आनंद कुमार गुप्ता

पटना, बिहार

Joined February 2018

Author

Copy link to share

खामोश रहो, कि जमाना सुन लेगा

खामोश रहो , की ज़माना सुन लेगा , ये बोलती सी आँखें , सहमी सी नज़र , रहने दो इन अल्फाज़ों को , की ज़माना सुन लेगा। हम तेरी हालत से व... Read more

पापा,मुझे मत मारो। (गर्भ मे एक बेटी का दर्द)

एक बाप अपने बेटी की गर्भ में हत्या कराना चाहता है तो सुनिए उस बेटी के मुख से क्या निकलता है “ पापा मुझे मत मारो, मै भी तो आपके इस प्... Read more

प्यार

प्यार, तो मुझे आपसे आज भी है लेकिन, अब आपको पाने की चाहत खत्म हो गई है। Read more

शौक

शौंक नहीं है मुझे अपने जज़्बातों को यूँ सरेआम लिखने का … मगर क्या करूँ , अब जरिया ही ये है तुझसे बात करने का Read more

नजरे

न जाने आपकी नजरें मे ऐसी कया जादु है जब भी देखता हू, दिल मे आपके चेहरे नजर आते है। Read more

मोहब्बत, एक खुदा

मेरी मोहब्बत को साहिब, यूँ रुस्वा न कीजिए, पाक मेरी मोहब्बत, एक खुदा की तरह है। Read more

अश्क आखे

अश्क आँखों को निशानी दे गया गम की दरिया को रवानी दे गया| फूल दामन में मेरे, वो भर सभी अपने' सब,यादें पुरानी दे गया| हम तरसते ही ... Read more

लम्हे

लम्हे ये सुहाने साथ हो न हो, कल में आज ऐसी बात हो न हो, आपसे प्यार हमेशा दिल में रहेगा, चाहे पूरी उम्र मुलाकात हो न हो। Read more

वजूद शायरी

दुनिया तेरे वजूद को करती रही तलाश, हमने तेरे ख्याल को दुनिया बना लिया। Read more

यू डूबे याद मे तेरी

यूं डूबे याद मैं तेरी मुहब्बत करके ओ जाना हमें अब और कोई गहराइयाँ अच्छी नही लगती तुम्हें ही याद कर कर के यूं आहें भरा करते तुम्हर... Read more

अब तो खूद से कह लेते है।

दिल की बातें दिल से कह लूँ अपनो से कहना मना है किससे कहूँ कौन सुनेगा सब की अपनी दुनियाँ है कहने को तो रिश्ते है नाते सुनने व... Read more

पश्चाताप के आसू

वो पश्चाताप के आँसू थे, दामन भिगो जाते मेरा। जितने घाव दिए तुमने, निःस्वार्थ भाव से सेवा का, वो पुरस्कार था मेरा। आदर और सम्मान... Read more

हमेशा सकारात्मक सोच रखे

पुराने समय की बात है, एक गाँव में दो किसान रहते थे। दोनों ही बहुत गरीब थे, दोनों के पास थोड़ी थोड़ी ज़मीन थी, दोनों उसमें ही मेहनत करके... Read more

तुम्हें, हम इतना प्यार करते है

बदलना आता नही हमे मौसम की तरह हर एक रुत में तेरा इंतज़ार करते है ना तुम समझ सकोगे जिसे कयामत तक कसम तुम्हारी तुम्हे हम इतना प्य... Read more

नजरे

हा, वो दिन मुझे याद है जब आपकी नजरे ने मेरे नजरे को मिलाया था, दिलो मे प्यारका एहसास जो जगाया था। आपकी निगाहें है बहुत कातिल, ... Read more

मेरे ख्वाबो के झरोखो को सजानेवाली

मेरे ख्वाबों के झरोकों को सजाने वाली तेरे ख्वाबों में कहीं मेरा गुज़र है कि नहीं पूछकर अपनी निगाहों से बतादे मुझको मेरी रात... Read more