कार्य- अध्ययन (स्नातकोत्तर)
पता- रामपुर कलाँ,सबलगढ, जिला- मुरैना(म.प्र.)/ पिनकोड-476229
मो-08827040078

Copy link to share

गणतंत्र

*गणतंत्र* रात गुजारीं जागे जागे, दिवस हजारों खोए हैं। आजादी की वरमाला में, मुण्ड हजार पिरोए हैं। चिंगारी से सोले तक की, श... Read more

गुनगनी धूप

*गीत* कुदरत ने बदला निज रूप। भाने लगी गुनगनी धूप। पत्ते -पत्ते दूब -दूब पर, तुहिन सजे मोती बनकर। कुहरे की जाली से जैसे, धूप ... Read more

मतदान

*मतदाता जागरुकता गीत* हर मतदाता का, मतदान जरूरी है। अपनी जीवन शैली, वोटों से पूरी है। नेता यदि योग्य न चुन, ऐस... Read more

नारी

*नारी* तुम भावों का अनुबंधन हो। तुम नातों का अभिनंदन हो। करुणा श्रध्दा प्रेम सिंधु तुम। जगतीतल का केन्द्र बिन्दु तुम। विश्व... Read more

माँ

सृष्टि नूतन सर्जना माँ। अति मधुर रव गर्जना माँ। अंक आश्रय है अतुल। पीर भी जिसमें प्रफुल। है निडरता की सतह। विश्व भी जिससे फतह। ... Read more

मल्हार

*मल्हार* झूला तो डल गये अमियां की डार पै जी। ऐ जी मेघा रह रह रहे हैं फुहार। पिहु पिहु पपिहा मयूरी लगी नाचने री। आए पिय अँगना बदर... Read more

कुण्डलिया

*कुण्डलिया* सत्कर्मी पूँजी न ही , हृदय राम से प्यार। निरा दंभ भ्रम पाप का ,खर सम ढोते भार। खर सम ढोते भार, काल के हाथों प... Read more

दो मुक्तक

*1* मुद्दत से गुलजार सजाये बैठे हैं। आखों में उम्मीद जगाये बैठे हैं। शायद इस गुल पर भी आ बैठे तितली। हर तितल... Read more

यज्ञारती

* यज्ञारती * ओम जय यज्ञ विभो। स्वामी जय सर्वज्ञ विभो। आर्त पडा चरणों में, मैं अल्पज्ञ विभो। ओम.... दक्षिणा पत्नी तुम्हारी, सप्तम ... Read more

ग्रीष्म गीत

*ग्रीष्म गीत* रिस रही है फिर गगन से, यूँ विरह की आग। तप्त रवि उर -वेदिका पर, कर रहा हो याग। क्षण प्रतिक्षण बढ़ रही है, प्रे... Read more

परशुराम स्तुति

*परशुराम स्तुति* जय परशुराम जमदग्नि सुत जय रेणुका सुख वर्धकं। जय दैत्यवन दावानलं जय शत्रु दंभ विमर्दकं। कर परशु चण्ड शरासनं तलव... Read more

सदा - ए-दिल

***************************************** *गजल* सदा-ए-दिल इजाजत है सितम कर लो मगर... Read more

होली

*दोहे* बढ़ा उँगलियाँ रश्मि की, ऊषा मले गुलाल। सतरंगी क्षिति के हुए, मटमैले अब गाल। मदमाता मौसम हुआ, पी वासंती ... Read more

मौसमी आवारगी है आपसे

मौसमी आवारगी है आपसे। खुशबुओं में सादगी है आपसे। है नजर की जुस्तजू जो एक रू। कुदरतन दीवानगी है आपसे। फूल कलियों चां... Read more

राधास्तुति

*श्री राधास्तुति* श्री राधिके वृषभानुजा घनश्याम चित्त विहारिनी। सुख धाम बरसाने विराजत कीर्ति मंगल दायिनी। गोलोक स्वामिनि नित्य ली... Read more

बाल गीत* हमारा स्कूल*

*स्कूल* स्कूल हमारा मंदिर है, सब आपस में प्यार करें। भाई बहिन यहाँ पर हम सब, सच्चा हम व्यवहार करें। टीचर का सम्मान करें हम, वे भी... Read more

