अमित मिश्र

नोंगस्टाइन वेस्ट खासी हिल्स मेघालय

Joined October 2017

अमित मिश्र
शिक्षा – एम ए हिंदी, बी एड , यू जी सी नेट

पता- 73 नारायण नगर
जनपद हरदोई (उत्तर प्रदेश)
जवाहर नवोदय विद्यालय वेस्ट खासी हिल्स मेघालय में कार्यरत ।
मोबाइल नंबर 9838449099
ई मेल amitkumarmishra0001@gmail.com

Copy link to share

मुक्तक

तुम नहीं हो तो मन का मनन व्यर्थ है, सारे जीवन की आशा दमन व्यर्थ है। मेरे जीवन का झरना है सूखा पड़ा, निर्झरी बन के आओ तो कुछ अर्थ ह... Read more

"जरूरत सोंच बदलने की"

देखा मैंने एक दिन, समाज को करीब से, देखी लोगों की भावनाएं, और जिम्मेदारियाँ | हर कोई लगा है कम करने में, अपनी जिम्मेदारी , जी चुर... Read more

"मुक्तक"

बैठ कर नीर की धारा किनारे कुछ विचारूं मैं सुनूं समझूं मगर फिर भी तुम्हे ही क्यों पुकारूं मैं मेरे अस्तित्व के वाहक बने हो तुम प्र... Read more

मां

मां की ममता तन में मेरे ,मां जीवन का सार है, कष्ट कभी जो पड़े पुत्र पर,मां जीवन उद्धार है। खुद कष्टों को सह लेती है,मुख से उफ़ न कहत... Read more

"अंतस की आवाज"

वक्त बे वक्त तुम याद आओ नहीं , मन के अंतस को यूं तुम सताओ नहीं । कर दिया जब समर्पण मेरे मौन ने , बुझ गई जो समा फिर जलाओ नहीं ।। ... Read more

स्मृति की रेखाओं से (काव्य)

मेरे इस सूने मन में, तुमने ही दीप जलाए। इक आभा मन में देकर, हो शून्य क्षितिज में छाए।। मैं पा न सका था तुमको, रह गई तम्मना बा... Read more

विलक्षणताओं से भरी मेघालय की खासी पहाड़ी

आज मुझे यहाँ रहते लगभग तीन वर्ष पूरे हो चुके हैं ।यहाँ की प्राकृतिक छटा से अब अंतर्मन का गहरा रिस्ता सा बन गया है। पहाड़,नदियाँ, झरनो... Read more

"छिपकली दीवार की"

मकान के दूसरे मंजिल का कमरा जो बिलकुल किनारे पड़ता है ,कमरे की एक खिड़की बाहर की तरफ खुलती है | जिससे सड़क पर आने जाने वालों की सारी हल... Read more

"मौन"

मनुज का शस्त्र बन जाए, तो फिर इतिहास रचता है, हिमालय से भी ऊंचे राज को दफ़ना के रखता है | सुदर्शन राह बदले,या कि गंगा ही मुकर जाए ,... Read more

"नारी के स्वरूप"

उन्मुक्त पवन में मुझे देख , चुम्बन अर्पित करने वालों | मेरी छवि की इस सरिता पर , न्योछावर तन करने वालों | सोलह सिंगार से रची हुई... Read more

"दिल बहता तब बनती कविता"

दिल बहता तब बनती कविता दिल बहता तब बनती.... शब्द निकलता पीर सहारे , अस्क के मोती भरता भरता , दिल बहता तब बनती ........ म... Read more

" शिक्षक हूँ मैं "

********************* शिक्षक हूँ मैं , हमें सोंच कर उठना है सोंच कर बैठना है समाज में हमें, खड़े होने का सलीका भी सीखना है पग... Read more

" समय की शिला पर "

****************************** ****************************** समय की शिला पर मधुर चित्र कितने , किसी नें बनाए किसी नें मिटाए | क... Read more

"स्वप्निल आभा"

💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 मदयुक्त भ्रमर के गुंजन सी, करती हो भ्रमण मेरे उर पर। स्नेह भरी लतिका लगती , पड़ जाती दृष्टि जभी तुम पर।। अवयव क... Read more

"एक तरफ तुम हो रस है"

प्रिये तुम्हारी यादों को मैं, वंदन करके झूम गया। खत लिखकर मैंने फिर उसका, अक्षर अक्षर चूम लिया।। याद हुई अगणित वह बातें, जो सपन... Read more

"रूचि"

रुचि! एक अविस्मरणीय तोहफा जिसे पाकर न रहता शेष कुछ बाकी । सागर की असीम गहराइयों जैसी हृदय की गहराइयों से उमड़ पड़ती है उमंग... Read more

"आज के विद्यार्थी"

जिन्हें जाना था विद्यालय, वो मदिरालय को जाते हैं। जिन्हें गाना था जन गण मन, वो फ़िल्मी गीत गाते हैं।। बिछा सकते नही जो, प्रेम की... Read more

आँखों का रिस्ता

कैसा रिस्ता आंखों का, है विदित सभी को ही यह। जुड़ता आकाश शब्द सा, जीवन की सरिता से यह।। यह अंजन रेखा काली, देती है मुझे निमंत्... Read more

सही समय की पहचान ही बदलाव का नया रास्ता

समय की पहचान आज के युग में बहुत बड़ी आवश्यकता बन गयी है जो समय के साथ नही चला वह पीछे ही नहीं विकास की मुख्य धारा से भी कट जाएगा , क्... Read more

"अपनी परंपरा और पीढ़ी को नजरंदाज कर रहे आज के युवा"

आज हम जिस समाज में रहते हैं उसे पढ़े लिखे सभ्य समाज की उपमा दी जाती है। हमारा हर काम सोच समझकर पूरे निरीक्षण परीक्षण के साथ सम्पन्न ह... Read more

भारत माँ की पुकार

जब दहक उठा सीमांत, पुकारा मां ने शीष चढ़ाने को । नौ जवां लहू तब तड़प उठा , हँसंते हँसते बलि जाने को ।। गरजे थे लाखों कंठ , आज ... Read more

"एक सुबह मेघालय की"

??????????? व्यथित मन के झरोखों से, घुटन तिल तिल के छटती है। यामिनी तम से काली हो, मगर पल पल पे छटती है। उषा की ज्योति की लाली... Read more

बच्चों को समय की ज़रूरत

आज व्यस्ततम जीवन में किसी के पास समय नही है। समय वह चीज बन गया है जो गरीब से लेकर अमीर तथा छोटे से लेकर बड़े सभी के पास कम है। कभी-कभ... Read more

मौन (शांत)की ताकत

मौन की शक्ति पर खुद से, कभी व्याख्यान न होता । दिशाएँ मौन ही रहती, मनुज गर शांति ब्रत करता।। महादुर्धश समर इतना , कभी विकराल... Read more

नीड़ का निर्माण

बीज बनकर नीड़ में तुम, वृक्ष का निर्माण कर दो ।। व्यथित ब्याकुल वीथियों में , प्यार का संचार कर दो ।। बचपने से राजकुल में , जी... Read more

वृक्ष हमारे जीवन का आधार होते हैं।

"वृक्ष हमारे जीवन का आधार" वृक्ष हमारे जीवन का सबसे बड़ा आधार होते है । वृक्षों से हमे न केवल स्थूल लाभ मिलते है बल्कि विभिन्न प्रका... Read more