Amrit Sagar Rohit

Chhapra

Joined November 2018

Student of Allahabad University&Dhyey ias,
Cadet in N.C.C & N.S.S

Copy link to share

किसानों की समृद्धि का लक्ष्य

भारत एक कृषि प्रधान देश है यहां की 60% से अधिक आबादी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कृषि पर निर्भर है। परंतु ढांचागत व्यवस्था में कम... Read more

आरक्षण की राह और चुनौतिया

संविधान सभा से लेकर संसद तक आरक्षण एक ऐसा ज्वलंत मुद्दा है जो हमेशा विवादों के घेरे में रहा है। क्योंकि इससे सरकारी संस्थाओं की गुणव... Read more

जन गण मन की बात

बचपन में जब हम अपनी तोतली आवाज में "दण गन मन अदिनायत दय हे।" गाते तो माता-पिता का मन हर्ष से प्रफुल्लित हो जाता था जिसे गाने के बाद ... Read more

कल्याणकारी राज्य की प्रसंगिकता पर सवाल उठाना गलत

बीते दिनों कुछ अर्थशास्त्रियों ने कल्याणकारी राज्य की प्रासंगिकता पर सवाल उठाते हुए उस की समाप्ति की बात कही है। कल्याणकारी राज्य ... Read more

पड़ोसियों से दूर होता है देश

देश नीति को नई धार देने के लिए प्रधानमंत्री ने लगभग 52 देशों की यात्रा की परिणाम स्वरूप विश्व के अन्य देशों के साथ हमारे संबंध प्रगा... Read more

क्या मिला

ना मा की ममता मिली, ना पिता का प्यार मिला। कहीं भ्रूण हत्या तो कहीं... कुपोषण का उपहार मिला।। ना वो शिक्षा मिली, ना वो लाड मि... Read more

संप्रदायिकता का भेंट चढ़ती हमारी एकता

भारत को समस्त विश्व में एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र के रूप में जाना जाता है और भारत ने ही विश्व को अनेकता में एकता एवं वसुधैव कुटुंबकम क... Read more

बच्चों को आत्म विकास का अवसर दें

भगवान श्री कृष्ण ने कहा था कि कलयुग में माता पिता का प्यार अपने बच्चों के प्रति इस कदर बढ़ जाएगा कि उन्हें अपने विकास का अवसर ही नही... Read more

काश मैं एक बेटी का पिता होता

मेरी डायरी मेरा अनुभव मैं अक्सर ही अपने छात्रावास के समीप स्थित अल्फ्रेड पार्क में दौड़ने जाता हूं दौड़ने के बाद वहीं बैठ छोटे-छोट... Read more

निरक्षरता की भेंट चढ़ती भारत की राजनीति

कागज के पन्नों पर तो देश की 75% आबादी साक्षर हो चुकी है पर यह तथ्य वास्तविकता से कोसों दूर नजर आता है स्वतंत्रता के 70 वर्षों के बाद... Read more

मेरी सबसे प्यारी दोस्त

मेरी डायरी का कुछ अंश* कुछ दिन पहले की बात है…मैं बाजार के लिए निकला कुछ दूर चलने के बाद मेरे कदम ठिठक गए और मैं उसे देखता रह गया... Read more