बेटी के आर्त स्वर

*बेटियाँ* मैं भी दुनियाँ देखन चाहूँ ,मुझको भी जिंदा रहने दो। तड़पा दिल ममता को मेरा, मुझको मत तिल-तिल मरने दो।। माँ, भगिनी, पत्न... Read more

दर्द चिर सोत रहा

*विधा- नवगीत* *दर्द चिर सोता रहा* ------------------------------------------------- चाहतें सहमी हुई हैं आ... Read more

तुम आओ तो बात बने

*गीत* *तुम आओ तो बात बने* ***** मीठा हर आघात बने। तुम आओ तो बात बने। आभासी परिवेशों से। चुरा या... Read more

नीति के दोहे

*दोहे* पचा रहे कल्मष कठिन, कलि के भोजन भट्ट। धर्म चीखता रह गया, अद्भुत यह संघट्ट। खाने को जीता जगत, नहीं धर्म से... Read more

मानस

*कुंडलिनी* मानस के हो बिंब तुम, कहाँ छुपाऊँ प्यार, हृदय रखा है सामने, कर लेना स्वीकार। कर लेना स्वीकार, बने मन मेरा पाव... Read more

मानव

मानव आँखें खोल ले, मची देश में लूट, सभी ओर विश्वास की , कड़ी रही है टूट। कड़ी रही है टूट, मिटा भारत का गौरव, अपने ... Read more

ममता

ममता माँ की क्यों न हो, बोलो आज अधीर, जब खुद के सुत खींच दें, माँ के वक्ष लकीर। माँ के वक्ष लकीर, भुलाकर सारी समता, रंच स... Read more

अजनबी सी हवा की लहर हो गयी।

*गीतिका* अजनबी -सी हवा की लहर हो गई। कुछ खफा आज शामो-सहर हो गई। एक वो बेखबर है मेरी प्रीत से। और पूरे जहां को खबर ... Read more

श्री परशुराम आरती

*आरति* आरति परशुराम मुनिवर की। युध्द दक्ष कर फरसा धर की। उग्र नयन दहकत अति ज्वाला। महा तपस्वी देह विशाला। ब्रह्मचर्य ... Read more

*वसंत गीत* ''आ नूतन कर श्रृंगार उषा"

*गीत* कर हर्षित अब संसार उषा। आ नूतन कर श्रृंगार उषा। नभ मंडप में विस्तार वदन। तम का कर सहचर साथ दमन। मृदु सुषमा से महका ... Read more

सरस्वती वंदना

*गीतिका* भाव के शुचि पुष्प लेकर माँ खडे मैं द्वार पर। अब कृपा कर दो भवानी पुत्र की मनुहार पर। मोह के तम से घिरा जीवन भटकता ही... Read more

बेटी जो हँस दे तो कुदरत हँसती है।

*बेटिया* सामाजिक बगिया में, गुल सम रहती है। बेटी जो हँस दे तो, कुदरत हँसती है। चिंताऐं हर रोज जकड़ लेती मन को। पल ... Read more

नहीं क्यों आजमाया जो शिकायत है अभी बाकी।

             . *गजल* नहीं क्यों आजमाया जो शिकायत है अभी बाकी। नजर  बदनाम  है  बेशक शराफत है अभी बाकी। जुबां  खामोश  बैठी  है  य... Read more

तेरे आगोश ने दिलवर

तेरे आगोश  ने  दिलवर  मुझे  जीना  सिखाया  है। मैं   बेजां   था  मैं  वीरां  था  तूने  ही  जिलाया  है। मतीरे -इश्क  में  तेरे  मै... Read more

ए- इंसान तेरे दिल में

ऐ- इंसान  तेरे  दिल  में  गुमान   क्यूँ   है। हकीकत- ए- जहान  से  अनजान क्यूँ है। नश्तर  रहम  भुला  खुद  रूह पर चलाए। फिर क्यों... Read more

दाग नफरत का

*मुक्तक* लिखे अल्फाज कुछ नम जिंदगी की इस कहानी में। बहे जज्बात के सब रंग भी आंखों के' पानी में। धुआं है मुस्कुराहट गुम खुशी दिल स... Read more

आँसू दो चार लिखने हैं।

*गीतिका* अभी भारत की' छाती पर कई उद्गार लिखने हैं। हृदय की टीस के आँसू हमें दो चार लिखने हैं। कभी मतभेद क... Read more

