शिक्षा- परास्नातक ( जैव प्रौद्योगिकी ) बी टी सी, निवास स्थान- आगरा, उत्तरप्रदेश,
लेखन विधा- कहानी लघुकथा गज़ल गीत गीतिका कविता मुक्तक छंद (दोहा, सोरठ, कुण्डलिया इत्यादि ) हाइकु सदोका वर्ण पिरामिड इत्यादि|

Copy link to share

खिलौना जब बनाया

खिलौना जब बनाया दिल किसी ने किसी का तब रुलाया दिल किसी ने किसी ने प्यार की थपकी लगाई . . ज़फाकर के दुखाया दिल किसी ने सभी मत... Read more

गीतिका

2,2,2,2,2,2,2,2, पदांत किया जाता है समांत आन ------------------------------ मन बलवान किया जाता है भय का दान किया जाता है ... Read more

गज़ल

सभी राज हमसे छिपाए हुए हैं कभी जो थे अपने पराए हुए हैं लबों पे हमारे हंसी तुम ना देखो जमाने से' हम चोट खाए हुए हैं भले वो न ... Read more

"देश मेरा दिव्य पावन धाम है"

>> देश मेरा दिव्य पावन धाम है >> गूंजता हर ओर इसका नाम है >> ~~~~~~ >> जन यहाँ के हैं सरल मन भाव के >... Read more

"मीत मेरे" गीतिका

प्रीति मेरी मीत तेरे नाम है सुबह तुम से ही तुम्हीं से शाम है >> •~~~•~~•~• मैं विरहिनी गीत दुख के गा रही याद में जलना यही ... Read more

मेरे श्याम

हाथ माखन होंठ मुरली . . से सजाया आपने .. नंद नंदन श्याम जग को . . है रिझाया आपने॥ ऐ मदन गोपाल सुनिए... मैं अकिंचन दीन हूँ दीन ह... Read more

हमें जिद है...

लगी है ज़िद तुझे हर हाल में दिल में बसाने की.... मनाने की तुझे तेरी वफा को आजमाने की ... झुकाने को करे चाहे जमाना हर सितम हम पर ... Read more

विरहणी

अक्षर अक्षर नाम तुम्हारे करती हूँ.. जब मैं इस जीवन के पन्ने भरती हूँ.. ~~~~~~~~~~~~~~~ कलियां हों या हों कंटक इन राहों में... बा... Read more