैं सभी का हिसाब लिखूंगा! वक़्त तो फ़िसल रहा है बस हाथों से मेरे! ख़ुद की चाहतों ... Read more

गहराई इश्क की.......

तैरना हम को भी आता हैं गहराई में यारो! पर जाने कैसे डूब गये हम इश्क में उनके! 🍂अनूप एस.🍂 Read more

मेरे महबूब...

साकी ज़िक्र न कर मेरे महबूब का तु मुझसे! मैं यहाँ पर न आता गर वो पिलाते नज़रो से! 🍁-अनूप एस. Read more

दास्ताँ.....

ख़त्म होने को हैं दास्ताँ अपनी तब पैगाम आया तो क्या आया! सिलसिला ख़त्म हुआ तब पैगाम भिजवाया तो क्या भिजवाया! बरसो बरस खड़े रहे स... Read more

गिरफ़्त-ए-लम्स

कड़कड़ाती ठंड में तेरे आग़ोश का नशा चाहिए! उम्र भर तेरे गिरफ़्त-ए-लम्स की सजा चाहिए! 🍁-AnoopS© 30 Nov 2019 गिरफ़्त-ए-लम्स (gri... Read more

वक़्त

गर बदलना चाहते हैं आप वक़्त अपना! फ़िर ज़रा वक़्त को भी तो वक़्त दीजिये! 🍁-AnoopS© 03 Jan 2020 Read more

दौड़

न ही किसी दौड़ में हूँ न किसी होड़ में हूँ! जाने क्यो चन्द लोग हड़बडाये से रहते हैं! #Anoop S Read more

इश्क

इश्क काम नहीं हैं बनियो का......!! इश्क करना हैं तो ज़रा खुल के कर! 🍂-अनूप एस. Read more

बदल न जाँऊ!

जब तक पिघल न जाँऊ और तुझ में ढल न जाँऊ! समा लो मुझको खुद मे जब तक मैं बदल न जाँऊ! 🍂अनूप एस🍂 Read more

रिवाज़

हदें तोड़ दी हैं हमने भी उन से रूठ जाने की! उस ने भी खत्म कर दिया रिवाज़ मनाने का! 🍂-अनूप एस. Read more

तलाश

मेरे वजूद को तलाश न कर कभी मेरे अल्फ़ाजो में! महसूस जितना करता हूँ उतना मैं लिख नहीं पाता! 🍂अनूप एस🍂 Read more

गुनाह

हैं याद मुझ को मेरे सारे गुनाह! एक तो इश्क़ कर लिया! दूसरा आप से कर लिया! तीसरा बेपनाह कर लिया! 🍂अनूप एस🍂 Read more

बेसमझ

बेसमझ ही थे................. तो ठीक था! उलझने ज्यादा हुई तो समझदार हो गए! 🍂अनूप एस🍂 Read more

मदहोश

मैं ख्वाबो की दुनिया में बस खोता चला गया! मदहोश था नहीं पर मदहोश होता चला गया! ना जाने क्या बात थी उस दिलकश चेहरे में! ना चाहते... Read more

बदनाम 2

नाम तो बहुत हैं अपना खुद की गलियों में! बदनाम तो हम सिर्फ़ उन की गलियो में हैं! 🍁अनूप एस🍁 Read more

बदनाम

शब भी होगी ज़रा सूरज तो डूब जाने दो! लौट जाऊंगा ज़रा नाकाम तो हो जाने दो! बहाना ढूँढते हैं सब हमें बदनाम करने का! नाम भी होगा ज़रा... Read more

मेरे सारे गुनाह ...

हैं याद मुझ को मेरे सारे गुनाह! एक तो इश्क़ कर लिया! दूसरा आप से कर लिया! तीसरा बेपनाह कर लिया! 🍂अनूप एस🍂 Read more

कश्ती-ए-ज़िंदगी

गर मौज़े बेरहम हो तो कोई सहारा नहीं मिलता! कश्ती-ए-ज़िंदगी को कोई किनारा नहीं मिलता! सब ख्वाब कुछ इस तरह से ऐसे बिखर जाते हैं! फ़... Read more

चिंगारी बुझा आया हूँ!

भड़की नहीं जो अब तक वो चिंगारी बुझा आया हूँ! फ़ितरत नहीं हैं सुलगने की फ़िर भी सुलग आया हूँ! दलदल से भरी हैं ज़िंदगी मेरी ये वो नह... Read more

मेरी शायरी में तुम हो!

मेरी गज़लो में तुम हो मेरी शायरी में तुम हो! बस हिसाब कर के देखो बे-हिसाब तुम हो! ~अनूप एस. Read more

वफादारी

एक दिन करेगा जमाना हमारी भी कद्र! एक बार ये वफादारी की आदत तो छुटे! 🍁-AnoopS© 15 Dec 2019 Read more

तहज़ीब

तहज़ीब और फ़रमान एक साथ बिकता हैं! यहाँ पर तो टके टके में ही ईमान बिकता हैं! 🍁-AnoopS© 06 Jan 2020 Read more

हैसियत

आजकल वो भी हमारी हैसियत पर सवाल करते हैं! जिनकी शख्सियत भी बिक जाये हमारी हैसियत पर! 🍁-AnoopS© 06 Jan 2020 Read more

जागा हुआ हूँ

जागा हुआ हूँ रात भर का अब मैं भी चलूँ! आ गयी सहर अब अपना घर खुद सँभाले! 🍁-AnoopS© 06 JAN 2014 Read more

नकाब

नकाब का सलीका भी क्या अज़ब कर रखा हैं! खुली निगाहों ने भी तो क्या गज़ब कर रखा हैं! 🍁-AnoopS© 07 Jan 2020 Read more

