Ananya Jamaiyar

Joined November 2018

Copy link to share

बेटी

बेटी पथिक हूँ मैं राहों की ,पर चुभन हूँ निग़ाहों की। हूँ मैं कुदरत की सबसे नाज़ुक ,सबसे अनमोल रचना। आँगन की फ़ुदकती सी चिड़िया, माँ प... Read more

माँ

‌ ‌माँ तुम मेरी प्रेरणा हो, पापा की सुन्दर कल्पना हो । हमरे जीवन का तुम हो आधार , क़ुदरत का हो एक अनुपम उपहार। ज... Read more