शिक्षा- परास्नातक ( जैव प्रौद्योगिकी ) बी टी सी, निवास स्थान- आगरा, उत्तरप्रदेश,
लेखन विधा- कहानी लघुकथा गज़ल गीत गीतिका कविता मुक्तक छंद (दोहा, सोरठ, कुण्डलिया इत्यादि ) हाइकु सदोका वर्ण पिरामिड इत्यादि|

Copy link to share

छंद कुण्डलिया छंद

""धरती अंबर सज रहे, आया मास वसंत । योगी टेरे योग को, नील गगन में हंस । नील गगन में हंस । स्वर्ग सा लगता ये थल.. भ्रमर हुए मदमस... Read more

ऐसा दूल्हा चाहिए(हास्य )

ऐसा दूल्हा ढूँढना, सुन लो बाबुल बात देय सैलरी हाथ में, मॉल घुमाये रात मॉल घुमाये रात, डिनर प्रतिदिन होटल में माँगू जो ... Read more