भूल भुलैया

तेरी मोहब्बत भूल भुलैया का एक जाल हैं! उसमे खो चुका हूँ बस खुद से ये सवाल हैं! निकलना चाहता हूँ बस तेरे इस दिखावे से! मोहब्बत क... Read more

माहौल

मैं दर्द को बस सीने में छुपाये रखता हूँ! अपना माहौल लेकिन बनाये रखता हूँ! मौत तो आयी हैं कई बार मिलने हमसे! मगर मैं उसे बातों म... Read more

अज़ीज़ दोस्त

मेरे कुछ अज़ीज़ दोस्त और शराब! गम के लिये आज़माये हुये हैं ज़नाब! 👏-AnoopS© 21 JAN 2018 Read more

खामोश

आवाज़ नहीं हैं शब्द नहीं हैं बस खामोश सा रहता हूँ! मैं उनकी एक झलक पाने को बस बेताब सा रहता हूँ! 🍁-AnoopS© 21 JAN 2017 Read more

पहचान

वो अपने शहर में न पहचाने ये अलग बात हैं! उनके शहर में अपनी भी तो पहचान बहुत हैं! 🍂-अनूप एस. Read more

आईना

मेरी नज़र में मायने रखते हैं वो मेरे अपने! सामने आईना रखते हैं जो वक़्त आने पर! 🍁- AnoopS© 08 JAN 2020 Read more

चन्दन

लोग कहते हैं तुम्हारी आस्तीन में साँप बहुत हैं! हम करे भी क्या हमारे वज़ूद में चन्दन बहुत हैं! 🍁-AnoopS© 08 JAN 2020 Read more

ढल रहा हूँ मैं!

वक़्त के साथ साथ ढल रहा हूँ मैं! बस ज़रा ज़रा सा बदल रहा हूँ मैं! तन्हा शहर के सूने सूने गलियारे में! बस ख्वाहिशे लेकर चल रहा हूँ ... Read more

फ़रेब

फ़रेब निगाहों में नकाब चेहरे पर होता हैं! ज़रा ज़रा सा तो हर कोई खराब होता हैं! 🍁-AnoopS© 12 JAN 2020 Read more

गम का समंदर

गम का समंदर हैं खुशियो के बीज बोये कैसे! हम ज़िस्म से लगी इस उदासी को धोये कैसे! दूर रहते है तुम से इसलिए याद आती हैं हमे! बेहद ... Read more

खुद की ख़बर!

मुझ को ज़रा भी नहीं हैं खुद की ख़बर! मगर मेरी सारी ख़बर हैं ज़माने भर को! हमे याद कर के तुम ज़रा मुस्कुरा लेना! हम वो हैं जो हँसा... Read more

दीदार

तेरे दीदार को तरस रही हैं जो शब से! वही नज़रे सहर का सलाम कहती हैं! 🍁-AnoopS© 19 JAN 2020 Read more

कारवाँ

चलो कोई तो आया अब हमारा साथ देने! वरना हम तो अकेले चले थे कारवाँ लेकर! 🍁-AnoopS© 18 JAN 2018 Read more

तुम को छूकर

शब गुज़री तो फ़िर से महकती सहर आई! दिल धड़का तो फ़िर से आपकी याद आई! हवा की खुश्बू को महसुस किया साँसों ने! जो तुम को छूकर अभी हमार... Read more

कद्र

कद्र नहीं करता अब यहाँ कोई एहसासो की! फ़िक्र हैं सब को मतलब के ताल्लुकातो की! 🍁-AnoopS 20 JAN 2017 Read more

ज़िद

जीतने की ज़िद हैं खुद से और खुद को ही हराना हैं! नहीं हूँ मैं भीड़ दुनिया की मेरे अंदर एक ज़माना हैं! ~अनूप एस. Read more

मुसीबते

मुसीबते आती ही रहती हैं ज़िंदगी में चौतरफा! सोचना तो सिर्फ़ ये हैं के वापसी कैसे करनी हैं! ~अनूप एस. Read more

उन की आवाज़

बात करते हैं जब भी कभी वो फ़ोन पर हमसे! मैं उन की आवाज़ कम साँसे ज्यादा सुनता हूँ! ~अनूप एस. Read more

सस्ता

सब के लिये हर वक्त मौजूद रह कर! खुद को बहुत सस्ता बना लिया मैने! #AnoopS Read more

कीमती

इतना भी तो कीमती न बना अपने आप को! मैं गरीब हूँ महँगी चीज़ छोड़ दिया करता हूँ! 🍁-AnoopS© 20 JAN 2019 Read more

तलाश

लगता हैं शायद वाकिफ़ नहीं हैं तु मेरी ज़िद से! गर आ जाँऊ अपनी पर तो खुदा भी तलाश लूँ! 🍁-AnoopS 22 JAN 2020 Read more

खूबसुरत

हाँ अब इतना भी खूबसुरत भी नही बनाया खुदा ने हमको! मगर नज़र भर के हम जिसे देख ले उसे उलझन डाल दे! 🍁-AnoopS© 25 JAN 2020 Read more

कारोबार

कारोबार करता हूँ मैं उधार खुशियाँ बाँटने का! वक्त पर कोई लौटाता नहीं इसलिये घाटे में हूँ! 🍁-AnoopS© 27 JAN 2020 Read more

दोनों का रिश्ता

नज़रो से बहुत दुर हैं पर दिल के करीब हैं! मगर उस का मैं हूँ और वो मेरा नसीब हैं! मिला न कभी, न कभी जुदा हुआ मुझ से! हम दोनों का ... Read more

सहर

टूट जाते हैं जब मेरे हज़ारो ख्वाब! तब कहीं जा के एक सहर होती हैं! 🍁-AnoopS© 29 JAN 2020 Read more