दीपावली

*गीतिका* जिंदगी में भरे प्यार दीपावली। हर्ष का सौम्य उपहार दीपावली। दीप बंधुत्व बन झिलमिलाते रहैं। है तिमिर द्वेष की हार दी... Read more

सुधा सिंधु से तर निकाली हो जैसे

*गीतिका* सुधा सिंधु से तर निकाली हो जैसे। शरद चाँदनी तुम दिवाली हो जैसे। हृदय पुष्प आश्रय सतत पाये जाता।... Read more

देश भक्ति अब दिलों में झिलमिलाना चाहिए।

*गीतिका* देश में दीपक स्वदेशी जगमगाना चाहिए। लोभ से बचकर हमें यह पद उठाना चाहिए। और कितना सोए'गी आत्मा तुम्हारी रात भर। देश... Read more

धर्म निभाता चल

*मुक्तक* सत्य अहिंसा प्रेम धर्म हैं मन से इन्हें निभाता चल। पर जो दंभी कष्ट प्रदायक उनका मान नवाता चल। सब कालों में एक धर्म से न... Read more

रम्य भोर

*मुक्तक* चुनो जो पंथ अनुगम्य हो जाये। प्रेम से हर भूल क्षम्य हो जाये। उर उर्मियाँ परस्पर अवलंब हों। क्षितिज की हर भो... Read more

जीवन के अंश

*मुक्तक* अस्तित्व हीन रहकर भी जो, आश्रय देने वाले हैं। मरते-मरते जीवन के कुछ, अंश उन्होनें पाले हैं। गंध विखेरा करते हैं सुंदरता ... Read more

बातें दिलों की

*मुक्तक* चांदनी रात - की अजनबी हो गयी। आज बातें दिलों की कहीं खो गयी। अब डराने लगी अपनी' परछाइयाँ। जब से' इंसानियत दिल त... Read more

कृपया स्तुति

*मुक्तक* प्रेम पुंज करुणायतन, मुरलीधर चित- चोर। रूप राशि निज दास पर, करो कृपा की कोर। प्यास बढे दर्शन किये, पूर्ण तृप्ति... Read more

सैनिक

*मुक्तक* गद्दारियों के पद तले वे भेंट ही होते रहे। निज कामना के मृत शवों को अंस पर ढोते रहे। बस त्याग बन कर रह गय... Read more

जी दुखता है

*लावणी छंद* जी दुखता है मरते देखा, जब जब सैनिक सीमा पर। धधक रही है ज्वाला मन में, है प्रत्युत्तर धीमा पर। शस्त्र चला द... Read more

संतोष

*कुंडलिनी* वैभव पा कर क्या करे, जब है मृत्यु विराम। खा ले सुख की रोटियां, हो जीवन सुख धाम। हो जीवन सुख धाम, नित्य हों नूतन कलर... Read more

दृग बाण से उर भेद कर

*गीतिका* दृग बाण से उर भेद कर पलकें झुका कर चल दिये। फिर से हृदय में प्रेम का इक ज्वार ला कर चल दिये। मधुमास करता प्रेम का है अंक... Read more

गीतिका

*गीतिका* उम्र बीतती जा रही, भज ले मुरलीधर। छोड जगत की चाकरी, बन हरि का चाकर। वही सत्य शाश्वत अचल, प्रेमार्णव सुखदा। एक व... Read more

हम खरी खरी बोले हैं

*मुक्तक* मन में कपट हाथ में औषधि, आडंबर के चोले हैं। बात कहाँ पक्की करते वे , बार - बार ही डोले हैं। घर जाकर फ... Read more

नयन में उतर जाओ

*मुक्तक* नयन के द्वार से आकर मे'रे उर में उतर जाओ। महक बन प्रेम के गुल की हृदय में तुम बिखर जाओ। सकल - जग- प्राणियों में बिंब तेर... Read more

शिव वंदन

*मुक्तक* भोले तो निश्छल भावों के प्यासे हैं। सुमिरन से पावन करने में गंगा से हैं। भक्तों के शुचि प्रेमामृत की उर्जा से। ... Read more

सावन

*कुंडलिनी छंद* सावन आया देखकर, दादुर भरी छलांग। पोखर के तट ध्यान में, बगुले रचते स्वांग। बगुले रचते स्वांग, झपटते मौका पाकर। ... Read more