Ananya Shree

Joined January 2017

प्रधान सम्पादिका “नारी तू कल्याणी हिंदी राष्ट्रीय मासिक पत्रिका”

Copy link to share

मैं तुम्हारी हूँ चिरैया....

?करुण गीतिका? मैं तुम्हारी हूँ चिरैया, नेह मुझपे वारना! गर्भ में मैं पल रही हूँ, माँ मुझे मत मारना! जन्म जब पाऊँ धरा पे, नाम ऊँचा... Read more

उतर आई ज़मी पर चाँदनी.....

उतर आई ज़मी पर चाँदनी सज कर जरा देखो! खिली मैं चाँद के जैसी सजन पागल हुआ देखो! बने मेरा मुकद्दर वो यही बस आरजू मेरी! ख़ुदा का शुक... Read more

प्रेम में मीरा बनी मैं

1=गीतिका छंद प्रेम में मीरा बनी मैं, प्रेम में ही राधिका! प्रणय करती हूँ कभी मैं, अरु कभी हूँ साधिका! होंठ से जब जब लगूँ मैं, ब... Read more

"आँखों आँखों में बात होने दो"

आँखों ने कहा कुछ आँखों से आँखों आँखों में बात हुई यूँ बोल उठी सुन साजना अब तो ये आँखें चार हुई आँखों में बसते बसते तुम अब प्री... Read more

हाय लगेगी तुमको प्रियतम

?"रुबाई छंद"? हाय लगेगी तुमको प्रियतम, मेरे दिल को मत तोड़ो। रात रात भर जागोगे फिर, अखियाँ मुझसे यदि मोड़ो। भूख प्यास सब उड़ जायेग... Read more

रोज़ लिखती हूँ

रोज लिखती हूँ नए छंद नई रुबाई मन के उद्गार और भीगी हुई तन्हाई हूँ कलमकार डुबोती हूँ जब भी खुद को भाव लेती हूँ वही होती जहाँ गहराई... Read more

यही है हकीक़त

कहीं झूठ है बेबसी और कहीं लाचारी है भष्टाचारी की थाली में उन्नति बनी बीमारी है लेन देन की बात चली है दुखिया का सर्वस्व छली है ... Read more

लो मिलन की रात आई

?मनोरम छंद? लो मिलन की रात आई! प्रेम की बरसात लाई! भीगतें हैँ तन हमारे! साजना तुमको पुकारें! चाँदनी छुपने लगी है! सेज भी स... Read more

हम भी तो तुम्हारी बेटी है

मत फूँको लोभी दहेज के हम भी तो तुम्हारी बेटी हैं हाथों में लगी प्यारी मेहँदी मत उनको छालों में बदलो हल्दी का उबटन खूब लगा ... Read more

पगली

?मनोहर छंद? ढाकती थी तन दिवानी! मोल जीवन का न जानी! लोग पत्थर मारते थे! हर समय दुत्कारते थे! रूप नारी का बनाया! बोध तन का ... Read more